जल, जंगल, जमीन का दोहन कर बना रहे ईंट!

 

(संजीव प्रताप सिंह)

सिवनी (साई)। जिले भर में वन विभाग के स्वामित्व वाले भू भाग पर अवैध रूप से लगे ईंट के भट्टों में जंगल की मिट्टी और लकड़ी का उपयोग धड़ल्ले से किया जा रहा है।

जिले भर में इन दिनों अवैध रूप से ईंट बनाने का कारोबार जोरों से चल रहा है। वहीं अनेक ईंट भटृटा लगाने वालों ने न तो खनिज विभाग और न ही ग्राम पंचायत से एनओसी ले रखी है। इससे शासन को लाखों रुपये की क्षति हो रही है। साथ ही ईंट पकाने के लिये जल, जंगल, जमीन का खुलेआम दोहन जारी है। इस मामले में न तो खनिज विभाग, वन विभाग के अधिकारी ध्यान दे रहे हैं और न ही पंचायत के।

वन परिक्षेत्र के अंतर्गत आने वाले इलाकों में अवैध ईंट भटृटों का संचालन किये जाने के कारण पर्यावरण को खासा नुकसान पहुँच रहा है वहीं नदी नालों से ईंट बनाने के लिये मोटर पंप से बेहिसाब पानी लिया जा रहा है। इसके चलते नदी, नालों का जल स्तर तेजी से गिर गया है। आसपास के क्षेत्रों में अभी से पेयजल संकट गहरा गया है।

इन परिस्थितियों में किसान मवेशियों को पानी पिलाने की चिंता से ग्रसित हैं। मिट्टी की खुदाई और जंगल में लकड़ी की कटाई भी अवैध रूप से की जा रही है। ग्राम वासियों ने कलेक्टर सिवनी से माँग की है कि शीघ्र ही अवैध ईंट भट्टा संचालकों पर कार्यवाही की जाये।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *