कैलाश विजयवर्गीय, 167 कांग्रेसी माफियाओं की लिस्ट सार्वजनिक करो: नरेंद्र सलूजा

 

(ब्यूरो कार्यालय)

भोपाल (साई)। मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय को चुनौती दी है कि वह 167 कांग्रेस नेताओं के नाम सार्वजनिक करें जिनकी लिस्ट के बारे में उन्होंने आज बयान दिया है।

बता देंगे भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय ने आज इंदौर में आरोप लगाया कि नगर निगम केवल भाजपा नेताओं को टारगेट कर रहा है जबकि उनके पास 167 कांग्रेसी नेताओं की लिस्ट है जो भूमाफिया है।

आर्थिक मंदी के दौर में सीएएए/एनआरसी की क्या जरूरत

मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने आज इंदौर में भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय द्वारा एनआरसी व सीएए को लेकर की गई पत्रकार वार्ता में कांग्रेस पर लगाए सारे आरोपों को झूठा बताते हुए कहा भाजपा इस कानून के माध्यम से देश का माहौल खराब करने में लगी है, समाज को बांटने में लगी है, मुद्दों से भटका कर जनता को गुमराह करने में लगी है। आज देश आर्थिक मंदी के दौर से गुजर रहा है, ऐसे समय वास्तविक मुद्दों को छोड़कर यह कानून लागू करने की जल्दबाजी क्यों? क्यों देश की जनता सड़कों पर आकर इस कानून को देश विरोधी बताकर अस्वीकार कर रही है? भाजपा को इसके समर्थन में क्यों प्रायोजित कार्यक्रम करना पड़ रहे है?

अमित शाह जबलपुर क्यों आ रहे हैं

भाजपा बताये श्री अमित शाह इस कानून के समर्थन में शांत मध्यप्रदेश में क्यों आ रहे हैं और यह भी बताएं कि मध्य प्रदेश के एकमात्र जिले जबलपुर में जहां इस कानून को लेकर हुए प्रदर्शनों पर कर्फ्यू लगा था, जो कि भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष का संसदीय क्षेत्र है वहीं पर अमित शाह सभा करने क्यों आ रहे हैं?

कार्रवाई की जद में आए माफियाओं की लिस्ट देख लें, कौन किस पार्टी का है 

सलूजा ने कहा माफियाओं के खिलाफ अभियान को लेकर कैलाश विजयवर्गीय द्वारा लगाये गये सारे आरोप झूठे हैं। यह अभियान विशुद्ध रूप से माफियाओं के खिलाफ चल रहा है, इसको राजनीतिक नजरिए वह चश्मे से बिल्कुल नहीं देखा जा रहा है। कैलाश विजयवर्गीय मुख्यमंत्री कमलनाथ के उस बयान को एक बार दोबारा से सुन ले, जिसमें उन्होंने स्पष्ट रूप से निर्देशित किया है कि किसी भी माफिया को बख्शा नहीं जाए, चाहे वह किसी भी दल से जुड़ा हो, किसी भी बड़े राजनेता से जुड़ा हो, कितना भी बड़ा रसूखदार हो। साथ ही इस अभियान के तहत अभी तक जितने लोगों पर कार्यवाही हुई है, उस सूची का भी एक बार अध्ययन कर लें, उसी से उन्हें इस कार्रवाई की निष्पक्षता का पता चल जाएगा व कांग्रेस-भाजपा करना वो खुद बंद कर देंगे। कमलनाथ सरकार जीरो टाॅलरेंस की तरह इस अभियान को निष्पक्ष ढंग से चला रही है।

माफियाओं की लिस्ट सार्वजनिक करें, कार्रवाई की मांग करें 

कैलाश विजयवर्गीय कह रहे हैं कि उनके पास कांग्रेस के 167 कार्यकर्ताओं की सूची है तो कांग्रेस उन्हें खुली चुनौती देती है कि वह इस सूची को सार्वजनिक करे। कांग्रेस ही नहीं भाजपा सहित शहर व प्रदेश के सभी माफियाओं की निष्पक्ष सूची यदि कैलाश विजयवर्गीय के पास है तो उन्हें खुद सामने आकर सार्वजनिक करना चाहिये और सरकार से उन पर कार्रवाई की मांग करना चाहिए क्योंकि माफियाओ का कोई दल-धर्म नहीं होता है। माफियाओ को दल से नहीं जोड़े विजयवर्गीय। भाजपा तो माफियाओ के खिलाफ कार्यवाही का स्वागत कर रही है, वो विजयवर्गीय के जाल में ना फँसे क्योंकि उनका दर्द सभी को पता है।

कैलाश विजयवर्गीय कौन से संवैधानिक पद पर हैं

कैलाश विजयवर्गीय यह भी बताये कि वे अभी कौन से संवैधानिक पद पर है, जो उन्होंने अधिकारियों को चर्चा के लिये बुलावा भेजा और साथ ही यह भी बताये कि वो कौन से जनहित के कार्य थे, जिस पर वे आज ही चर्चा चाहते थे, यह भी वो सार्वजनिक करे? कैलाश विजयवर्गीय के आरोपों पर कांग्रेस ने उनसे कुछ सवाल पूछ, उनका जवाब मांगा है ?

सवाल –

  1. कैलाश विजयवर्गीय बताये युवराज उस्ताद से लेकर हेमंत यादव, जीतू यादव, मुन्ना डाॅक्टर, जीतू चैधरी किस के समर्थक हैं, किसके साथ खुलेआम होर्डिंग-पोस्टर व कार्यक्रमों में नजर आते हैं, वर्षों से इन्हें किस का संरक्षण रहा, क्या इनके कार्य है, क्या वह इन्हें भाजपा कार्यकर्ता मानते हैं, क्या इनके कार्यों को वे नियम के अंतर्गत मानते हैं, क्या इन्हें विजयवर्गीय का समर्थन प्राप्त है?
  2. जिस माफिया मुक्त अभियान का प्रदेश की जनता खुलकर समर्थन कर रही है, विजयवर्गीय बताये कि इस अभियान को लेकर उनके पेट में दर्द क्यों हो रहा है, किस माफिया पर कार्यवाही से वह दुखी है, स्पष्ट करें?
  3. विजयवर्गीय बताये प्रदेश में पिछले 15 वर्ष से उन्हीं की पार्टी भाजपा की सरकार थी।किसके संरक्षण में यह माफिया पनपे? इंदौर में तो विजयवर्गीय का पूरी तरह से बोलबाला था, सारे अधिकारियों की पोस्टिंग उनके अनुसार ही होती थी, क्या कारण रहा कि पिछले 15 वर्षों में इन माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई नहीं हो पायी, कौन इन्हें पोषित व संरक्षित  करता रहा ?
  4. कांग्रेस को माफियाओं की कभी आवश्यकता नहीं है और ना कभी कांग्रेस माफियाओं को अपनी पार्टी में लाने की कोशिश भी करेगी, यह आपको व आपकी पार्टी को ही मुबारक। विजयवर्गीय के पास उनके यह आरोप कि ‘‘भाजपा से जुड़े माफियाओं को कांग्रेस कार्यवाही के नाम पर डरा धमकाकर कांग्रेस में आने का कह रही है।के संबंध में कोई प्रमाण हो तो उसे वे शीघ्र सार्वजनिक करें, अन्यथा झूठे आरोप के लिए माफी मांगे।
  5. विजयवर्गीय बताये कि किस माफिया पर हुई कार्यवाही को वे नियम विरुद्ध मान रहे है? क्या माफियाओ द्वारा किये गये काम नियम से किये हुए है?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *