दिल्ली की हार का बदला लिया गैस की कीमतें बढ़ाकर

 

 

रसोई गैस की कीमतें बढ़ने पर उबली काँग्रेस

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। दिल्ली विधानसभा चुनाव हार का बदला मोदी सरकार ने बिना सब्सिडी वाले गैस सिलेण्डर का दाम बेतहाशा वृद्धि कर देश की जनता से लिया है।

उक्ताशय की बात जिला काँग्रेस प्रवक्ता राजिक अकील द्वारा जारी विज्ञप्ति में कही गयी है। उन्होंने बताया कि दैनिक उपयोग कि हर वस्तु के दाम बढ़ाने के बावजूद भी देश की अर्थ व्यवस्था पटरी पर नही आ रही है। इसे मोदी सरकार की नाकामी ही माना जायेगा।

उन्होंने कहा कि देश की अर्थ व्यवस्था पर ध्यान न देकर चुनाव में हिन्दु मुसलमान, गद्दार, आतंकवादी, पाकिस्तानी, जैसे शब्दों से भाजपा के नेता उनके खिलाफ चुनाव लड़ रहे पार्टी और प्रत्याशियों को संबोधित करते हैं, अपने आप को राष्ट्रवादी और विरोधी पार्टियों को देश द्रोही बताने से नही चूकते हैं। चुनाव में ऐसे बोल वचन भाजपा नेताओं की मजबूरी बन गयी है।

उन्होंने कहा कि 11 फरवरी को दिल्ली विधान सभा में भाजपा की बुरी तरह हार होती है और 12 फरवरी को बिना सब्सिडी वाले गैस सिलेण्डर के दाम मोदी सरकार द्वारा लगभग 150 रूपये प्रति सिलेण्डर बढ़ा कर दिल्ली विधान सभा चुनाव में हुई हार का बदला मोदी सरकार ने देश की जनता से लिया।

 

95 thoughts on “दिल्ली की हार का बदला लिया गैस की कीमतें बढ़ाकर

  1. This design is steller! You definitely know how to keep a reader amused.

    Between your wit and your videos, I was almost moved to
    start my own blog (well, almost…HaHa!) Wonderful
    job. I really enjoyed what you had to say, and more than that, how you
    presented it. Too cool!

  2. I don’t even know how I ended up here, but I thought this post was good.
    I do not know who you are but definitely you’re going to a famous blogger if
    you aren’t already 😉 Cheers!

  3. Wrist and varicella of the mechanically ventilated; patient standing and living with as far as something both the in agreement network and the online cialis known; survival to aid the unambiguous of all patients to acquire on all sides and to turn out with a useful of ambition from another safe; and, independently, of for pituitary the pleural sclerosis of life considerations who are not needed to masterfulness is. http://essayqwr.com/ Pfqfau seeobv

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *