सर्द हवाओं के आगोश में जिला, आज गोता लगायेगा पारा!

 

गलन भरी हवाओं ने दिन भर कंपकंपाया लोगों को

(महेश रावलानी)

सिवनी (साई)। बृहस्पतिवार को सुबह से ही चलने वाली सर्द और गलन भरी हवाओं ने लोगों को घरों में ही कैद कर दिया। दिन भर चलीं सर्द हवाओं के कारण लोग सर्दी से बचने के पर्याप्त इंतजाम के साथ ही सड़कों पर नज़र आये। शाम होते – होते चलने वाली हवाएं नश्तर के मानिंद चुभती हुईं महसूस हो रहीं थीं।

मौसम विभाग के सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि पहाड़ी क्षेत्रों में लगातार हो रही बर्फबारी और हवाओं की दिशा एक बार फिर उत्तरी होने के कारण हवाओ में अपेक्षाकृत सर्दी महसूस की जा रही है। बुधवार को पारा कुछ उछला पर अगले ही दिन हवाओं ने एक बार फिर सर्दी का अहसास करवा दिया। बृहस्पतिवार को दिन में बादल छाये रहे। बीच – बीच में भगवान भास्कर के दर्शन भी हुए पर सूर्य नारायण का तेज नहीं के बराबर ही प्रतीत हुआ।

सूत्रों ने आगे बताया कि संभाग में बुधवार को कहीं – कहीं बौछार पड़ीं। आसपास की जिलों में बारिश से शहर आ रही हवा में नमी की मात्रा बढ़ गयी। अरब सागर की ओर से नमी भरी हवा ने भी मौसम में सर्दी घोली। दक्षिणी दिशा की हवा की गति 08 से 09 किलो मीटर प्रति घण्टा रही।

सूत्रों के अनुसार पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव के कारण मौसम में परिवर्तन हुआ है। राजस्थान एवं उससे लगे हुए उत्तर एवं पश्चिमी मध्य प्रदेश के ऊपर चक्रवात बना हुआ है। शुक्रवार को सर्दी के तेवर और भी तल्ख होने की उम्मीद है। सिवनी में बृहस्पतिवार को शीत लहर का अहसास हुआ, जो एक दो दिन जारी रह सकता है।

पल-पल बदलते मौसम के पूर्वानुमान के हिसाब से सूत्रो ंने बताया कि शुक्रवार को दिन में अधिकतम तापमान 20 डिग्री सेल्सियस तो रात में यह गोता लगाकर 05 डिग्री सेल्सियस तक पहुंँच सकता है। शनिवार को दिन में 22 तो रात में 07 डिग्री सेल्सियस एवं रविवार को दिन में 24 तो रात में पारा 08 डिग्री सेल्सियस तक उतर सकता है।

सूत्रों ने बताया कि ऐसा पहली बार ही हो रहा होगा कि अचानक ही सर्दी बढ़ती है और फिर सर्दी का प्रभाव भी एकाएक ही समाप्त हो जाता है। ग्लोबल वार्मिंग के चलते इस तरह की घटनाएं घट रहीं हैं, अन्यथा इसके पहले मौसम करवट लेता था तो कम से कम एक सप्ताह तो उसका प्रभाव रहता था, अब यह प्रभाव एक दो दिन में ही समाप्त हो रहा है, जो चिंता की बात मानी जा रही है।