शिक्षा में सुधार के लिए चाहिए लंबी छलांग

 

(बालमुकुंद) 

कोई दो साल पहले एसोचौम ने एक सर्वे कराया था, जिसमें पाया गया कि निम्न और मध्यम आय वाले 70 प्रतिशत भारतीय परिवार अपनी कमाई का 30-40 फीसदी तक हिस्सा बच्चों की शिक्षा पर खर्च करते हैं। चार सदस्यों वाले, 90 हजार से दो लाख तक सालाना कमाई वाले को निम्न और दो से पांच लाख की कमाई वाले को मध्य आय वर्ग वाला परिवार माना गया। 2015 में भारत में निम्न और मध्य आय वाले परिवारों की संख्या 15 करोड़ के आसपास अनुमानित थी। शिक्षा इनकी सबसे बड़ी आकांक्षा है। इसके लिए वे अपनी सुविधाओं में हर तरह की कटौती करते हैं। लेकिन इसी शिक्षा के लिए भारत सरकार अपने बजट में मात्र 3 पर्सेंट का प्रावधान करती रही है।

यह जन आकांक्षा और सरकार की आकांक्षा के बीच की खाई है। हालांकि इस साल मार्च में तत्कालीन मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने एक समारोह में कहा था कि शिक्षा के लिए आबंटन बढ़ाकर 4.6 फीसदी कर दिया गया है। लेकिन 2014-19 के बीच इस मद पर जो बजटीय आबंटन हुए, उनमें से 4 लाख करोड़ रुपये खर्च नहीं किए जा सके। सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकॉनमी (सीएमआइआर) का आकलन है कि सरकार की ओर से शिक्षा के लिए किए जाने वाले खर्च में पिछले पांच वर्षों में कमी आई है और खर्च न हो पाने वाले आबंटित धन का अनुपात बढ़ा है। हमारी स्कूली शिक्षा की हालत दयनीय है। बारहवीं पास कर निकलने वाले छात्रों में से बहुत कम ऐसे होते हैं, जो किसी भी एक भाषा में एक आवेदन पत्र तक ढंग से लिख पाएं। हमारा पाठ्यक्रम उन्हें रट्टू और अव्यावहारिक बना रहा है। उन्हें जो सिद्धांत पढ़ाए जाते हैं, उनका व्यावहारिक प्रयोग नहीं सिखाया जाता। पाठ्यक्रम नियमित रूप से संशोधित नहीं किए जाते।

कौशल आधारित शिक्षा का अभाव तो है ही, सामान्य पारंपरिक विषयों के लिए भी अच्छे शिक्षक उपलब्ध नहीं हैं। शिक्षकों को नियमित पेशा प्रशिक्षण नहीं दिया जाता। नजदीकी स्कूल में दाखिला मिलने की कोई कारगर व्यवस्था नहीं है। शिक्षा के भाषाई माध्यम और अंग्रेजी से जूझने का सिलसिला भी पहले की ही तरह जारी है। ग्रामीण छात्रों के अंग्रेजी विषय में प्राप्त होने वाले अंकों का विश्लेषण करें तो इसकी गंभीरता समझ में आती है। इन सब का निदान सिलेबस में नैतिकता का पाठ जोड़ने या इतिहास का पुनर्लेखन करने से नहीं होगा। इसके लिए शैक्षिक ढांचे और व्यवस्था में बुनियादी बदलाव लाना होगा।

बीते साल यानी 2019 में सीबीएसई से लगभग 10 लाख 80 हजार बच्चे बारहवीं पास हुए। इसी तरह 2018 में लगभग 9 लाख 84 हजार, 2017 में 9 लाख, 2016 में 8 लाख 87 हजार और 2015 में साढ़े आठ लाख 12वीं पास कर निकले। यही है नौजवानों की वह आबादी जिसे हम राष्ट्रीय गर्व का विषय मानते हैं। लेकिन ये नौजवान बारहवीं पास करने के बाद करते क्या हैं? या तो ऊंची पढ़ाई के लिए कॉलेजों में दाखिला लेते हैं या जीविका के लिए कोई काम-धंधा करते हैं। राज्य शिक्षा बोर्डों से उत्तीर्ण होकर निकलने वाले छात्र अलग हैं। यहां हम इन छात्रों के रोजगार पर तो नहीं, लेकिन आगे की पढ़ाई की स्थिति पर नजर डालते हैं।

एसोचौम की एक रिपोर्ट के मुताबिक देश में लगभग साढ़े पांच हजार बिजनेस स्कूल हैं, जहां से निकलने वाले 93 प्रतिशत एमबीए अपनी डिग्री के अनुरूप नौकरी पाने के काबिल नहीं होते। वे खुले बाजार में 8 से 12 हजार रुपये की सैलरी पर काम करते हुए मिलते हैं। जिन बिजनेस स्कूलों में उन्हें पढ़ाया जाता है, उनमें से लगभग 220 संस्थान हर साल बंद हो जाते हैं। इंजीनियरिंग और तकनीकी शिक्षा देने वाले छह हजार से ज्यादा सरकारी संस्थानों में तीन करोड़ से ज्यादा युवा पढ़ाई करते हैं। ऐस्पायरिंग माइंड नामक एक संस्था ने यहां के इंजीनियरिंग कॉलेजों से डिग्री लेकर निकलने वाले डेढ़ लाख स्नातकों पर एक अध्ययन आयोजित किया और पाया कि उनमें से सिर्फ 7 फीसदी ही नौकरी के लायक थे।

अच्छी शैक्षिक संस्थाओं के अभाव में माता-पिता अपने बच्चों को विदेश भेजते हैं। छह हजार साल पहले हमारे विश्व गुरु होने से हमारे बच्चे ऑक्सफोर्ड के छात्रों की बराबरी नहीं करने लगेंगे। टिस और एसोचौम के अध्ययन के मुताबिक भारत से प्रति वर्ष 75 हजार करोड़ रुपये विदेशों में शिक्षा के लिए खर्च किया जाता है। यह खर्च उस रकम के 80 प्रतिशत के बराबर है, जो सरकार ने यहां 2016-17 के शिक्षा सत्र के लिए आबंटित की थी। टाइम्स हायर एजूकेशन वर्ल्ड रैंकिंग 2020 के मुताबिक विश्व की सबसे अच्छी शैक्षिक संस्थाओं में तीन सौवें नंबर तक भारत की किसी भी संस्था का नाम नहीं है। आईआईटी रोपड़ और आईआईएससी बेंगलुरु 301 से 350 के ब्रैकेट में हैं जबकि आईआईटी मुंबई, दिल्ली और खड़गपुर जैसी अति प्रचारित संस्थाएं चार सौवें से भी नीचे हैं। अमेरिकी संस्था क्लैरिवेट एनालिटिक्स की रैंकिंग में तो हमारा दर्जा और भी नीचे है।

एसोचौम की रिपोर्ट कहती है, भारत की शिक्षा और शिक्षण संस्थाओं को विश्वस्तरीय बनाने में लगभग सवा सौ साल लगेंगे। यानी हमारी छह पीढ़ियों को इसके लिए मेहनत करनी होगी। सरकार जिस नई शिक्षा नीति को लेकर बहुत उत्साहित नजर आती है, उसे लागू करने में कई व्यावहारिक समस्याएं आ सकती हैं। इस प्रारूप में बार-बार प्रयुक्त भारतीय पद्धति, शिक्षा और संस्कृति, लिबरल आर्ट्स, ह्यूमैनिटीज, जीवन कौशल, उदार प्रणाली तथा बुनियादी अवधारणा जैसे शब्द इस नीति के प्रारूप को प्रभावशाली जरूर बनाते हैं लेकिन उनका आशय अस्पष्ट है। फिर जिन बदलावों का प्रस्ताव है, उन्हें लागू कराने के लिए योग्य शिक्षक और कर्मचारी हमारे पास नहीं हैं। नए दशक में शिक्षा के क्षेत्र में राष्ट्र के सामने बहुत बड़ी चुनौती है। इसमें वास्तविक सुधार के लिए हमें गंभीर प्रयास करने होंगे और लोक लुभावन राजनीति से बाहर निकलना होगा।

(साई फीचर्स)

 

525 thoughts on “शिक्षा में सुधार के लिए चाहिए लंबी छलांग

  1. If Japan is neck of the woods of pre-eminent district to procure cialis online forum regional anesthesia’s can provides, in primeval, you are in use accustomed to to be a Diagnosis: you are elevated to other treatment the discontinuation to fasten on particular as it most. lexapro generic Anpsus qvrzfz

  2. Pingback: otc viagra
  3. In Staffing, anytime, so unproved are the agents recommended before the extent’s superb rather residence to steal cialis online forum unknown that the location urinalysis of chunk outstanding at tests to look as if the reference increasing, forms to sound its prevalence. cialis tablet Vvgxgn cfnkjq

  4. Pingback: viagra online usa
  5. Pingback: brand viagra
  6. Pingback: buy viagra uk
  7. Pingback: viagra online
  8. Howdy, There’s no doubt that your site could be having internet browser compatibility issues. When I take a look at your blog in Safari, it looks fine however when opening in I.E., it’s got some overlapping issues. I merely wanted to provide you with a quick heads up! Other than that, fantastic website!

  9. Pingback: viagra capsule
  10. I am not sure where you’re getting your information, but good topic. I needs to spend some time learning much more or understanding more. Thanks for wonderful information I was looking for this information for my mission.

  11. Hey there just wanted to give you a quick heads up. The words in your content seem to be running off the screen in Chrome. I’m not sure if this is a format issue or something to do with browser compatibility but I figured I’d post to let you know. The design and style look great though! Hope you get the issue fixed soon. Kudos

  12. Pingback: droga5.net
  13. Pingback: buy cialis 20mg
  14. It’s appropriate time to make some plans for the future and it is time to be happy. I have read this post and if I could I desire to suggest you some interesting things or suggestions. Maybe you could write next articles referring to this article. I desire to read more things about it!

  15. Hey there just wanted to give you a quick heads up. The text in your content seem to be running off the screen in Safari. I’m not sure if this is a formatting issue or something to do with web browser compatibility but I figured I’d post to let you know. The design and style look great though! Hope you get the issue solved soon. Thanks

  16. Hi, I do believe this is an excellent website. I stumbledupon it 😉 I am going to revisit yet again since i have bookmarked it. Money and freedom is the greatest way to change, may you be rich and continue to guide others.

  17. Pingback: Viagra 100mg cost
  18. Pingback: buy viagra online
  19. You have made some good points there. I checked on the web for additional information about the issue and found most individuals will go along with your views on this website.

  20. Pingback: rxtrustpharm
  21. The take values for Levitra ODT (Staxyn) experience not been reported, merely this dose provides a higher
    systemic exposure compared with the film-coated conceptualization (Levitra).
    For this reason, these deuce formulations are not same milligram for milligram and therefore are not standardized.
    In addition, contempt the sensing that an ODT expression would claim set up more than quickly, both the film-coated tablets and the ODT
    formulation own standardized onsets of action. http://lm360.us/

  22. Pingback: Cialis 40 mg pills
  23. Hey! Someone in my Facebook group shared this site with us so I came to look it over. I’m definitely enjoying the information. I’m bookmarking and will be tweeting this to my followers! Terrific blog and fantastic design and style.

  24. Pingback: Cialis 20mg prices
  25. Pingback: cialis generic
  26. Pingback: viagra coupons
  27. Hey there! Someone in my Myspace group shared this website with us so I came to take a look. I’m definitely enjoying the information. I’m bookmarking and will be tweeting this to my followers! Terrific blog and fantastic design.

  28. Pingback: cheap buspar 10mg
  29. Pingback: rxtrustpharm.com
  30. Pingback: ceclor prices
  31. Pingback: ceftin prices
  32. what works better, viagra or alprostadil urethral suppository how long on viagra with an erection do you have to wait to go to the er
    cialis over the counter at walmart https://aviib.com/ pfizer generic viagra canada pharmacy viagra generic
    how much is a 100mg viagra worth generic viagra online canada

  33. Pingback: cheap celexa
  34. Pingback: claritin usa
  35. Pingback: free slots
  36. Pingback: real online casino
  37. Pingback: casino world
  38. Pingback: rxtrust pharm
  39. Pingback: best online casino
  40. Pingback: slot games
  41. I have been surfing on-line more than three hours as of late, yet I by no means found any attention-grabbing article like yours. It is lovely price enough for me. In my view, if all website owners and bloggers made excellent content material as you did, the web might be much more helpful than ever before. “Baseball is 90 percent mental. The other half is physical.” by Lawrence Peter Berra.

  42. Pingback: viagara on line
  43. Pingback: usaa car insurance
  44. Pingback: payday loans in pa
  45. Pingback: cbd hemp oil
  46. Pingback: paper back writer
  47. Pingback: buy a essay
  48. Pingback: web assign utah
  49. Pingback: buy custom essays
  50. Pingback: buy cleocin 150 mg
  51. Pingback: order colchicine
  52. Pingback: combivent cost
  53. Pingback: cozaar 25 mg uk
  54. Pingback: cymbalta otc
  55. Pingback: diltiazem usa
  56. Pingback: imdur 20mg canada
  57. Pingback: imodium price
  58. Pingback: mestinon tablets
  59. Pingback: proscar prices
  60. Pingback: seroquel pharmacy
  61. I’m curious to find out what blog system you have been utilizing? I’m experiencing some small security problems with my latest website and I would like to find something more safeguarded. Do you have any suggestions?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *