नश्तर की तरह चुभीं सर्द हवाएं, शीत लहर की चपेट में जिला

 

हाड गलाने वाली सर्दी से ठिठुर उठे सिवनी वासी, लोग बोले गार गिर रही गार!

(महेश रावलानी)

सिवनी (साई)। शुक्रवार को दिन भर चली शीत लहर से जनजीवन खासा प्रभावित दिखा। दिन भर लगभग 09 से 11 किलो मीटर प्रतिघण्टे की रफ्तार से सर्द हवाएं चलीं, जिससे लोक कंपकंपा उठे। मौसम का मिजाज दो दिनों तक इसी तरह का रह सकता है। सोमवार से सर्दी में राहत की उम्मीद जतायी जा रही है।

मौसम विभाग के सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि पर्वतीय क्षेत्रों में लगातार हो रही बर्फबारी ने पिछले 25 सालों के रिकॉर्ड ध्वस्त कर दिये हैं। हवाओं का रूख उत्तरी होने के कारण सर्द हवाओं से सिवनी जिले में जनजीवन प्रभावित हुए बिना नहीं है।

सूत्रों ने बताया कि उत्तर भारत में सर्दी का सितम चरम पर है। उत्तर भारत से आने वाली सर्द हवाओं के कारण पूरे प्रदेश में कड़ाके की सर्दी पड़ रही है। दिन और रात में अधिकतम और न्यूनतम तापमान में महज एक से दो डिग्री का ही अंतर होने के कारण सर्दी का प्रकोप ज्यादा महसूस हो रहा है।

शुक्रवार को दिन में अधिकतम तापमान 17 डिग्री सेल्सियस तो न्यूनतम तापमान 15 डिग्री सेल्सियस रहा। इसमें अंतर महज दो डिग्री सेल्सियस का रहा। इसके पहले बृहस्पतिवार और शुक्रवार की दरमियानी रात अधिकतम तापमान 7.4 डिग्री सेल्सियस तो न्यूनतम तापमान 6.4 डिग्री सेल्सियस रहा, जिसमें अंतर महज 01 डिग्री सेल्सियस का रहा।

पल-पल बदलते मौसम के पूर्वानुमान के हिसाब से सूत्रों ने बताया कि शनिवार को दिन में अधिकतम तापमान 22 डिग्री सेल्सियस तो रात में यह 07 डिग्री सेल्सियस के आसपास रह सकता है। इसी तरह रविवार को अधिकतम तापमान 24 डिग्री सेल्सियस एवं रात में न्यूनतम तापमान 09 डिग्री सेल्सियस के आसपास रह सकता है। मंगलवार को हवाओं का रूख बदलते ही दिन में तापमान 28 डिग्री सेल्सियस के आसपास तो रात में यह 10 डिग्री सेल्सियस के आसपास रह सकता है। इसके बाद मौसम में अपेक्षाकृत कम सर्दी ही मससूस किये जाने की उम्मीद है।

कोहरे की चादर : सुबह सवेरे सिवनी जिले में कोहरा भी जमकर दिखायी दे रहा है। धूप खिलने के बाद ही कोहरा धीरे – धीरे ही गायब हो रहा है। लगातार शीत लहर जैसी सर्द हवाओं के चलने के कारण लोग भी सहमे ही दिख रहे हैं। कोहरे के कारण रात के समय वाहनो की रफ्तार भी कम हुई है।

बर्फबारी का है असर : सूत्रों ने बताया कि हिमाचल प्रदेश के बाद उत्तराखण्ड में भी बर्फबारी का एलर्ट, मौसम विभाग ने जारी किया है। अगर सोमवार तक हवाओं की दिशा नहीं बदली तो सोमवार के बाद भी कड़ाके की सर्दी का असर जारी रह सकता है लेकिन जिस तरह का पूर्वानुमान दिख रहा है उसके अनुसार सोमवार से हवाओं का रूख बदल सकता है।

फसलों और सब्जियों पर पाले का असर : किसानों की मानें तो जिले के अनेक स्थानों पर फसलों पर पाले की मार पड़ी है। कई किसान टमाटर की फसल लेते हैं, उन्हें भी खासा नुकसान पहुँचा है। इस बेतहाशा ठण्ड से जनजीवन पर व्यापक असर देखा जा रहा है। बच्चे और बुजुर्ग बीमार पड़ रहे हैं।

बर्फबारी ने तोड़े पिछले रिकॉर्ड : जम्मू एवं कश्मीर, हिमाचल प्रदेश के बाद अब उत्तराखण्ड में जमकर बर्फबारी हो रही है। इस बार का हिमपात पिछले 25 वर्षों का रिकॉर्ड तोड़ रहा है। मौसम विभाग के मुताबिक पिछले वर्षों की तुलना में इस वर्ष ज्यादा बर्फबारी देखनो को मिल रही है। आने वाले दिनों में यहाँ और बर्फबारी की चेतावनी जारी की गयी है।

अलाव से राहत : देर से ही सही मगर नगर पालिका परिषद के द्वारा अलाव की व्यवस्था किये जाने के कारण शाम से ही चौक चौराहों पर लोग अलाव तापते दिख जाते हैं। देर रात तक बेसहारा लोगों के लिये अलाव ही राहत का इकलौता उपाय दिख रहा है।

 

—————————————-