सीताराम के भजन करें, राम करेंगे घर में वास

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

छपारा (साई)। जिस घर में सीताराम का भजन होता है, उस घर में भगवान राम का वास होता है। घर में परिवार सुखी रहता है। उक्ताशय की बात बैनगंगा नदी के तट पर स्थित लक्ष्मी नारायण मंदिर प्रांगण में जारी श्रीराम कथा में कथा वाचक साक्षी देवी ने श्रद्धालुजनों से कही।

उन्होंने आगे कहा कि परशुराम संवाद स्वधर्म पालन की शिक्षा देता है। सीता विवाह पर उन्होंने कहा कि यह जीव का परमात्मा से जुड़ने का संकेत है। एक बार जीव परमात्मा से जुड़ जाये तो कभी अमंगल का दुःख नहीं देखना पड़ेगा। कथा पण्डाल में राम जन्मोत्सव मनाया गया।

उन्होंने कहा कि भगवान को भी मनुष्य जीवन में बड़े कष्टों का सामना करना पड़ा है, चाहे वो भगवान राम हो या भगवान कृष्ण। दुःख की घड़ी में कभी घबराना नहीं चाहिये उसका सामना करना चाहिये, क्योंकि जिंदगी आगे बढ़ने का नाम है रुकने का नहीं।

उन्होंने कहा कि अगर हम अपने जीवन में नेक काम करते हैं तो ईश्वर भी हम पर विश्वास रखते हैं। राम चरित मानस से हमें परिवार, समाज रिश्तों को सहेजने की शिक्षा मिलती है। जिस भगवान की भी भक्ति करो तो उनके गुणों को अपने जीवन में उतारें। सभी को लगता है कि वह घर, परिवार, समाज, संसार को चलाने लगा है। ऐसा नहीं है छोटे से छोटा काम भी बिना ईश्वर की मर्जी के नहीं होता। हम कुछ नहीं करते, जो कुछ करते हैं वह भगवान करते हैं।