लेक्चरर अंकिता की मौत पर गुस्‍से में पूरा महाराष्‍ट्र, प्रदर्शन

 

(ब्यूरो कार्यालय)

वर्धा (साई)। महाराष्ट्र के वर्धा में पेशे से लेक्चरर अंकिता पिसुड्डे की निर्मम हत्‍या से पूरे राज्‍य की जनता गुस्‍से में भर गई है। आक्रोशित लोग अंकिता को न्‍याय दिलाए जाने की मांग को लेकर सड़कों पर उतर आए हैं। प्रदर्शनकारी सरकार के विरोध में नारेबाजी करते हुए आरोपी विकेश को फांसी की सजा देने की मांग कर रहे हैं। विकेश ने गत 3 फरवरी को किरोसीन डालकर अंकिता को आग के हवाले कर दिया था। करीब 40 फीसद तक जली हुई अंकिता ने जिंदगी-मौत के बीच जूझने के बाद सोमवार को दम तोड़ दिया।

इस घटना के बाद से ही वर्धा में काफी उबाल देखा गया था जो अंकिता की मौत के बाद बढ़ गया है। बता दें कि कई स्थानीय लोगों, महिलाओं और कॉलेज छात्रों ने आरोपी विकेश को मौत की सजा देने की मांग करते हुए वर्धा में पिछले गुरुवार को मार्च निकाला था।

अंकिता की मौत के बाद उनके परिजनों ने स्थानीय लोगों के साथ नागपुर हैदराबाद हाइवे पर चक्काजाम किया। इसके अलावा कई लोगों ने यहां सरकार विरोधी नारेबाजी करते हुए आरोपी को फांसी की सजा देने की मांग की।

हिंगणघाट के पुलिस निरीक्षक (एसआई) सत्यवीर बंडीवार ने इस बारे में बताया कि अंकिता की मौत के बाद किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए अस्पताल के आसपास सुरक्षा एहतियातन कड़ी कर दी गई है।

सीएम ने अंकिता की मौत पर दुख जताते हुए कहा कि यह एक बर्बर घटना है और मेरे पास इसे बयां करने को शब्द नहीं हैं। मैं लोगों से अपील करता हूं कि वह संयम से काम लें। इस मामले के आरोपियों को जल्द सजा मिलेगी और सरकार भी इसके लिए सख्त कार्रवाई करेगी। सीएम के अलावा राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी और दूसरे नेताओं ने भी घटना पर दुख जताया है।

अंकिता के परिजनों ने आरोप लगाया है कि विकेश कई दिन से अंकिता का पीछा कर रहा था। पहले विकेश और बॉटनी से पोस्ट ग्रैजुएट और बीएड अंकिता आपस में दोस्त थे लेकिन उसके गलत व्यवहार के चलते अंकिता ने उससे संबंध खत्म कर दिया था।

जेल में बंद है विकेश

बीती 3 फरवरी को विकेश बाइक से आया और मातोश्री आशाताई कुमावर महिला विद्यालय के पास ही अंकिता को रोक लिया। अंकिता यहां पढ़ाती थीं। इसके बाद विकेश ने अंकिता के ऊपर किरोसीन डालकर आग लगा दिया और भाग गया। घटना के कुछ घंटे बाद ही उसे गिरफ्तार कर लिया गया था। अभी नगराले वर्धा जेल में बंद है।

घटना में अंकिता 40% तक जल गईं। उनके चेहरे, सिर, गर्दन सबसे अधिक प्रभावित हुआ, जिससे श्वसन तंत्र पर असर पड़ा। उनका नागपुर के ऑरेंज सिटी हॉस्पिटल ऐंड रिसर्च सेंटर में इलाज चल रहा था। करीब एक हफ्ते बाद अंकिता ने आखिरकार दम तोड़ दिया।

 

373 thoughts on “लेक्चरर अंकिता की मौत पर गुस्‍से में पूरा महाराष्‍ट्र, प्रदर्शन

  1. Pingback: tadalafil cheap
  2. Pingback: cheap viagra no rx
  3. Pingback: cialis dosage
  4. Pingback: buy viagra order
  5. Pingback: viagra 30 pills
  6. Pingback: viagra soft gels

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *