100 करोड़ का आसामी निकला सहायक आबकारी आयुक्त

 

 

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

भोपाल (साई)। मध्यप्रदेश में मंगलवार सुबह से ही छापे की बड़ी कार्रवाई से हड़कंप मचा हुआ है।

लोकायुक्त की 12 टीम की करीब 70 से अधिक सदस्यों ने प्रदेश के इंदौर में दो, छतरपुर में एक स्थान पर, रायसेन जिले में दो स्थानों पर और भोपाल में भी दो स्थानों पर छापा मार कार्रवाई की है। यह कार्रवाई इंदौर में पदस्थ सहायक आबकारी आयुक्त आलोक कुमार खरे पर की गई है।

लोकायुक्त की टीम को इस कार्रवाई में दोपहर तक करीब 100 करोड़ से अधिक की संपत्ति का पता चला है। सूत्रों के मुताबिक यह आंकड़ा प्रारंभिक जांच में सामने आया है, अभी और खुलासा होना बाकी है।

अकूत संपत्ति का मालिक निकला

इंदौर के पॉश इलाके में दो बंगले मिले हैं। जबकि तीन किलो सोना होने की भी सूचनाएं आ रही हैं।

भोपाल के चूना भट्टी बाग मुगालिया क्षेत्र में दो बड़े-बड़े बंगले मिले हैं। इसके अलावा कोलार में भी एक फॉर्म हाउस मिला है।

रायसेन में लोकायुक्त की टीम को दो फार्म हाउस मिले हैं। इनमें से एक फार्म हाउस 35 एकड़ क्षेत्र में फैला हुआ था। दोनों ही फार्म हाउस महलों की तरह लग रहे थे।

सभी ठिकानों पर मिलाकर एक दर्जन से अधिक लग्जरी गाड़ियां मिली हैं।

इंदौर के बंगले से 10 लाख रुपए और रायसेन के फार्म हाउस से पांच लाख रुपए मिले हैं।

छतरपुर में जो मकान मिला है उसकी कीमत भी करोड़ों रुपए में है।

ऐसी भी जानकारी मिली है कि छतरपुर वाले मकान से फारेन करंसी भी मिली है।

रायसेन के फार्म हाउस में तो लोकायुक्त टीम हैरान रह गई। यह फार्म हाउस किसी महल की तरह थे।

इंदौर में ग्रेंड एक्सओटिका समेत एक अन्य पॉश इलाके में भी बंगला है, जहां ताला लगा हुआ था।

इंदौर के सहायक आबकारी आयुक्त नरेश चौबे के ट्रांसफर के बाद भोपाल से सहायक आबकारी आयुक्त आलोक खरे को इंदौर सहायक आबकारी आयुक्त की जिम्मेदारी दी गई थी।

रायसेन में कृषि भूमि भी मिली।

छतरपुर के मकान से 30 तोला सोना मिला।