. . . तो ठिठुरते ही देना होगा पीएससी की परीक्षा!

 

जिला प्रशासन ले सकता है अपने स्तर पर निर्णय : पंत

(संजीव प्रताप सिंह)

सिवनी (साई)। राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा (एमपी पीएससी) का आयोजन रविवार को किया जा रहा है। सिवनी में भी अनेक केंद्रों में यह परीक्षा आयोजित की जायेगी।

राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा उम्मीदवारों के लिये कंपकंपाने वाली ठण्ड के कारण और कठिन साबित हो सकती है। पीएससी ने नियम लागू कर रखा है कि परीक्षा देने वाले विद्यार्थी न तो फुल बांह के कपड़े पहन सकते हैं, न ही मफलर, स्वेटर। परीक्षार्थियों को बिना जूते – मोजे पहने बैठना पड़ता है। ये सख्त कायदे उम्मीदवारों को डरा भी सकते हैं।

यह परीक्षा 12 जनवरी को सुबह 10 बजे से दो पालियो में आयोजित की जायेगी। वर्तमान में मौसम का जो रूख है उसके हिसाब से शहर के परीक्षा केंद्रों में दिन भी परीक्षा देने वाले परीक्षार्थियों को पहले सर्दी की परीक्षा से दो चार होना पड़ सकता है। हालांकि उम्मीदवारों की कठिनाई देखकर पीएससी नर्म पड़ा है, लेकिन स्पष्ट घोषणा न करते हुए जिला प्रशासन को परीक्षा के दिन के मौसम की स्थिति देखकर निर्णय लेने की बात कही है।

जानकारों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया से चर्चा के दौरान कहा कि राज्य सेवा परीक्षा अब तक गर्मी में होती रही है। इस बार परीक्षा घोषित होने में देरी हुई है, लिहाज़ा प्रारंभिक परीक्षा सर्दी के बीच आ रही है। मध्य प्रदेश में इस बार सर्दी ने रिकॉर्ड तोड़ दिया है। पीएससी ने चार वर्ष पहले एम्स की परीक्षा की तर्ज पर परीक्षा हॉल में प्रवेश के लिये कड़े नियम कायदे लागू किये थे।

अब पहली बार परीक्षा ठण्ड के मौसम में हो रही है तो इन नियमों को लेकर दोबारा सोचना पड़ रहा है। उम्मीदवारों ने माँग उठायी है कि परीक्षा हॉल में स्वेटर, जूते – मोजे पहनने की छूट दी जाये। पीएससी ने अब तक नियमों में ढील को लेकर कोई नोटिफिकेशन या सूचना पत्र जारी नहीं किया है, जबकि परीक्षा में महज पाँच दिन ही शेष हैं।

परीक्षा में 3.60 लाख से ज्यादा उम्मीदवार हिस्सेदारी करेंगे। प्रारंभिक परीक्षा के आयोजन के लिये राज्य के हर जिला मुख्यालय पर परीक्षा केंद्र बनाये जा रहे हैं। आयोजन की व्यवस्था का जिम्मा जिला प्रशासन का होगा।

आयोग ने जिला प्रशासन को निर्देश दिया है कि परीक्षा के दिन के मौसम की स्थिति को देखकर प्रशासन अपने स्तर पर निर्णय ले. लगता है कि मौसम ऐसा है कि उम्मीदवारों को गर्म कपड़े पहनकर प्रवेश देने की अनुमति देना चाहिये तो प्रशासन उसे लागू कर सकता है. नियमावली में इसका उल्लेख कर दिया गया है.

रेणु पंत, सचिव,

मध्य प्रदेश लोकसेवा आयोग.