बड़ी मूर्तियों का क्रेन से तो छोटी मूर्तियों का विसर्जन कुंड में किया जाए

 

 

 

 

संभागायुक्त ने दिए निर्देश

(ब्यूरो कार्यालय)

भोपाल (साई)। शहर के खटलापुरा घाट पर गणेश विसर्जन के दौरान हुई 11 लोगों की मौत के बाद दुर्गा उत्सव को लेकर शासन-प्रशासन सर्तक हो गया है।

रविवार को जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने खटलापुरा घाट का निरीक्षण किया तो संभागायुक्त कल्पना श्रीवास्तव ने अधिकारियों की कंट्रोल रूम में बैठक भी ली। इस दौरान उन्होंने कहा कि अब लापरवाही बर्दास्त नहीं की जाएगी। विसर्जन नगर निगम के विशेषज्ञ ही कराएं। घाटों पर सभी व्यवस्थाएं में कमी नहीं होनी चाहिए। बैठक में कलेक्टर तरुण पिथोड़े व डीआईजी इरशाद वली समेत कई अधिकारी मौजूद थे।

संभागायुक्त ने कहा अधिकारियों से कहा कि किसी को भी पानी में न जाने दिया जाए। छोटी मूर्तियों को कुंड में और बड़ी मूर्तियों को क्रेन से विसर्जन किया जाए। एसडीआरएफ प्रमुख दिनेश चंद्र सागर ने कहा कि सभी अधिकार कंधे से कंधा मिलाकर फील्ड में रहेंगे, तो हर काम बेहतर तरीके से होगा। अब से हर पुलिस मोबाइल में लाइफ जैकेट, रस्सी, लाइफ बाल, टार्च रखी जाएगी। जिससे जरूरत पड़ने पर उसका उपयोग हो सके। सभी विसर्जन स्थलों पर होमगार्ड्‌स और एसडीआरएफ के प्रशिक्षित लोग विसर्जन समाप्ति तक रहेंगे।

मंत्री पीसी शर्मा ने किया खटलापुरा घाट का निरीक्षण

दुर्गा उत्सव को देखते हुए मुर्ति विसर्जन की तैयारियों को लेकर मंत्री पीसी शर्मा ने घाटों का निरीक्षण किया। इस दौरान अधिकारियों ने उन्हें बताया कि नई व्यवस्था के हिसाब से अब लोग मूर्तियों को तालाब से बाहर प्रशासन को सौंप देंगे। फिर प्रशिक्षित अमले द्वारा के्रन के माध्यम से मूर्ति को तालाब में विसर्जित करेगा। इस मौके पर विधायक आरिफ मसूद, एडीजी डीसी सागर, संभागायुक्त कल्पना श्रीवास्तव, आईजी आदर्श कटियार, कलेक्टर तरुण पिथोड़े, निगम आयुक्त विजय दत्ता, डीआईजी इरशाद वली मौजूद रहे। मंत्री ने विसर्जन घाट एवं उसके पहुंच मार्गों पर साफ-सफाई, लाइटिंग, सुरक्षा के सभी प्रबंधों को समुचित ढंग से सुनिश्चित करने सहित पेयजल आदि की व्यवस्था करने के निर्देश दिए।

भाजापा जिलाध्यक्ष ने कहा – आप लोग मनमनी पर उतारू हैं

निरीक्षण के दौरान भाजपा जिलाध्यक्ष विकास विरानी भी कार्यकर्ताओं के साथ मौके पर पहुंच गए। उन्होंने दुर्गा प्रतिमाओं के विसर्जन पर लगाई रोक को लेकर आपत्ति दर्ज कराई। विरानी का कहना था कि बड़ी मूर्ति कहां विसर्जित की जाएंगी। कलेक्टर ने बताया कि कुंड बनाए गए हैं, यहां पर मूर्तियों को विसर्जित किया जा सके। इस पर विरानी ने कहा कि यहां डेढ़ सौ प्रतिमाएं आती हैं। कुंड में विसर्जन संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि यदि प्रशासन व्यवस्था नहीं कर सकता तो हम व्यवस्था के लिए तैयार है।

900 से अधिक बड़ी मूर्तियों का विसर्जन क्रेनों से होगा

बैठक में कलकेटर तरुण पिथोड़े ने कहा कि सभी अधिकारियों की 8-8 घण्टे की ड्यूटी स्थलों पर लगाई गई है। जब तक रिलीवर नहीं आता, तब तक कोई भी स्थल नहीं छोड़ेगा। मजिस्ट्रेट के साथ लोक निर्माण विभाग, एमपीईबी और नगर निगम के अधिकारी संयुक्त रूप से डयूटी वाली जगहों पर तैनात रहेंगे। सभी स्थलों पर गोताखोर रहेंगे। नाव से मूर्ति विसर्जन नहीं होगा। भोपाल में करीब 900 से अधिक बड़ी मूर्तियों का विसर्जन क्रेनों के माध्यम से होगा। रावण दहन स्थलों पर भी सुरक्षा के सभी इंतजाम किए गए हैं। फायर बिग्रेड और एम्बूलेंस की व्यवस्था की गई है।

कैमरे से होगी विसर्जन की निगरानी

बैठक में डीआईजी इरशान वली ने कहा कि थानों पर समिति के सदस्यों की बैठक हो चुकी है। सुरक्षा के लिए सभी जगह पुलिस बल तैनात रहेगा। विसर्जन जुलूस के समय मार्ग प्रतिबंधित करने के लिए पड़ोसी जिलो के साथ समन्वय किया गया है। सभी विसर्जन स्थलों पर सुरक्षा के लिए बेरिकेटिंग कराई जा रही है। कैमरे की निगरानी में विसर्जन होगा। सोशल मीडिया पर अफवाह और गलत सूचना फैलाने वालों पर निगाह रखने पुलिस की सोशल मीडिया विंग तैयार की गई है।