मेडिकल कॉलेज़ का हाल भी जिला चिकित्सालय जैसा होगा!

 

 

मीडिया में इन दिनों मेडिकल कॉलेज को लेकर राजनैतिक दलों की टिप्पणियां आ रहीं हैं। इन राजनैतिक दलों के महानुभावों से आग्रह है कि वे जिला चिकित्सालय की खबर लेने की भी जहमत उठा लें ताकि लोगों को वर्तमान में तो राहत मिल सके।

मेडिकल कॉलेज़ यदि बन भी गया और उसकी व्यवस्थाओं से भी लोग संतुष्ट नहीं हुए तो उसका फिर उद्देश्य कैसे पूरा हो सकेगा। जिम्मेदारों के द्वारा जिला चिकित्सालय सिवनी की सुध लिये जाने की आवश्यकता है। कलेक्टर के द्वारा भरपूर प्रयास किये जा रहे हैं इस जिला चिकित्सालय की व्यवस्थाएं सुधारने के लिये लेकिन इस चिकित्सालय में पदस्थ कुछ जिम्मेदारों के द्वारा जैसे कलेक्टर के प्रयास पर पानी ही फेरा जा रहा है।

यहाँ भर्त्ती मरीज़ों को दवाएं उपलब्ध नहीं हो पा रहीं हैं। दवाएं तो बाद की बात है, समय पर चिकित्सक ही नहीं पहुँच रहे हैं जिसके कारण दूर से आये मरीज़ों को नाहक ही लंबा इंतजार करवाया जाता है। विलंब से जो चिकित्सक आते भी हैं तो उनका रवैया यही रहता है कि उनकी निज़ि क्लिनिक में संबंधित मरीज़ के द्वारा उपचार करवाया जाये। निज़ि क्लिनिक में यही चिकित्सक जहाँ मरीज़ के परीक्षण के लिये दस से पंद्रह मिनिट तक समय दे देते हैं वहीं ये ही चिकित्सक जिला चिकित्सालय में जब ड्यूटी करते हैं तब एक मिनिट के भीतर ही मरीज़ का परीक्षण पूरा कर लिया जाता है।

इस तरह अधिकांश चिकित्सकों के द्वारा बेहद ही लापरवाही पूर्ण रवैया जिला चिकित्सालय पहुँचने वाले मरीज़ों के साथ किया जाता है। यदि कोई मरीज़ वार्ड में भर्त्ती कर भी लिया जाता है तो कई बाद उनसे बाहर से दवाएं बुलवायी जाती हैं। दवाओं की अनुपलब्धता के साथ ही एक महत्वपूर्ण चीज है शुद्ध पेयजल जो इस चिकित्सालय में आसानी से उपलब्ध नहीं हो पाता है। पानी के लिये भी कई बार लोगों को बाहर जाकर बाज़ार की ओर रूख करना पड़ता है।

यही नहीं बल्कि पैथॉलॉजी से संबंधित कई जाँचें भी बाहर से करवाने के लिये मरीज़ों को कई बार बाध्य किया जाता है। एक्स-रे मशीन तो जब-तब खराब बता दी जाती है। सभी जिम्मेदार जन प्रतिनिधियों से अपेक्षा है कि यदि उनके द्वारा समय-समय पर जिला चिकित्सालय की सुध ली जाती रहेगी तो संभव है कि वर्तमान में ही मेडिकल कॉलेज़ की कमी लोगों को महसूस न हो सके। अन्यथा सभी की गैर जिम्मेदाराना कार्यप्रणाली रही तो मेडिकल कॉलेज़ का हश्र भी वही हो सकता है जो वर्तमान में जिला चिकित्सालय सिवनी का है।

राजकुमार भटनाग

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *