सीमाओं पर की जाए सख्ती!

शहर में सख्ती के बाद लोगों की आ रही प्रतिक्रियाएं!

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। शहर में घरों से बाहर निकलने पर पूरी तरह प्रतिबंध लगाया गया है। जो भी घर से बाहर निकल रहा है उसे पुलिस या प्रशासन के अमले के द्वारा पकड़ा जा रहा है। प्रशासन बार बार लोगों से अपील कर रहा है कि घरों पर ही रहें, घरों से न निकलें।

टोटल लॉक डाउन के 32 दिन एवं कर्फ्यू के 28 दिन बीतने के बाद इसी बीच नागरिकों के बीच यह चर्चा भी चल रही है कि सिवनी में अब तक कोरोना का संक्रमित मरीज अब तक नहीं मिला है, जो राहत की बात है। लोगों के बीच यह चर्चा भी चल रही है कि कोरंटाईन का समय 14 दिन का है, सिवनी के निवासियों ने कोरंटाईन की दो अवधि अर्थात 28 दिन से ज्यादा बिता लिया है।

एक अधिकारी ने पहचान उजागर न करने की शर्त पर समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया से चर्चा के दौरान यह भी कहा कि अगर कोरोना का संक्रमण अब आएगा तो वह आसपास के जिले से आने की संभावना ज्यादा है, अथवा उन लोगों के जरिए आने की संभावना ज्यादा है जो सिवनी की सीमाएं सील होने के बाद भी सिवनी आ रहे हैं।

उक्त अधिकारी का कहना था कि अगर प्रशासन को अब किसी बात की आवश्यकता है तो इस बात पर ध्यान देने की सबसे ज्यादा जरूरत है कि सिवनी जिले की सीमा में कोई भी बाहरी व्यक्ति प्रवेश न कर पाए। इससे उलट सीमाओं को लांघकर अनेक लोग जिले की सीमा में आ रहे हैं जो चिंता की बात मानी जा सकती है।

पुलिस कर्मी कर रहा था सीमा पार! : इसी बीच पुलिस सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि सिवनी में पदस्थ एक पुलिस कर्मी जो छिंदवाड़ा जिले का निवासी है, वह सिवनी से जाम के रास्ते छिंदवाड़ा जिले की सीमा में प्रवेश करने का प्रयास कर रहा था।

सूत्रों का कहना था कि राज्य सरकार विशेषकर पुलिस मुख्यालय के स्पष्ट निर्देश हैं कि कोई भी पुलिस कर्मी अंर्तजिला आवागमन अगर करता है तो उसे पुलिस के आला अधिकारियों की अनुमति की आवश्यकता होगी, इसके बावजदू भी एक पुलिस कर्मी के द्वारा यह प्रयास बिना अनुमति के किया जा रहा था। सूत्रों ने बताया कि उक्त पुलिस कर्मी को पुलिस अधीक्षक के द्वारा घंसौर क्षेत्र के एक थाने में तत्काल प्रभाव से पदस्थ करने के आदेश जारी कर दिए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *