ब्रिटेन से आए तीन लोगों व ड्राइवर को कोरोना का संदेह

एमपी नगर का एक होटल सील

(ब्यूरो कार्यालय)

भोपाल (साई)। एमपी नगर जोन-2 के होटल में मंगलवार रात कोरोना के चार संदिग्ध मरीज मिलने से हड़कंप मच गया। होटल को खाली करा लिया गया है। सिर्फ संदिग्धों को यहां पर रोका गया है। कोरोना की जांच के लिए उनके स्वाब के सैंपल लेकर जांच के लिए एम्स भेजे गए हैं। यह हाल ही में ब्रिटेन से लौटकर आए हैं।

भारत में उनके साथ घूमने वाले एक अंग्रेज को कोरोना पॉजिटिव आने से संदिग्धों के भी पॉजिटिव आने की आशंका बढ़ गई है। लिहाजा, स्वास्थ्य विभाग विशेष सतर्कता बरत रहा है। स्वास्थ्य विभाग के अफसरों ने बताया कि एक दंपती के अलावा उनका बेटा व ड्राइवर गोदिया से भोपाल आकर इस होटल में रुके थे। होटल प्रबंधन ने इसकी सूचना कलेक्टर को दी। इसके बाद कलेक्टर ने स्वास्थ्य विभाग की टीम मौके पर भेजी। होटल को खाली कराया गया। साथ ही डॉक्टरों की टीम ने कोरोना की जांच के सैंपल लिए। पुलिस-प्रशासन की टीम होटल में तैनात कर दी गई है।

चीन से आई युवती संदिग्ध, जेपी में भर्ती

भोपाल रेलवे स्टेशन के महिला वेटिंग रूम में बैठी चीन की युवती को देख वहां हड़कंप मच गया। मौके पर जीआरपी व आरपीएफ पहुंची। स्वास्थ्य विभाग के अफसरों को इसकी सूचना दी गई। युवती को जेपी अस्पताल के प्राइवेट वार्ड में मंगलवार रात 11 बजे भर्ती किया गया है। उसके भी स्वाब के सैंपल कोरोना की जांच के खातिर लिए गए हैं।

कोरोना वायरस के खतरे के बीच राजधानी के कुछ मेडिकल व केमिस्ट स्टोर संचालक कमाई करने लगे हैं। मंगलवार मिनाल गेट पर द फैमिली केमिस्ट स्टोर का संचालक 216 रुपये का हैंड सेनिटाइजर 300 और 10 रुपये का मास्क 30 रुपये का बेच रहा था। संचालक को रंगे हाथों पकड़ा है। इसके अलावा भी कुछ अन्य दवा दुकान संचालकों पर कार्रवाई की है। यह कार्रवाई नापतौल विभाग, खाद्य विभाग व ड्रग इंस्पेक्टरों ने की है। संयुक्त टीम ने मिनाल रेसिडेंसी जेके रोड, गोविंदपुरा, न्यू मार्केट, पिपलानी क्षेत्र में दवा बाजार की थोक व फुटकर मेडिकल स्टोर व दवा दुकानों पर पहुंची थी।

टीम को मिनाल गेट के सामने स्थित द फैमिली केमिस्ट में दोनों के बिल भी बनाकर नहीं दिए जा रहे थे। जांच में मास्क कहां से खरीदे गए, दुकान संचालक बिल भी नहीं बता पाया। कॉटन के बंडल में सभी टैक्स सम्मिलित होना नहीं पाए गए। इन सभी गड़बड़ियों के चलते नापतौल विभाग और ड्रग इंस्पेक्टरों की टीम ने दुकान संचालक पर मिस ब्रांडिंग व पैकेज अधिनियम के तहत प्रकरण दर्ज किया है। 27 मेडिकल स्टोरों की जांच की। इनमें से 6 मेडिकल दुकानों पर गड़बड़ियां पकड़ी हैं। वहीं दवा बाजार में विक्रम सर्जरी में वजन नापने की व कुछ अन्य मशीनों पर लेबल नहीं मिला। इन मशीनों को जब्त कर लिया है।

मेडिकल स्टोर का तौल कांटा सत्यापित नहीं था। सर्जिकल दस्ताने और कानों में सुनने की मशीन पर कीमत दर्ज नहीं पाई गई तथा अन्य सामान भी मिस ब्रांडिंग का पाया गया। हैंड सेनेटाइजर बनाने वाली कंपनी का पता बोतल पर नहीं लिखा था। मास्क के पैकेट पर निर्माणकर्ता कंपनी का नाम व पता नहीं था। हैंड सेनिटाइजर तथा मास्क के खरीदी बिक्री का रिकार्ड दुकान संचालक नहीं दिखा सके। तय कीमत से अधिक दामों पर मास्क तथा हैंड सेनिटाइजर बेचा जा रहा था। हैंड सेनिटाईजर एवं मास्क नहीं मिले। दुकान संचालक पर प्रकरण नहीं बनाया।