कोरोना वायरस: किसी भी तरह की मदद चाहिए

राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों ने जारी किए हेल्पलाइन नंबर

(ब्‍यूरो कार्यालय)

नई दिल्‍ली (साई)। देशभर में कोरोना वायरस का संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने शनिवार को बताया कि देश में अब तक कुल 918 पॉजिटिव केस सामने आए हैं, 19 लोगों की मौत इस महामारी से हो चुकी है।

इस बीच कोरोना वायरस पर लगाम के लिए सरकार ने लॉकडाउन का ऐलान किया। इसके साथ ही लोगों से अपील की गई है कि वो घरों में रहें, सोशल डिस्टेंस यानी सामाजिक दूरी का पालन करें। इसके साथ ही लॉकडाउन के दौरान लोगों को किसी भी तरह की कोई समस्या नहीं हो इसके लिए सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों की ओर से हेल्पलाइन नंबर जारी किए गए हैं।

चाहिए मदद, इन नंबर पर करें फोन

कोरोना के बढ़ते संक्रमण और लॉकडाउन से हो रही परेशानियों के मद्देनजर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के लोगों के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किए हैं। इन नंबरों पर कॉल करके संबंधित राज्यों के नागरिक अपनी समस्या बता सकते हैं और जरूरी जानकारी और मदद मांग सकते हैं।

मजदूरों के लिए कर्नाटक सरकार ने शुरू किया फूड हेल्पलाइन

दरअसल, कोरोना से बचाव को लेकर लॉकडाउन घोषित किए जाने के बाद दिहाड़ी मजदूरों और गरीबों की मुश्किलें बढ़ गई हैं। दिल्ली समेत देशभर से मजदूरों के अपने गांवों की ओर पलायन की खबरें सामने आ रही हैं। हालांकि, केंद्र और राज्य सरकारें इन मजदूरों के खाने-पीने और ठहरने की व्यवस्था कर रही हैं, जिससे उन्हें कोई समस्या नहीं हो। इसी के मद्देनजर कर्नाटक सरकार ने मजदूरों के लिए फूड हेल्पलाइन नंबर: 155214जारी किया है।

जम्मू और कश्मीर ने भी शुरू की हेल्पलाइन

राष्ट्रीय राजधानी और देश के अन्य हिस्सों में फंसे हुए अपने निवासियों की मदद के लिए जम्मू और कश्मीर निवासी आयोग ने 7 दिन 24 घंटे सेवाएं देने वाला एक समर्पित हेल्पलाइन केंद्र स्थापित किया है। एडिशनल सेक्रेट्री रिम्पी ओहरी इस केंद्र की कार्यप्रणाली की देखरेख कर रही हैं। इसके लिए तीन हेल्पलाइन नंबर – 24611210, 24611108 और 24615475 की घोषणा की गई है। एक आधिकारिक प्रवक्ता ने इस बारे में कहा कि लॉकडाउन के कारण कहीं भी फंसे हुए जम्मू-कश्मीर निवासी इन हेल्पलाइन नंबरों पर संपर्क कर सकते हैं। प्रवक्ता ने कहा कि देश भर के सैकड़ों छात्रों को आयोग द्वारा उनके घर लौटने में या दिल्ली के विभिन्न होटलों में रहने के लिए मदद की गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *