पलाश, बसंत, फाल्गुन राग और जंगल की आग

 

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। बसंत का मौसम हो तथा पलाश की चर्चा न हो, ये नहीं हो सकता। जंगल में आग जब चहूँ ओर लगी हो तो उसकी चर्चा होना स्वाभाविक ही है। ऐसा लगता है जैसे पलाश के फूलों ने सारी धरा को आच्छादित कर उसका श्रृंगार किया हो। वैदिक ग्रंथों से लेकर वर्तमान तक पलाश का गुणगान होता है।

कवियों ने इसे अपने काव्य का विषय बनाया और कहा – भ्रमर गीत गुंजित सुमन मलय पवन मकरंद। किंशुक कलि रति काम के, रचती मादक छंद भ्रमर प्रत्यंचा पर धरे जब पलाश के वाण, काम विमुग्धा सृष्टि ने रचे प्रीति के गान। वियोगी प्रिया एवं प्रियतम के संयोग गान (मिलन गीत) जन मानस में रचे बसे हैं। नगाड़ों की थाप के साथ होली का फगुआ वातावारण को पलाशी बना देता है, विरह की अग्नि शिखाओं की लपटें जानों ब्रह्माण्ड को लील जाना चाहती हों।

शास्त्रों ने पलाश को यज्ञिय वृक्ष कहा है, यह वृक्ष हिंदुओं के पवित्र माने हुए वृक्षों में से है। इसका उल्लेख वेदों तक में मिलता है। श्रोत्रसूत्रों में कई यज्ञपात्रों के इसी की लकड़ी से बनाने की विधि है। गृह्वासूत्र के अनुसार उपनयन के समय में ब्राह्मण कुमार को इसी की लकड़ी का दण्ड ग्रहण करने की विधि है।

बसंत में इसका पत्रहीन पर लाल फूलों से लदा हुआ वृक्ष अत्यंत नेत्रसुखद हेता है। संस्कृत और हिंदी के कवियों ने इस समय के इसके सौंदर्य पर कितनी ही उत्तम – उत्तम कल्पनाएं की हैं। इसका फूल अत्यंत सुंदर तो होता है पर उसमें गंध नहीं होती। इस विशेषता पर भी बहुत सी उक्तियां कही गयी हैं.. ढाक कहो, टेसू कहो अथवा कहो पलाश, ऊपवन में पर हैसियत होती इसकी खास।

इसे किंसुक, पर्ण, याज्ञिक, रक्तपुष्पक, क्षारश्रेष्ठ, वात-पोथ, ब्रह्मावृक्ष, ब्रह्मावृक्षक, ब्रह्मोपनेता, समिद्धर, करक, त्रिपत्रक, ब्रह्मपादप, पलाशक, त्रिपर्ण, रक्तपुष्प, पुतद्रु, काष्ठद्रु, बीजस्नेह, कृमिघ्न, वक्रपुष्पक, सुपर्णी, केसूदो। शुक चंचु कहा जाता है। इस वृक्ष के फूल बहुत ही आकर्षक होते हैं। इसके आकर्षक फूलों के कारण इसे जंगल की आग भी कहा जाता है।

प्राचीन काल ही से होली के रंग इसके फूलों से तैयार किये जाते रहे हैं। भारत भर में इसे जाना जाता है। एक लता पलाश भी होता है। लता पलाश दो प्रकार का होता है। एक तो लाल पुष्पों वाला और दूसरा सफेद पुष्पों वाला। लाल फूलों वाले पलाश का वैज्ञानिक नाम ब्यूटिया मोनोस्पर्मा है।

सफेद पुष्पों वाले लता पलाश को औषधीय दृष्टिकोण से अधिक उपयोगी माना जाता है। वैज्ञानिक दस्तावेजों में दोनों ही प्रकार के लता पलाश का वर्णन मिलता है। सफेद फूलों वाले लता पलाश का वैज्ञानिक नाम ब्यूटिया पार्वीफ्लोरा है जबकि लाल फूलों वाले को ब्यूटिया सुपरबा कहा जाता है। एक पीले पुष्पों वाला पलाश भी होता है।

छत्तीसगढ़ में पलास के पत्ते प्रायः पत्तल और दोने आदि के बनाने के काम आते हैं, इसके साथ आग में भूंज कर बनायी जाने वाले भोजन को लपेटने के लिये भी पलाश के पत्तों का उपयोग होता है, छत्तीसगढ़ की प्रसिद्ध अंगाकर पानरोटी इसी पलाश के पत्तों से लपेट कर बनायी जाती है।

राजस्थान और बंगाल में इनसे तंबाकू की बीड़ियां भी बनाते हैं। फूल और बीज औषधि रूप में व्यवहृत होते हैं। बीज में पेट के कीड़े मारने का गुण विशेष रूप से है। फूल को उबालने से एक प्रकार का ललाई लिये हुए पीला रंग भी निकलता है जिसका खासकर होली के अवसर पर व्यवहार किया जाता है। फली की बुकनी कर लेने से वह भी अबीर का काम देती है। छाल से एक प्रकार का रेशा निकलता है जिसको जहाज के पटरों की दरारों में भरकर भीतर पानी आने की रोक की जाती है। जड़ की छाल से जो रेशा निकलता है उसकी रस्सियां बटी जाती हैं।

इस वृक्ष के रेशों से दरी और कागज भी इससे बनाया जाता है। इसकी पतली डालियों को उबालकर एक प्रकार का कत्था तैयार किया जाता है जो कुछ घटिया होता है और बंगाल में अधिक खाया जाता है। मोटी डालियों और तनों को जलाकर कोयला तैयार करते हैं। छाल पर बछने लगाने से एक प्रकार का गोंद भी निकलता है जिसको चुनियां गोंद या पलास का गोंद कहते हैं।

वैद्यक में इसके फूल को स्वादु, कड़वा, गरम, कसैला, वातवर्धक शीतज, चरपरा, मलरोधक तृषा, दाह, पित्त कफ, रुधिर विकार, कुष्ठ और मूत्रकृच्छ का नाशक; फल को रूखा, हलका गरम, पाक में चरपरा, कफ, वात, उदररोग, कृमि, कुष्ठ, गुल्म, प्रमेह, बवासीर और शूल का नाशक; बीज को स्तिग्ध, चरपरा गरम, कफ और कृमि का नाशक और गोंद को मलरोधक, ग्रहणी, मुखरोग, खांसी और पसीने को दूर करने वाला लिखा है।

ऋतुराज बसंत के स्वागत का प्रमुख श्रेय लाल रंग से आवृत्त पलाश वृक्ष को ही जाता है। पलाश के गुणों के कारण इसे ब्रह्म वृक्ष भी कहा गया है। इसमें औषधिय गुणों की भरमार है, प्रतिदिन एक पलाश पुष्प पीसकर दूध में मिला के गर्भवती माता को पिलायें तो इससे बल – वीर्यवान संतान की प्राप्ति होती है। नारी को गर्भ धारण करते ही अगर गाय के दूध में पलाश के कोमल पत्ते पीस कर पिलाते रहिये तो शक्तिशाली और पहलवान बालक पैदा होगा। पेशाब में जलन हो रही हो या पेशाब रुक-रुक कर हो रहा हो तो पलाश के फूलों का एक चम्मच रस निचोड़ कर दिन में 03 बार पी लीजिये। इसी पलाश से एक ऐसा रसायन भी बनाया जाता है जिसको अगर खाया जाये तो बुढ़ापा और रोग आसपास नहीं आ सकते। इसका प्रयोग बाजीकरण में भी होता है।

भारत के सुंदर फूलों वाले प्रमुख वृक्षों में से पलाश एक है। सुन्दरता ने ही इसे उत्तर प्रदेश सरकार के राज्य पुष्प के पद पर सुशोभित किया है और इसको भारतीय डाकतार विभाग द्वारा डाक – टिकिट पर प्रकाशित कर सम्मानित किया जा चुका है। भारतीय साहित्य और संस्कृति से घना संबंध रखने वाले इस वृक्ष का चिकित्सा और स्वास्थ्य से भी गहरा संबंध है।

बसंत में खिलना आरंभ करने वाला यह वृक्ष गरमी की प्रचण्ड तपन में भी अपनी छटा बिखेरता रहता है। जिस समय गरमी से व्याकुल हो कर सारी हरियाली नष्ट हो जाती है, जंगल सूखे नज़र आते हैं दूर तक हरी दूब का नामों निशान भी नज़र नहीं आता उस समय ये न केवल फूलते हैं बल्कि अपने सर्वाेत्तम रूप को प्रदर्शित करते हुए नयनों को सुख प्रदान करते हैं। कवि रामेश्वर कम्बोज कहते हैं – निर्जल घाटी के सीने पर आखर लिख दिये प्यास के, जंगल में भी शीश उठाकर खिल गये फूल पलाश के।