चौकीदार चोर पर फैसला आज

 

 

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

नई दिल्ली (साई)। सुप्रीम कोर्ट राहुल गांधी के चौकीदार चोर वाले बयान पर गुरुवार को फैसला सुनाएगा। इस मामले में दाखिल मानहानि की अर्जी पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के बाद 10 मई को फैसला सुरक्षित रख लिया था।

सुनवाई के दौरान राहुल गांधी द्वारा सुप्रीम कोर्ट के हवाले से चौकीदार चोर है के बयान के लिए बिना शर्त माफी मांगे जाने के बाद याचिकाकर्ता ने कहा था कि राहुल गांधी ने पब्लिक में यह बात कही है ऐसे में उन्हें लोगों से इसके लिए माफी मांगनी चाहिए। शीर्ष अदालत ने इसके बाद फैसला सुरक्षित रख लिया था।

याचिकाकर्ता मीनाक्षी लेखी की दलील : चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अगुवाई वाली बेंच मामले में फैसला सुनाने जा रही है। मामले की सुनवाई के दौरान बीेजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी के वकील मुकुल रोहतगी ने दलील दी थी कि सुप्रीम कोर्ट ने जब राहुल गांधी को इस मामले में नोटिस जारी किया था उसके बाद दो बार उन्होंने हलफनामा दायर किया और दोनों ही बार बयान के लिए उन्होंने खेद जताया था।

लेकिन उन्होंने बिना शर्त माफी नहीं मांगी थी। उन्होंने कहा था कि अदालत के आदेश के बाद राहुल गांधी ने माफीनामा दिया ऐसे मामले में सुप्रीम कोर्ट को कानून के हिसाब से ऐक्शन लेना चाहिए। राहुल ने देश के सामने सुप्रीम कोर्ट के हवाले से बयान दिया था कि चौकीदार चोर है। राहुल ने बयान दिया था कि चौकीदार चोर है वाले बयान को सुप्रीम कोर्ट ने भी मान लिया है। ऐसे में राहुल गांधी को देश से माफी मांगे।

राहुल गांधी की ओर से पेश दलील : राहुल गांधी के वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा था कि हमने पहले जो भी हलफनामा दिया उसमें अपनी गलती मानी थी और कहा था कि कोर्ट के हवाले से दिया गया बयान गलत है और हमारी मंशा किसी भी तरह से अदालत के मान सम्मान को कम करना नहीं था। हमने दोनों ही हलफनामे में खेद जताया था। फिर हमने कोर्ट के हवाले से चौकीदार चोर है कहने के मामले में बिना शर्त माफी मांग ली है। 18 महीने से पब्लिक में स्लोगन चल रहा है और तमाम पार्टियां उसका इस्तेमाल कर रही हैं।

सिंघवी ने कहा कि उसे गलत तरीके से कोर्ट के हवाले से कहे जाने के मामले में उन्होंने बिना शर्त माफी मांग ली है। ऐसे में मामले में विराम दिया जाए और केस खत्म किया जाए। सुप्रीम कोर्ट के हवाले से चौकीदार चोर है के बयान के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने 8 मई को सुप्रीम कोर्ट में बिना शर्त माफी मांग ली थी। सुप्रीम कोर्ट में तीन पेजों के दिए नए हलफनामे में राहुल गांधी ने कहा था वह सुप्रीम कोर्ट के हवाले से दिए गए चौकीदार चोर है के बयान के लिए बिना शर्त माफी मांगते हैं और अब इस मामले को बंद किया जाना चाहिए।