जंगलों में चल रहीं जुए की फड़!

 

जुआरियों की सुविधाओं का पूरा ध्यान रख रहे फड़ संचालक

(अय्यूब कुरैशी)

सिवनी (साई)। बण्डोल थाना क्षेत्र में जुए की फड़ों का संचालन बहुतायत में होने की खबरें हैं। कहा जा रहा है कि फड़ संचालकों के द्वारा जुआरियों की सुख सुविधाओं का पूरा – पूरा ध्यान रखा जा रहा है। पुलिस के द्वारा यदा कदा छोटे मोटे जुआरियों को पकड़कर वाहवाही लूटी जा रही है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार बण्डोल थाना क्षेत्रांतर्गत अनगिनत जुए की फड़ें चल रही हैं। शाम ढलते ही जंगलों में चलने वाली जुए की फड़ें गुलज़ार होने लगती हैं। शाम ढलते ही आरंभ होने वाली जुए की फड़ें दिन ऊगते तक जारी रहती हैं। इन जुए की फड़ों के बारे में समूचे जिले में चर्चा होती रही है किन्तु बण्डोल पुलिस के द्वारा अब तक बड़े जुआरियों के अड्डों पर हाथ डालने की जहमत नहीं उठाया जाना आश्चर्य जनक ही माना जा रहा है।

बताया जाता है कि इन जुए की फड़ों में सिवनी जिले के अलावा आसपास के जिलों और प्रदेशों के जुआरी आकर दांव लगाते हैं। फड़ों में जुआरियों के आमोद प्रमोद की सारी व्यवस्थाएं भी किये जाने की चर्चाएं जोरों पर हैं। इतना ही नहीं जुआरियों को जुए की फड़ तक लाने ले जाने के लिये भी फड़ संचालकों के गुर्गे मुस्तैद रहा करते हैं।

कहा तो यहाँ तक भी जा रहा है कि जुए की फड़ों में अगर कोई जुआरी अपना सारा धन हार भी जाये तो उसे दस से पच्चीस फीसदी मासिक ब्याज पर तत्काल ही मौके पर उधार (स्पॉट फाईनेंस) की सुविधा भी मुहैया करा दी जाती है। इसके अलावा जुआरियों की हर फरमाईश का इन फड़ों में पूरा – पूरा ध्यान भी रखा जा रहा है।

कहा जा रहा है कि बण्डोल क्षेत्र के जंगलों में सरेआम चलने वाली इन जुओं की फड़ों के कारण आसपास के गाँव के ग्रामीण बहुत ही परेशानी अनुभव करते हैं। ग्रमीणों का कहना है कि उनके क्षेत्र में रोज ही कोई न कोई अन्जान चेहरे चलह कदमी करते दिख जाते हैं।

यहाँ उल्लेखनीय होगा कि कुछ दिन पूर्व ही बण्डोल, लखनवाड़ा और रक्षित पुलिस बल के द्वारा छपारा में एक जुआ फड़ में छापा मारा गया था, जहाँ से लगभग ढाई लाख रूपये जुआ पकड़ा गया था। बताया जाता है कि छपारा पुलिस अगर कुछ सख्ती करती है तो जुआरी बण्डोल थाना क्षेत्र में जाकर जुए की फड़ें जमा लेते हैं।

 

3 thoughts on “जंगलों में चल रहीं जुए की फड़!

  1. Pingback: DevSecOps
  2. Pingback: More Info

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *