लॉकडाउन में भी नहीं समझा पिता का दर्द

(ब्‍यूरो कार्यालय)

भरतपुर (साई)। देश-प्रदेश में जब सबसे ज्यादा लोगों को मानवता दिखाने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। वहीं इसे शर्मसार करने वाली घटना भरतपुर से सामने आई हैं।

यहां पंजाब के रहने वाले एक बुजुर्ग को प्रताड़ित कर उसके बेटी- दामाद ने बाहर निकाल दिया है। दरअसल कोरोना संकट के दौरान चल रहे लॉक डाउन में पंजाब से एक बुजुर्ग व्यक्ति अपनी पुत्री व दामाद के पास भरतपुर आ गया था, लेकिन उसके बाद लॉक डाउन होने के बाद वह यही फंस गया और वापस अपने घर पंजाब नहीं जा सका। इन्हीं सभी कारणों के चलते अब उसके पुत्री व दामाद ने बुजुर्ग को प्रताड़ित कर बेसहारा कर दिया है।
मिलने आया था बुजुर्ग
जानकारी के अनुसार लुधियाना निवासी 80 वर्षीय बुजुर्ग रमेश चंद्र शर्मा लॉकडाउन से पहले भरतपुर में अपने दामाद और पुत्री से मिलने आया था, लेकिन लॉकडाउन के बाद वापस ना जा सकें। इसके बाद उनकी बेटी व दामाद ने उन्हें प्रताड़ित करने लगे, जिसकी सूचना पर उद्योग नगर पुलिस मौके पर पहुंची और वृद्धजन संबल योजना के तहत बुजुर्ग के लिए परामर्श और पुनर्वास व्यवस्था उपलब्ध कराई है |

घर जाने की जताई इच्छा, तो पुलिस ने किया इंतजाम
इस घटना के बाद पीड़ित बुजुर्ग ने पुलिस अधिकारियों से अपने घर पंजाब वापस जाने की इच्छा जाहिर की , तो उद्योग नगर थाना प्रभारी चंद्रप्रकाश चौधरी ने बुजुर्ग के पुत्र से वार्ता कर ऑनलाइन पास बनवाने में मदद की। लेकिन उसके बाबजूद भी न तो उसका पुत्र पंजाब से अपने बुजुर्ग पिता को लेने के लिए राजी हुआ और ना ही दामाद व पुत्री उसे अपने घर में रखना चाहते हैं । यह बताया जा रहा है कि बुजुर्ग को प्रताड़ित कर घर से निकलने को बाध्य करने वाले दामाद प्रदीप शर्मा को तुरंत गिरफ्तार कर पाबंद करवाया गया और बुजुर्ग के रहने के लिए एडीएम सिटी राजेश गोयल के निर्देशों पर प्रशासन के सहयोग से बुजुर्ग के रहने व खाने पीने की व्यवस्था करवाई गई |