सपनि कर्मियों का होगा आरटीओ में संविलियन

 

 

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

भोपाल (साई)। प्रदेश सरकार बंद हो चुके सड़क परिवहन निगम (सपनि) के कर्मचारियों का संविलियन परिवहन विभाग के खाली पदों पर करेगी। विभाग में पद नहीं होने पर इन्हें दूसरे विभागों में भेजा जाएगा। लिपिकों की विभागीय परीक्षा फिर से शुरू होगी।

19 नवंबर को छात्राओं के लाइसेंस बनाने के लिए सभी जिला मुख्यालयों में शिविर लगाए जाएंगे। स्कूल वाहनों में ओवरलोडिंग रोकने के लिए सख्ती के साथ अभियान चलाया जाएगा। यह निर्णय परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत की अध्यक्षता में हुई विभागीय समीक्षा के दौरान लिए गए।

बैठक में परिवहन मंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि भले ही सपनि बंद हो गया हो पर इनके कर्मियों के हितों का ध्यान रखा जाए। परिवहन विभाग में जो पद खाली हैं, उसमें योग्यता अनुसार निगम के कर्मचारियों का संविलियन किया जाएगा। इसके बाद भी यदि कर्मचारी बच जाते हैं तो फिर दूसरे विभाग से बात करके इन्हें मौका दिलाया जाए। सपनि के 178 कर्मचारी हैं, जिसका लाभ मिलेगा।

दरअसल, निगम बंद होने की वजह से सपनि कर्मियों को वेतन मिलने में काफी दिक्कत आती है। बैठक में लिपिकों की विभागीय परीक्षा आयोजित करने की लंबित मांग पर निर्णय लिया गया कि इसके लिए प्रस्ताव तैयार किया जाए ताकि उसे कैबिनेट में अंतिम फैसले के लिए रखा जा सके। स्कूल बस और वैन में ओवर लोडिंग की शिकायतों के मद्देनजर तय किया गया कि पूरे प्रदेश में अभियान चलाया जाए।

बच्चों की सुरक्षा को देखते हुए सख्त कार्रवाई में कोताही नहीं बरती जाए। इसके अलावा बैठक में ऑटोमेटिव ड्राइविंग टेस्टिंग ट्रैक, ऑटोमेटिक फिटनेस सेंटर, जीपीएस आधारित कॉमन कमांड कंट्रोल सेंटर और ऑनलाइन परमिट जारी करने की प्रणाली को लेकर चर्चा की गई।

विभागीय मंत्री ने कहा कि समयसीमा में इन परियोजनाओं को क्रियान्वित किया जाए। इस दौरान यह भी तय किया गया कि परिवहन विभाग के राजस्व लक्ष्यों की समीक्षा अलग से की जाएगी। बैठक में प्रमुख सचिव एसएन मिश्रा, परिवहन आयुक्त वी मधु कुमार सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।