तालाब की पार पर बनी सड़क में हुआ गड्ढा!

 

 

धसक गये पाईप, बढ़ता जा रहा है सुराख का दायरा

(अखिलेश दुबे)

सिवनी (साई)। भारतीय जनता पार्टी शासित नगर पालिका परिषद की बेढंगी चाल सुधरने का नाम ही नहीं ले रही है। शहर की शान दलसागर तालाब के लबालब होते ही इसके गेट बमुश्किल खुल पाये तो वहीं दूसरी ओर मंगलवार की रात में ही बस स्टैण्ड से भैरोगंज जाने वाले मार्ग पर एक बड़ा गड्ढा हो गया।

ज्ञातव्य है कि रविवार 08 सितंबर को दिन में और रविवार एवं सोमवार की दरमियानी रात जमकर बारिश हुई। इस दौरान जिले में 313.4 मिली मीटर बारिश दर्ज की गयी, जो प्रदेश में इस दिन का सर्वाधिक आंकड़ा रहा। सिवनी की बारिश को देश प्रदेश के समाचार पत्रों ने प्रमुखता के साथ स्थान दिया।

इस बारिश के चलते शहर की शान दलसागर तालाब में भी पानी की आवक बढ़ने के साथ ही इससे पानी की निकासी के इंतजाम किये गये। देर रात दलसागर से भैरोगंज और परतापुर वाले हिस्से में अनेक घरों को खाली करवा दिया गया था। मंगलवार को दिन में पानी की निकासी दलसागर तालाब से आरंभ की गयी थी।

मंगलवार की रात में ही दलसागर तालाब को बांधकर उस पर से बनायी गयी रोड पर एक बहुत बड़ा गड्ढा हो गया। यह देखकर अधिकारियों के हाथ पैर फूल गये। रात में लगभग पाँच फीट चौडे और आठ फीट लंबे गड्ढे के पास से आवागमन न हो सके इसके लिये प्रशासन के द्वारा स्टॉपर लगाकर आवागमन को रोका गया।

बुधवार की सुबह से ही नगर पालिका का तकनीकि अमला इस गड्ढे को भरने के जतन करने में लगा रहा। पालिका के तकनीकि प्रभाग के सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि दलसागर तालाब में निश्चित मात्रा में पानी भरने के उपरांत पानी की आवक होने पर पानी की निकासी के लिये यहाँ लगभग छः फीट व्यास वाले सीमेंट के तीन चार पाईप डाले गये थे।

सूत्रों का कहना था कि इसमें से दूसरे नंबर वाले पाईप के नीचे का मेटेरियल बह जाने के कारण यह पाईप लगभग छः फीट नीचे खिसक गया, जिसके कारण यह गड्ढा हुआ था। यहाँ से पानी का स्त्राव रोकने के लिये प्लास्टिक की बोरियों में रेत डालकर इसे भरने का प्रयास दोपहर तक जारी रहा। दिन में इस गड्ढे का सतही व्यास बढ़ता दिख रहा था।

यहाँ यह उल्लेखनीय होगा कि यह सड़क दशकों से बस स्टैण्ड से उपनगरीय क्षेत्र भैरोगंज को जोड़ने का काम करती आयी है। इस सड़क के नीचे भराव सदा ही बहुत मजबूत रखा जाता रहा है। सालों की मांग के उपरांत इस साल 03 अप्रैल को ही इस सड़क पर डामरीकरण भी किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *