कल से आरंभ होंगे विवाह

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। देवउठनी एकादशी के बाद नियमित विवाह मुहूर्तों की शुरुआत मंगलवार से हो जायेगी। अब तक सूर्य, तुला राशि में चल रहे थे, शनिवार को सूर्य का प्रवेश तुला से वृश्चिक राशि में हो गया।

मराही माता स्थित कपीश्वर हनुमान मंदिर के मुख्य पुजारी उपेंद्र महाराज के अनुसार तुला राशि की संक्रांति में विवाह कार्य निषेध माने गये हैं, हालाकि देवउठनी का मुहूर्त अबूझ माना जाता है, इसलिये इस दिन शहर में विवाह हुए थे। अब सूर्य के वृश्चिक राशि में प्रवेश के साथ ही विवाह के मुहूर्तों की शुरुआत हो जायेगी। विवाह का पहला मुहूर्त 19 नवंबर को होगा।

इसके चलते शहर में एक बार फिर बैण्ड, बाजा, बारात का नज़ारा दिखायी देगा और वैवाहिक हॉल गुलज़ार नज़र आयेंगे। नवंबर और दिसंबर माह में विवाह के कुल 14 शुभ मुहूर्त रहेंगे, जिनमें विवाह संपन्न होंगे। लग्न सीजन समीप आने के साथ ही वैवाहिक कार्यक्रमों की तैयारियों में तेजी आ गयी है।

शहर के बाज़ारों में विवाह की रस्मों को देखते हुए परंपरागत सामग्रियां सज गयी हैं, तो कई नये प्रयोग भी हो रहे हैं। सबसे ज्यादा तेजी कपड़े और गहनों के बाज़ार में दिखायी दे रही है। साफा, पगड़ी, कटार से लेकर थालियां, कलश और सूप तक डिज़ाईन होकर आ रहे हैं।

खरमास के कारण 16 दिसंबर से लगेगा एक माह का विराम : ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इस साल 15 दिसंबर तक विवाह के मुहूर्त रहेंगे। इसके बाद खरमास के कारण एक माह तक माँगलिक कार्यों पर विराम लग जायेगा। 16 दिसंबर को सूर्य का प्रवेश धनु राशि में होगा, जो 14 जनवरी को मकर राशि में प्रवेश करेंगे। मकर राशि में सूर्य आने के बाद ही माँगलिक कार्यों की शुरुआत होगी। जब सूर्य धनु राशि में रहते हैं, उसे खरमास माना जाता है। इसमें विवाह कार्य करना वर्जित माना गया है।

शुभ विवाह की तिथियां इस साल नवंबर माह में 19, 20, 21, 22, 23, 24, 26, 28, 30 इस तरह कुल 09 दिन एवं दिसंबर माह में 05, 06, 07, 11, 12 इस तरह कुल 05 दिन शादियों के मुहूर्त हैं।