‘भ्रष्ट पटवारी’ वाले बयान पर पटवारी संघ ने की बेमियादी हड़ताल

 

 

 

 

(ब्‍यूरो कार्यालय)

भोपाल (साई)। मध्य प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के पटवारियों को लेकर दिए गए बयान पर बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है।

मंत्री और पूर्व मुख्यमंत्री के बयान से आहत पटवारी संघ ने आज से बेमियादी हड़ताल शुरू कर दी है। अलग-अलग जिलों में पटवारियों ने अपने हल्के के बस्ते जमा कराने भी शुरू कर दिए हैं। इसके चलते राजस्व और जमीन संबंधी मामले अटक सकते हैं।

बुधवार को ही संघ के प्रांताध्यक्ष उपेंद्र सिंह बघेल ने इसकी घोषणा की थी। उन्होंने कहा था कि, पूरा पटवारी संघ मंत्री जीतू पटवारी और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के बयानों से आहत है। अगर वो माफी नहीं मांगेगे तो पटवारी संघ काम बंद कर देगा। इसी कड़ी में आज से पटवारियों ने काम बंद कर दिया है।

पिछले हफ्ते अपने विधानसभा क्षेत्र के रंगवासा गांव में हुए आपकी सरकार-आपके द्वार कार्यक्रम के दौरान प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री की पटवारियों को लेकर पीड़ा सामने आई थी। उन्होंने हजारों की तादाद में मौजूद किसानों और कलेक्टर के सामने ये कहा था कि, सौ फीसदी पटवारी रिश्वत लेते हैं। बिना पैसे पटवारी कोई भी काम नहीं करते हैं। मेरा नाम में भी पटवारी जुड़ा है। इसलिए उनकी इस तरह की हरकतों से मेरा नाम भी बदनाम होता है।

मंत्री पटवारी यहीं नहीं रुके उन्होंने कहा कि, पटवारियों से कितनी भी मिन्नतें कर लो, लेकिन वो मानते नहीं है। उन्होंने किसानों से भी अपील की थी कि वो पैसा देकर गलत कर रहे हैं। जितना दोषी रिश्वत लेने वाला है, उतना ही देने वाला भी होता है। ऐसे में किसानों को लड़ना चाहिए और अपनी बात जनप्रतिनिधियों तक पहुंचानी चाहिए।

उनके इस बयान पर मचा बवाल अभी ठंडा भी नहीं पड़ा था कि पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने उनके इस बयान पर सहमति जताते हुए पटवारियों को भ्रष्ट बताया था। बुधवार को हुए एक कार्यक्रम में पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा था कि बिना रिश्वत पटवारी कोई काम नहीं करते हैं।

उनके इस बयान से पटवारियों का गुस्सा और बढ़ गया और पटवारी संघ ने ये फैसला किया कि जब तक मंत्री और पूर्व मुख्यमंत्री अपने बयान पर सार्वजनिक रूप से माफी नहीं मांगते, तब तक वो काम नहीं करेंगे। इसी सिलसिले में पटवारी अपने बस्ते जमाकर बेमियादी हड़ताल पर चले गए हैं।