पानी की टंकी का कॉलम कर दिया तिरछा!

 

विपरीत दिशा में बिछा दी पाईप लाईन

(शेख जाहिद)

कुरई (साई)। जिले के ग्रामीण अंचलों में मुख्यमंत्री पेयजल योजना के तहत लाखों रूपये की लागत से टंकी निर्माण एवं पाईप लाईन का विस्तार कर रही गुजरात की कंपनी द्वारा भारी गड़बड़ी की जा रही है।

जिले के 13 ग्रामीण क्षेत्रों में निर्माण कार्य कर रही कंपनी ने कुरई के पिपरिया गाँव में एस्टीमेट के विपरीत पाईप लाईन बिछा दी है। वहीं निर्माणाधीन पानी की टंकी का कॉलम तिरछा कर दिया है। दूर से ही टंकी का यह कॉलम टेढ़ा दिखायी दे रहा है।

50 हजार लीटर क्षमता की टंकी, कॉलम बना दिया टेढ़ा : कुरई के पिपरिया गाँव में पानी की जरुरत को पूरा करने के लिये 50 हजार लीटर क्षमता की पानी टंकी का निर्माण पीएचई विभाग द्वारा कराया जा रहा है। इसका निर्माण कार्य गुजरात की कंपनी द्वारा मनमाने तरीके व लापरवाही पूर्वक किया जा रहा है।

इसका जीता जागता उदाहरण 50 हजार लीटर की क्षमता की निर्माणधीन पानी की टंकी है। पानी की टंकी का एक कॉलम नीचे से ऊपर तक टेढ़ा नज़र आ रहा है, जबकि दूसरे कॉलम नीचे से ऊपर तक एक से नज़र आ रहे हैं। ग्रामीणों सहित हर एक व्यक्ति को कॉलम तिरछा दिखायी दे रहा है सिवाये कंपनी के इंजीनियर को जिसे अपनी ही लापरवाही व खामियां नज़र नहीं आ रही है। 50 हजार लीटर की क्षमता वाली इस टंकी का निर्माण कार्य लगभग 08 लाख रूपये की लागत से किया जा रहा है।

तीन फीट की जगह दो एवं ढाई फीट में डाल रहे पाईप लाईन : विभागीय सूत्रों की मानें तो ग्रामीणों को पानी मुहैया कराये जाने के लिये गाँव में तीन फीट की गहरायी में पाईप लाईन बिछायी जाना है जो कि एस्टीमेट भी है लेकिन गुजरात की कंपनी द्वारा 3390 मीटर पाईप लाईन को दो से ढाई फीट में ही डाल दी गयी है। कई जगह तो उससे भी उथले में पाईप लाईन बिछा दी गयी है।

गहरे में पाईप लाईन बिछाने का दावा : हालांकि गुजरात कंपनी के इंजीनियर तिवारी व कर्मचारी तीन फीट गहरे में पाईप लाईन बिछाये जाने का दावा कर रहे हैं। हालांकि पाईप लाईन में पाईप में गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखा गया है। विभागीय जानकारी अनुसार एचडी पाईप भोपाल से टेस्टेट होने के बाद लगाये जा रहे हैं।