जबलपुर में तैयार होगी 22 कोच की आइसोलेशन ट्रेन

(ब्‍यूरो कार्यालय)

जबलपुर (साई)। कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने रेलवे ने यात्री ट्रेनों का संचालन पूरी तरह से बंद कर दिया है। सिर्फ मालगाड़ियों का संचालन किया जा रहा है। इसके साथ बोर्ड ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए आइसोलन कोच वाली ट्रेन बनाने जा रहा है ताकि जरूरत पड़ने पर रेलवे स्टाफ व यात्रियों का यहां पर उपचार किया जा सके। बोर्ड ने इसके लिए सभी जोन को निर्देश दिए हैं। पश्चिम मध्य रेलवे जोन को आइसोलेशन कोच के 2 रैक तैयार करने के निर्देश मिले हैं। इस निर्देश के बाद पमरे का जबलपुर रेल मंडल 22 कोच की आइसोलेशन ट्रेन तैयार करने में जा जुट गया है। सूत्रों के अनुसार यह कोच एक सप्ताह में तैयार हो जाएंगे फिर जहां आवश्यकता होगी वहां भेजे जाएंगे।

पुराने एसी कोचों को होगा उपयोग :

आइसोलेशन कोच तैयार करने के लिए पमरे ऐसे कोचों की तलाश कर रहा है, जिसका यदि आइसोलेशन वार्ड के तौर पर उपयोग किया जाता है तो इन्हें दोबारा यात्री ट्रेनों में उपयोग न किए जाए। इसके लिए पुराने मॉडल के एसी कोच लिए जा रहे हैं। दरअसल 22 कोच की एक आइसोलेशन ट्रेन तैयार की जानी है, जिसमें सभी एसी कोच होंगे, जिनमें कोरोना वायरस के लक्षण मिलने वाले मरीजों को भर्ती किया जाएगा। खास बात यह है कि जबलपुर रेल मंडल के मैकेनिकल विभाग को इन कोचों को तैयार करना है, जिसमें मंडल के दूसरे विभाग भी मदद करेंगे।

रीवा-कटनी से जबलपुर लाए कोच :

जबलपुर रेल मंडल ने आइसोलेशन कोच की तलाश शुरू कर दी है। शुक्रवार को रीवा, कटनी और बेलखेड़ा से तकरीबन 11 पुराने एसी कोच जबलपुर लाए गए। यहां इन कोचों को सैनिटाइज कर भोपाल भेजा जा रहा है। वहीं 11 और कोचों की तलाश शुरू हो गई है। दरअसल इन कोचों को भोपाल कोच फैक्ट्री में आइसोलेशन वार्ड में बदला जाना है, जिसके लिए कोच की साइड अपर और अपर सीट निकालने से लेकर कई अन्य बड़े परिवर्तन भी जाएंगे, ताकि जरूरत होने पर यदि किसी मरीज को भर्ती किया जाता है तो कोच में ही हॉस्पिटल की सभी सुविधाएं दिए जाएं।

One thought on “जबलपुर में तैयार होगी 22 कोच की आइसोलेशन ट्रेन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *