टाइगर सफारी के लिए प्रदेश सरकार की हरी झंडी

 

 

 

 

 

केन्द्र की अनुमति का इंतजार

(ब्यूरो कार्यालय)

जबलपुर (साई)। डुमना नेचर रिजर्व में टाइगर सफारी बनाने का रास्ता साफ हो चुका है। प्रदेश सरकार की तरफ से जितनी भी जरूरी अनुमति इस सफारी को देनी थी वो दी जा चुकी हैं। अब जिले के सभी जनप्रतिनिधियों को एकजुट होकर केंद्र सरकार के वन एवं पयार्वरण मंत्रालय से एनओसी प्राप्त करने की जुगत भिड़ानी चाहिए। इस काम में सभी जनप्रतिनिधियों को एकजुट होने की जरूरत है। यह बात गुरुवार को प्रदेश के वित्त मंत्री तरुण भनोत ने खाद्य एवं औषधि प्रशासन की जांच लैब के भूमिपूजन समारोह के दौरान कही। उन्होंने टाइगर सफारी के निर्माण के लिए हर संभव प्रयास करने की बात पर जोर दिया।

राजनीतिक मतभेद भूलकर करें काम

वित्त मंत्री ने कहा कि डुमना नेचर रिजर्व में टाइगर सफारी की स्थापना के लिए किए जा रहे प्रयासों से अवगत कराया। बताया कि राज्य शासन से टाइगर सफारी के लिए तमाम स्वीकृतियां मिल चुकी हैं और केंद्र शासन के पर्यावरण मंत्रालय को इसकी स्थापना की अनुमति देने का प्रस्ताव भेजा जा चुका है। श्री भनोत ने कहा कि जिले के सभी जनप्रतिनिधि को डुमना में टाइगर रिजर्व की स्थापना के लिए आगे आना होगा। उन्होंने राजनीतिक मतभेदों को दर किनार कर केंद्रीय पर्यावरण मंत्री से टाइगर सफारी को स्वीकृति प्रदान करने के लिए एक साथ भेंट करने की बात कही। श्री भनोत ने राज्यसभा सदस्य विवेक तन्खा से केंद्रीय पर्यावरण मंत्री से भेंट करने के लिए सभी दलों के जनप्रतिनिधियों के शिष्ट मंडल का नेतृत्व करने का आग्रह किया।

नया टूरिस्ट स्पॉट बनेगा डुमना

वित्त मंत्री के मुताबिक डुमना नेचर रिजर्व में पहले से प्राकृतिक संपदा व वन्यजीवन मौजूद है। वनविभाग इस पूरे क्षेत्र को पहले से सुरक्षित बनाए हुए है। टाइगर सफारी की स्थापना होने पर डुमना नेचर रिजर्व में हर तरह के पर्यावरणीय कार्य भी पूरे हो सकेंगे। पर्यटन गतिविधियों और पर्यावरणीय दृष्टि से टाइगर सफारी बनाना शहर के लिए हितकारी रहेगा।