कियोस्क संचालक पर लगाये पैसे निकालने के आरोप!

 

 

अनेक शिकायतों के बाद भी कार्यवाही नहीं होने से कियोस्क संचालकों के हौसले बुलंद

(ब्यूरो कार्यालय)

घंसौर (साई)। जिले के आदिवासी अंचल घंसौर में कियोस्क बैंक संचालकों की मनमानियों पर लगाम कसती नज़र नहीं आ रही है। इसके चलते मेहनत मजदूरी कर जीवन यापन करने वाले गरीब परिवारों की जमा की हुई पूंजी पर दलाल रूपी इन कियोस्क संचालकों के काला साया पड़ते नज़र आता है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार प्रधानमंत्री जनधन योजना, स्कूलों की छात्रवृत्ति, तेंदूपत्ता बोनस जैसे छोटे – छोटे कामों के लिये खुलवाये गये इन खातों में से भी कियोस्क संचालक अपना हाथ साफ करने से नहीं चूकतेह हैं। इस तरह की विभिन्न शिकायतों के बाद भी कार्यवाही नहीं होना कियोस्क ने इन दलाल रूपी संचालकों के लिये वरदान साबित हो रहा है। वहीं कार्यवाही न होने से नाराज़ गरीब आदिवासी किसानों का बैंकों की घटिया कार्यप्रणाली से विश्वास उठता दिख रहा है।

घंसौर के एक किसान ओमकार यादव के द्वारा कियोस्क संचालक सतीश शिवहरे पर अपने खाते से दो हजार और चार सौ रूपये निकालने के आरोप लगाये गये हैं। उन्होंने बताया कि कियोस्क बैंक के घोंटखेड़ा सेंटर में उनका व उनकी पुत्री का संयुक्त खाता है। उन्होंने जब अपनी शेष जमा राशि की जानकारी ली तो उनके होश उड़ गये, क्योंकि उनके खातों से दो बार राशि उनकी जानकारी के बिना ही निकाल ली गयी।

उन्होंने बताया कि राशि के आहरण के बारे में जानकारी लेने पर कियोस्क संचालक के द्वारा गोल मोल जवाब दिया जा रहा है। उन्होंने इसकी शिकायत घंसौर पुलिस से की है। बताया जाता है कि कियोस्क संचालकों के खिलाफ इस तरह के गोलमाल का यह पहला मामला नहीं है। इसके पहले भी अनेक शिकायतें प्रकाश में आने के बाद भी कियोस्क संचालकों के खिलाफ कार्यवाही नहीं होने के कारण इनके हौसले बुलंदी पर हैं।