मोहपाश काण्ड की जांच ठंडी पड़ने से गृह मंत्री का इनकार

 

 

 

 

 

(ब्‍यूरो कार्यालय)

इंदौर (साई)। मध्य प्रदेश के बहुचर्चित मोहपाश (हनी ट्रैप) मामले की जांच ठंडी पड़ने से इनकार करते हुए राज्य के गृह मंत्री बाला बच्चन ने बुधवार को एक बार फिर भरोसा दिलाया कि इस सेक्स स्कैंडल से जुड़ा कोई भी अपराधी कानून के हाथों से बच नहीं सकेगा।

बाला बच्चन ने यहां संवाददाताओं से कहा, “इस मामले की जांच बिल्कुल भी धीमी नहीं पड़ी है। हमने प्रकरण की बारीकी से जांच के जिस उद्देश्य को लेकर एसआईटी का गठन किया है, उसे पूरा करने के लिये अनुभवी आईपीएस अधिकारी सभी पहलुओं को खंगाल रहे हैं।”

उन्होंने कहा, “मैं आपको भरोसा दिलाना चाहता हूं कि इस मामले से जुड़ा कोई भी अपराधी या षड़यंत्रकारी कानूनी कार्रवाई से बच नहीं सकेगा। मामले की जांच पूरी हो जाने दीजिये और अंतिम जांच रिपोर्ट आ जाने दीजिये।” गौरतलब है कि इंदौर नगर निगम के अधीक्षण इंजीनियर हरभजन सिंह (60) की शिकायत पर पुलिस ने 19 सितंबर को हनी ट्रैप गिरोह का खुलासा किया था। गिरोह की पांच महिलाओं और उनके चालक को भोपाल और इंदौर से गिरफ्तार किया गया था।

गिरोह पर आरोप है कि वह खुफिया कैमरों से अंतरंग पलों के वीडियो बनाकर अपने “शिकारों” को इस आपत्तिजनक सामग्री के बूते ब्लैकमेल करता था। जांचकर्ताओं ने शुरूआत में संदेह जताया था कि इस गिरोह ने महिलाओं का इस्तेमाल कर राजनेताओं और नौकरशाहों समेत कई रसूखदारों को भी जाल में फंसाया था और इन लोगों से धन उगाही के अलावा अपनी अलग-अलग अनुचित मांगें जबरन मनवायी थीं।

बहरहाल, मामले में प्राथमिकी दर्ज होने के डेढ़ महीने बाद भी पुलिस द्वारा सिंह के अलावा किसी दूसरे शिकायतकर्ता या “पीड़ित” व्यक्ति का नाम जाहिर नहीं किया गया है। मामले में छह लोगों के अलावा किसी अन्य आरोपी की गिरफ्तारी भी नहीं हुई है। पुलिसकर्मियों को साप्ताहिक अवकाश देने का वादा निभाने में प्रदेश सरकार के विलंब के बारे में पूछे जाने पर गृह मंत्री ने कहा, “जब भी हम कोई नयी शुरूआत करते हैं, तो बहुत सारी परेशानियां आती हैं। पुलिसकर्मियों को साप्ताहिक अवकाश देने की राह में मौजूद बाधाओं को जल्द दूर किया जायेगा। उन्हें समय पर पदोन्नति भी मिलेगी।”