अनुज्ञा हेतु पैसे माँग रहे मण्डी कर्मचारी!

 

 

चमारी खुर्द मण्डी के कर्मचारियों की हुई शिकायत

(फैयाज खान)

छपारा (साई)। कृषि उपज मण्डी के अधीन चमारी खुर्द की उप मण्डी में व्यापारियों को अनुज्ञा लेने के एवज़ में पैसे देने पड़ रहे हैं। उक्ताशय की शिकायत एक व्यापारी के द्वारा मण्डी के अधिकारियों से की गयी है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार एक व्यापारी लीलाधर कुशवाहा के द्वारा चमारी खुर्द की मण्डी से मेसर्स ओम हरी ट्रेडर्स से एक अनुज्ञा बनवायी गयी थी। इस अनुज्ञा को मण्डी के कर्मचारी गोपाल नीलवंशी के द्वारा महज इसलिये निरस्त कर दिया गया क्योंकि उन्हें मन माफिक चढ़ौत्तरी नहीं मिल पायी थी।

व्यापारी का आरोप है कि चमारी मण्डी में 17 अक्टूबर को 177 क्विंटल गेहँू के विक्रय के लिये अनुज्ञा जारी करवायी गयी थी। इसे यहाँ के कर्मचारी के द्वारा चढ़ौत्तरी न मिलने के कारण निरस्त कर दिया गया था। इसके बाद 20 अक्टूबर को एक बार फिर व्यापारी से कर्मचारी के द्वारा रिश्वत की माँग की गयी थी।

इस मामले में जब मण्डी सचिव एवं छपारा में पदस्थ तहसीलदार से चर्चा की गयी तब उन्होंने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि इस मामले के संज्ञान में आते ही उनके द्वारा संबंधित कर्मचारी को नोटिस जारी कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि इस मामले में उभय पक्षों को सुनने के बाद ही कोई निर्णय लिया जायेगा।