नवरात्रि में गुरु का होगा राशि परिवर्तन

 

 

जानें किस राशि की चमकेगी किस्मत तो किसे उठाना होगा नुकसान

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। हिंदू पंचांग के अनुसार इस वर्ष चैत्र नवरात्रि 24 मार्च दोपहर 0257 बजे से आरंभ हो रहे हैं। चैत्र नवरात्रि की प्रतिपदा तिथि 24 मार्च दोपहर 0257 बजे से आरंभ होकर 25 मार्च दोपहर 0526 बजे तक रहेगी। चैत्र नवरात्र प्रत्येक वर्ष चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से आरंभ होते हैं।

ज्योतिष की जानकार आरजू विश्वकर्मा ने बताया कि इसी माह 30 मार्च 2020 को गुरु अपनी स्वराशि धनु से निकलकर शनि ग्रह की राशि मकर में प्रवेश करेंगे। ज्योतिष शास्त्र में गुरु को एक शुभ ग्रह माना जाता है। गुरु ज्ञान, धर्म – आध्यात्म और नैतिक कार्यों का कारक है।

ज्योतिष ग्रहों के आधार पर किसी भी ग्रह के स्थान परिवर्तन करने से सभी राशियों पर उसका अच्छा और बुरा प्रभाव देखने को मिलता है। ऐसे में गुरु के इस राशि परिवर्तन करने से भी कुछ राशियां ऐसी हैं जिनके लिये किस्मत का दरवाजा खुलने वाला है तो कुछ ऐसी राशियां हैं जिन्हें सावधान रहने की अत्यंत आवश्यकता है। आईये राशि अनुसार, जानते हैं गुरु की चाल का प्रभाव किस राशि के जातक पर कैसा रहेगा।

मेष : गुरु के राशि परिवर्तन करने से मेष राशि के जातकों की किस्मत खुलने वाली है। इन लोगों को गुरु का आशीर्वाद मिलता दिख रहा है। इस राशि के लोगों को न सिर्फ धर्म के क्षेत्र में सफलता मिलेगी, बल्कि ये लोग अपने कार्यक्षेत्र में भी तरक्की करेंगे। ऑफिस में इन लोगों के अधिकारी इन लोगों के कार्य से खुश रहेंगे।

वृष : गुरु के राशि परिवर्तन करने से वृष राशि के लोगों के जीवन पर मिला जुला प्रभाव देखने को मिलेगा। इन लोगों को सेहत से जुड़ी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है लेकिन ससुराल पक्ष से कोई कीमती तोहफा मिलने के संकेत दिख रहे हैं। 

मिथुन : गुरु की चाल से मिथुन राशि के जातकों को शुभाशुभ फलों की प्राप्ति होगी। गुरु के प्रभाव से इस राशि के व्यक्तियों के शादीशुदा जीवन में खुशियां आ सकती हैं। वहीं व्यापार में साझेदारी से भी इस राशि के जातकों को लाभ मिलता दिख रहा है. हालांकि वाहन चलाते समय इस राशि के जातकों को सावधानी बरतने की आवश्यकता है।

कर्क : कर्क राशि के जातकों को पेट से जुड़ी कोई स्वास्थ्य समस्या झेलनी पड़ सकती है। इस राशि के लोगों को अपनी सेहत का ध्यान रखना होगा। साथ ही इस राशि के लोग अपने शत्रुओं से भी बचकर रहें। इनके शत्रु इन्हें नुकसान पहुँचा सकते हैं। 

सिंह : सिंह राशि के जातकों को गुरु के आशीर्वाद से संतान की तरफ से शुभ समाचार सुनने को मिलेगा। अगर आप शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े हैं तो इसमें आपको प्रबल सफलता मिलने की संभावना है। कर्क राशि की तरह लेकिन इस राशि के जातकों को भी आपनी सेहत का ख्याल रखना होगा। इन लोगों को पेट, मोटापे या सूजन से जुड़ी कोई समस्या झेलनी पड़ सकती है।

कन्या : कन्या राशि वालों के लिये गुरु का गोचर लाभकारी रहेगा। इस राशि परिवर्तन से आपके सुख – संसाधनों में वृद्धि होगी। आपकी माताजी को सेहत का लाभ मिलेगा। परिवार में सुख – शांति का वातावरण देखने को मिलेगा। उच्च शिक्षा में बड़ी सफलता मिलने की संभावना है। इस वर्ष आप कोई नया वाहन या प्रॉपर्टी आदि भी खरीद सकते हैं।

तुला : गुरु के इस राशि परिवर्तन से तुला राशि के लोगों को कोई अनचाही यात्रा करनी पड़ सकती है। इसके अलावा इस राशि के लोगों की अपने भाई – बहन से किसी बात पर लड़ाई तक हो सकती है।

वृश्चिक : गुरु के राशि परिवर्तन से आपको इस वर्ष बहुत अच्छे परिणाम मिलने के संकेत हैं। इस वर्ष आपको कई अलग – अलग स्त्रोतों से धन प्राप्त होता नज़र आयेगा। आपकी वाणी में मधुर होगी और आप अपने गुस्से पर काबू पाने में भी सफल रहेंगे। इस राशि के लिये अच्छी बात यह है कि इस वर्ष वृश्चिक राशि के जातकों के आत्म – विश्वास में भी वृद्धि होगी।

धनु : धनु राशि वालों के लिये गुरु का गोचर शानदार रहेगा। वर्ष की शुरुआत में गुरु आपकी राशि में ही स्थित होगा। इस दौरान आपके ज्ञान में वृद्धि होगी। आर्थिक जीवन में आपको तरक्की मिलेगी। आपके पास एक से अधिक स्त्रोतों से धन आयेगा।

मकर : गुरु के गोचर सेमकर राशि के खर्चों में वृद्धि होगी। आपके पास धन तो आयेगा, लेकिन वह आपके पास रुकेगा नहीं। आर्थिक फैसले लेने से पहल सतर्कता बरतें वरना आपको धन हानि भी हो सकती है।

कुंभ : गुरु के राशि परिवर्तन से आपको विभिन्न क्षेत्रों में सफलता मिलेगी। इस वर्ष आपका आर्थिक पक्ष मजबूत रहेगा। आप धन की बचत कर पाने में भी सफल होंगे।

मीन : मीन राशि के लिये गुरु का गोचर शुभ रहेगा। इन लोगों को अपने कार्यक्षेत्र में सफलता मिलेगी। अगर आप शिक्षा विभाग से जुड़े हैं तो कार्य में तरक्की मिलने से आपका मन काफी प्रसन्न रहेगा।