पॉजिटिव ड्राइवर साथ लेकर आया था 18 लोग

सभी हो सकते हैं खतरा, प्रशासन में हडक़ंप

(ब्‍यूरो कार्यालय)

जबलपुर (साई)। इंदौर में एक प्राइवेट फैक्ट्री में काम करने वाले जिस 20 वर्षीय युवक धर्मेन्द्र सिंह को कोविड-19 पॉजीटिव पाया गया है, उसके साथ इंदौर से जबलपुर तक ट्रक में 18 लोग सवार थे। लॉकडाउन के बाद ये लोग इंदौर से देवास तक पैदल आए थे। उसके बाद पुलिस ने उन्हें एक ट्रक में बैठा दिया था।

18 अप्रैल को ट्रक से कटंगी बायपास पर उतरने पर चेकपोस्ट में जांच के दौरान धर्मेन्द्र में संदिग्ध लक्षण मिलने पर उसे सीधे विक्टोरिया अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया था। युवक के नमूने 19 अप्रैल को जांच के लिए भेजे गए थे। मूलत: मंडला जिले के बिछिया निवासी धर्मेन्द्र के माता-पिता सहित परिवार के कुछ सदस्य रद्दी चौकी में रहते हैं। यह तो गनीमत रही कि वे लोग शहर में नहीं हैं।

नमूने बढऩे के साथ बढ़ रहे मरीज

कोरोना टेस्ट के लिए संदिग्धों के नमूने बढऩे के साथ ही पीडि़तों की संख्या बढ़ती जा रही है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से पहले प्रतिदिन 5-15 संदिग्धों के नमूने ही जांच के लिए भेजे जा रहे थे। अब औसतन 50 संदिग्धों के नमूने हर दिन जांच के लिए भेजे जा रहे हैं।