जबलपुर-भोपाल UVP फोरलेन भेड़ाघाट चौराहे पर अटकी

 

 

 

 

(ब्‍यूरो कार्यालय)

जबलपुर (साई)। जबलपुर-भोपाल सड़क (Jabalpur-Bhopal road) (NH-12) को दो लेन से एक्सप्रेस-वे‘ (Expressway) की तर्ज पर फोरलेन बनाया जा रहा है। इसके अंतर्गत भेड़ाघाट चौराहे में अंडर व्हीकल पास (UVP) बनना शीघ्र ही शुरू होगा। यह निर्माण पूर्व निर्धारित तिथि से करीब एक वर्ष बाद किया जाएगा, जिसका कारण यूवीपी का स्वरूप बदलने की मांग करते हुए नागरिकों द्वारा विरोध करना है।

जिला प्रशासन भेड़ाघाट चौराहे में जमीन अधिग्रहण का काम पूरा नहीं कर सका है। इसलिए यूवीपी बनना शुरू होते ही विवाद होने के आसार भी बने रहेंगे। नागरिक बताते हैं कि जबलपुर-भोपाल दो लेन सड़क के लिए फोरलेन बनाने वर्ष 2011-12 में भूमि अधिग्रहण की कार्रवाई की गई। मप्र राज्य सड़क विकास निगम (एमपीआरडीसी) ने इस सड़क को बनवाने 3 बार ठेका कंपनी चयनित की। इसके बाद भी चयनित कंपनियां सड़क बनाने में नाकाम रहीं। नतीजा नागरिक बीते 7 साल से जबलपुर-भोपाल सड़क पर परेशान होकर आने-जाने मजबूर हैं।

यूवीपी व सर्विस रोड बनेंगी

भेड़ाघाट चौराहे में अंडर व्हीकल पास यूवीपी बनेगा। साथ ही इसके दोनों ओर अलग-अलग सर्विस रोड बनाई जाएंगी। इसके लिए मौजूदा चौराहे के दोनों ओर बसे 10-12 लोगों की जमीन अधिग्रहित होना है।

एसडीएम ने समझाया

भेड़ाघाट चौराहे की जमीन अधिग्रहित करने एमपीआरडीसी और प्रशासनिक अधिकारी लगातार कोशिश कर रहे हैं। यहां के जमीन मालिकों को एसडीएम शहपुरा भी समझाइश दे चुके हैं, लेकिन नागरिकों के विरोध के कारण मामला नहीं बना। अब प्रशासनिक अमला यही जमीन अधिग्रहित करने दोबारा प्रयास करेगा, जिसमें बड़ा हंगामा, विरोध भी हो सकता है।

इसलिए कर रहे विरोध

नागरिकों का कहना है कि भेड़ाघाट चौराहे पर यूवीपी बनने से इसके दोनों ओर की जमीन व दुकानों की कीमत बढ़ने के बजाए कम हो जाएंगी। साथ ही चौराहे का व्यापार खत्म हो जाएगा, जिससे कई लोग बेरोजगार होंगे। इसलिए वे किसी कीमत पर जमीन देने तैयार नहीं हैं।

नहीं बदला स्वरूप

भेड़ाघाट चौराहे पर यूवीपी की जगह रोड कांग्रेस के नियम अनुसार ओवरब्रिज बनाने की नागरिकों ने मांग की थी। फिर भी एमपीआरडीसी को शासन से कोई निर्देश नहीं मिला। इसलिए भेड़ाघाट में प्रस्तावित यूवीपी का स्वरूप नहीं बदला गया।

60 किमी. लंबी सड़क

एमपीआरडीसी ने राजस्थान की कंपनी को जबलपुर-भोपाल फोरलेन सड़क (एनएच-12) का पहला हिस्सा बनाने का ठेका दिया है। यह कंपनी शहर स्थित भेड़ाघाट बायपास चौक से भेड़ाघाट चौराहा, शहपुरा (भिटौनी), बेलखेड़ा होकर हिरन नदी (नरसिंहपुर सीमा) तक कुल 60 किमी. लंबी सड़क बनाएगी।