राम जन्मभूमि मर्यादा सम्मेलन 15 को परमहंसी में


(ब्यूरो कार्यालय)
सिवनी (साई)। ज्योतिष एवं द्वारका शारदा पीठाधीश्वर जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती महाराज के नेत्तृत्व में एवं भारतवर्ष के सुप्रतिष्ठित संतों के सानिध्य में सनातन धर्म महामंच के तत्वावधान में 15 मार्च को विशाल श्रीराम जन्मभूमि मर्यादा रक्षा महा सम्मेलन परमहंसी आश्रम झोतेश्वर में आयोजित है।
जिला ब्राह्मण समाज प्रवक्ता, पंडित मनोज मर्दन त्रिवेदी द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति में बताया गया है कि सम्मेलन के संबंध में गत 28 फरवरी को महाराजश्री के आह्वान पर परमहंसी गंगा आश्रम में ब्राह्मण समाज की वृहद बैठक संपन्न हुई। बैठक में विभिन्न जिलों से ब्राह्मण समाज के प्रतिनिधि एवं जिला ब्राह्मण समाज सिवनी का प्रतिनिधि मण्डल उपस्थित रहा।
महाराजश्री ने, गहरी चिंता व्यक्त करते हुए राम जन्मभूमि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की प्रक्रिया में बरती जा रही विसंगतियों का विस्तार से उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि राम जन्मभूमि में हमारे आराध्य भगवान श्रीराम का मंदिर सनातन धर्म रीति के अनुसार बनना चाहिये।
उन्होंने कहा कि मंदिर निर्माण हेतु वर्तमान में सरकार द्वारा जिन व्यक्तियों को समिति में शामिल किया गया है, इन व्यक्तियों के वक्तव्य एवं क्रियाकलापों से स्पष्ट है कि, वे श्रीराम को केवल मनुष्य और महापुरुष मानते हैं। समिति में सरकार द्वारा राजनीतिक आधार पर शामिल लोग मंदिर के नाम पर श्रीराम का स्टेचू और स्मारक बनाना चाहते हैं।
जगतगुरू ने कहा कि इस स्थिति को देखते हुए ब्राह्मण एवं समस्त श्रद्धालु सनातन धर्मी साधु – संतों को आगे आकर सरकार पर नैतिक दबाव डालना चाहिये। अयोध्या का राम मंदिर केवल सैर सपाटा का दर्शनीय स्थल न होकर संपूर्ण विश्व के सनातन धर्मी के आस्था का केंद्र पवित्र तीर्थ के रूप में स्थापित होना चाहिये।
सनातन धर्मी भावना के अनुरूप राम मंदिर के निर्माण के संबंध में गंभीर चिंतन करने के उद्देश्य से रविवार 15 मार्च को परमहंसी गंगा आश्रम झोतेश्वर में उक्त सम्मेलन आयोजित है। महाराजश्री ने कहा कि सम्मेलन सनातन परंपरा के अनुरूप पूर्ण शांतिमय होगा।
सम्मेलन में राम मंदिर निर्माण के संबंध में भारतवर्ष के साधु संतों द्वारा व्यक्त विचारों से सनातन धर्मी जन – मेदिनी एवं सरकार को अवगत कराया जायेगा। ब्राह्मण समाज महा सचिव पंडित प्रशांत शुक्ला ने बताया कि 15 मार्च के उक्त सम्मेलन में महाराजश्री की जन्म भूमि सिवनी जिले से अधिक से अधिक संख्या में श्रद्धालु जनों के पहुँचने – सूचना एवं प्रेरित करने के उद्देश्य से जिला ब्राह्मण समाज के तत्वावधान में 06 मार्च को जिला स्तरीय बैठक आहूत की गयी है।
श्री परशुराम भवन में अपरान्ह 04 बजे से आयोजित इस बैठक में सभी सामाजिक नर – नारी सहित ब्राह्मण समाज के जिला एवं विकास खण्ड संगठन ईकाई के पदाधिकारी एवं सदस्य, ब्राह्मण समाज के संगठन ईकाई युवा शाखा, महिला शाखा, परशुराम वाहिनी के सभी पदाधिकारी एवं सदस्यों को आमंत्रित किया गया है।