नए आधार ऐप से एड्रेस अपडेट करना और आसान!

 

(ब्यूरो कार्यालय)

नई दिल्ली (साई)। आधार ऐप्लिकेशन को पहले से अधिक सुरक्षित बनाने के लिए यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने अपना नया वर्जन लॉन्च कर दिया है।

नया आधार ऐप ऐंड्रॉयड तथा आईओएस यूजर्स दोनों डाउनलोड कर सकते हैं। यूआईडीएआई के मुताबिक, यूजर्स को पुराना वर्जन डिलीट कर नया वर्जन तत्काल इंस्टॉल कर लेना चाहिए।

नए आधार एप की खूबियां : अगर आपके स्मार्टफोन में एमआधार मौजूद है तो आपको आधार कार्ड की हार्ड कॉपी साथ लेकर चलने की जरूरत नहीं है।

एमआधार ऐप कई भाषाओं में उपलब्ध है। यह कुल 12 भाषाओं को सपोर्ट करता है, जिनमें हिंदी, बंगाली, उड़िया, उर्दू, तेलूगु, तमिल, मलयालम, कन्नड़, गुजराती, पंजाबी, मराठी तथा असमिया शामिल हैं।

एमआधार ऐप का इस्तेमाल आधार से जुड़ी सेवाओं जैसे अड्रेस अपडेट करने, आधार वेरिफाई करने, मेल/ई-मेल वेरिफाई करने, रिट्रीव यूआईडी, ईआईडी, अड्रेस वेलिडेशन लेटर के लिए रेक्वेस्ट तथा विभिन्न ऑनलाइन रिक्वेस्ट्स को चेक करने के लिए किया जा सकता है।

कोई यूजर अपने स्मार्टफोन में अधिकतम तीन प्रोफाइल ऐड कर सकता है, जिसमें सभी का आधार एक ही मोबाइल नंबर से रजिस्टर्ड हो। अगर आपके परिवार के किसी सदस्य के आधार में आपका मोबाइल नंबर ही रजिस्टर्ड है तो आप उनके प्रोफाइल को अपने स्मार्टफोन में आड कर सकते हैं।

एमआधार ऐप के जरिये आप अपने आधार या बायोमेट्रिक ऑथेंटिकेशन को लॉक या अनलॉक कर सकते हैं। यह फीचर बायोमेट्रिक डेटा को लॉक करके बायोमेट्रिक ऑथेंटिकेशन को सुरक्षित करने के लिए है। बायोमेट्रिक तबतक लॉक रहेगा, जबतक कि आप लॉकिंग सिस्टम को अनलॉक या डिसेबल नहीं करते।

एमआधार इंडियन रेलवेज के किसी भी क्लास में प्रूफ ऑफ आइडेंटिटी के रूप में भी स्वीकार किया जाता है। पर्सनलाइज्ड आधार सर्विसेज की सुविधा पाने के लिए यूजर को एमआधार ऐप में आधार प्रोफाइल को रजिस्टर करने की जरूरत होती है। नए आधार ऐप में दो मुख्य सेक्शंस – पहला आधार सर्विसेज डैशबोर्ड तथा दूसरा माय आधार सेक्शन है।

एमआधार ऐप में यूजर्स अपने सबसे नजदीकी इनरॉलमेंट सेंटर का पता लगा सकते हैं। एमआधार ऑफलाइन काम नहीं करता है। यूआईडीएआई से डेटा डाउनलोड करने के लिए इसे इंटरनेट कनेक्शन की जरूरत पड़ती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *