प्रज्ञानानांद गिरी महाराज का आगमन 10 को

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। जिले की माटी के ग्राम सांठई में जन्मे और द्विपीठाधीश्वर के शिष्य निरंजन पीठाधीश्वर आचार्य महामण्डलेश्वर स्वामी प्रज्ञानानंद गिरी महाराज का नगर आगमन 10 नवंबर को हो रहा है।

डूण्डासिवनी जिसे नंदीकेश्वर धाम का नाम दिया गया है, वहाँ से शोभायात्रा प्रारंभ होकर नगर के प्रमुख मार्गों का भ्रमण करते हुए स्मृति लॉन पहुँचेगी, जहाँ एक धर्मसभा का आयोजन किया गया है।

निरंजन पीठ के आचार्य महामण्डलेश्वर बनने के बाद स्वामी प्रज्ञानानंद गिरी का सिवनी जिले में पहली बार आगमन हो रहा है। उनके इस आगमन से उनके शिष्य व आयोजन समिति के सदस्य उत्साहित हैं और उनके आगमन कार्यक्रम को भव्य बनाने की तैयारी कर रहे हैं। स्वामी बलवंतानंद के नेत्तृत्व में किये जाने वाले इस कार्यक्रम के लिये जिला प्रशासन की अनुमति प्राप्त हो चुकी है।

प्राप्त अनुमति के अनुसार आयोजकों ने बताया कि शोभायात्रा डूण्डा सिवनी से प्रारंभ होगी। यह शोभायात्रा यहाँ से बरघाट नाका, गणेश चौक, जैन मंदिर रोड, शुक्रवारी होते हुए नेहरू रोड में प्रवेश करेगी। नेहरू रोड में अनिल सिंघानिया के निवास के सामने से यह शोभा यात्रा दुर्गा चौक मार्ग की तरफ मुड़ जायेगी और मठ मंदिर, छिंदवाड़ा चौक, शंकर मढ़िया, नगर पालिका, बस स्टैण्ड होते हुए कचहरी चौक पहुँचेगी। कचहरी चौक से यह शोभा यात्रा माधव राव सिंधिया चौक से बाहुबली चौक होते हुए स्मृति लॉन पहुँच जायेगी।

आचार्य महामण्डलेश्वर डूण्डा सिवनी से रथनुमा वाहन में सवार रहेंगे और उनके समर्थक व भक्तगण उनके पीछे – पीछे वाहनों में चलेंगे। शोभायात्रा के मार्ग में स्थान – स्थान पर सभी समाजों के अध्यक्ष और पदाधिकारियों के द्वारा स्वागतद्वार सजाकर महाराजश्री का अभिनंदन वंदन किया जायेगा। शोभायात्रा का मार्ग स्वागतद्वार और फूलों से सजा होगा।

यहाँ उल्लेखनीय है कि स्वामी प्रज्ञानानंद गिरी महाराज की दण्ड दीक्षा बसंत पंचमी के दिन हुई थी। यह दण्ड दीक्षा द्विपीठाधीश्वर जगतगुरू शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद महाराज ने उन्हें दी थी। इस दण्ड दीक्षा के एक माह बाद फाल्गुन शुक्ल सप्तमी को उनका वाराणसी में निरंजन पीठाधीश्वर आचार्य महामण्डलेश्वर के रूप में पट्टाभिषेक समारोह हुआ था। इस समारोह की अध्यक्षता स्वयं उनके गुरू स्वामी शंकराचार्य सरस्वती महाराज ने की थी जबकि पट्टाभिषेक कार्यक्रम का नेत्तृत्व अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष स्वामी नरेन्द्र गिरी महाराज ने किया था।

आचार्य महामण्डलेश्वर स्वामी प्रज्ञानानंद गिरी महाराज 09 नवंबर की दोपहर को पलारी पहुँच जायेंगे। वे यहाँ आयोजित होने वाले श्रीमद भागवत ज्ञानयज्ञ समारोह में उपस्थित होंगे। रात्रि विश्राम ग्राम पलारी में करने के बाद दूसरे दिन दोपहर के समय पलारी से रवाना होकर वे सिवनी नगर पहुँचेंगे।

सिवनी पहुँचते ही उनके शिष्यगण और आयोजन समिति के सदस्य उनका अभिनंदन डूण्डा सिवनी में करेंगे और यहाँ से शोभायात्रा प्रारंभ होगी। उनके आगमन पर नगर में निकलने वाली शोभायात्रा के दौरान स्थान – स्थान पर स्वागत द्वार लगा विभिन्न सामाजिक संगठनों के द्वारा उनका आशीर्वाद लिया जायेगा।