शनिवार 11 जुलाई 2020 का प्रादेशिक आडियो बुलेटिन पढिए

नमस्कार, आप सुन रहे हैं समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया में शनिवार 11 जुलाई 2020 का प्रादेशिक आडियो बुलेटिन, अब आप रीना सिंह से समाचार सुनिए.
देश में कोरोना के संक्रमित मरीजों की तादाद का आंकड़ा सवा आठ लाख के लगभग पहुंच गया है। वर्तमान में यह आंकड़ा आठ लाख 25 हजार 736 पहुंच गया है। देश में कुल एक्टिव मरीजों की तादाद से लगभग दो लाख 32 हजार से ज्यादा लोग स्वस्थ्य हो चुके हैं। देश में अब तक सक्रिय मरीजों की तादाद 02 लाख 85 हजार 736 एवं रिकव्हर्ड मरीजों की तादाद 05 लाख 17 हजार 640 है, एवं जिनका निधन हुआ है उनकी संख्या 22 हजार 171 है। अब तक देश में कुल 01 करोड़ 13 लाख 07 हजार 2 लोगों का कोविड परीक्षण कराया जा चुका है। मध्य प्रदेश में संक्रमित मरीजों के मिलने की तादाद अब पहले की तुलना में काफी हद तक कम होती दिख रही है। प्रदेश में कुल संक्रमित मरीजों की तादाद से लगभग 08 हजार 943 ज्यादा लोग स्वस्थ्य हो चुके हैं। प्रदेश में आंकड़ा 16 हजार 657 पहुंच गया है, जिसमें एक्टिव मरीजों की तादाद 03 हजार 538, रिकव्हर्ड मरीजों की तादाद 12 हजार 481 एवं जिनका निधन हुआ है उनकी तादाद 638 है।
प्रदेश में जिन जिलों में कोरोना के संक्रमित मरीजों की तादाद दो सौ से ज्यादा है उनमें रतलाम का भी शुमार हो गया है। वर्तमान में इंदौर में 05 हजार 87 कुल मरीजों में से एक्टिव मरीजों की तादाद 883, भोपाल में 03 हजार 335, एक्टिव मरीजों की तादाद 642, उज्जैन में 876, एक्टिव मरीजों की तादाद 21, मुरैना में एक्टिव मरीजों की संख्या 844 एवं सक्रिय मरीजों की तादाद 411, नीचम में 480 कुल एवं एक्टिव मरीजों की तादाद 34, ग्वालियर में कुल 830 संक्रमित मरीजों में से 415 एक्टिव, जबलपुर में कुल मरीजों की संख्या 496 एवं एक्टिव मरीजों की तादाद 104, बुरहानपुर में 421, एक्टिव मरीजों की तादाद 19, सागर में कुल मरीजों की संख्या 436 एवं एक्टिव मरीजों की तादाद 64, खण्डवा में 379 कुल एवं एक्टिव 72, खरगौन में कुल 344 मरीजों में एक्टिव मरीजों की तादाद 52, भिण्ड में 322 कुल संक्रमित मरीजों में से एक्टिव मरीज 66, देवास में कुल मरीज 246 एवं एक्टिव मरीजों की तादाद 29 एवं रतलाम में कुल तादाद 205 एवं एक्टिव मरीजों की तादाद 40 हैं। प्रदेश में सिर्फ मण्डला जिले में एक्टिव मरीजों की तादाद शून्य है।
—–
कानपुर पुलिस हत्याीकांड का मुख्य आरोपी विकास दुबे बहुत शातिराना अंदाज में तीन राज्यी क्रॉस करते हुए मध्य प्रदेश पहुंचा था। पुलिस सूत्रों ने बताया कि एनकाउंटर में मारे जाने से पहले पूछताछ में उसने पुलिस को कई अहम जानकारियां दीं। फरीदाबाद के एक होटल में जब उसे खबर मिली कि पुलिस रेड करने आ रही है तो वह वहां से निकल पड़ा। इसके बाद उसने कार के रास्ते दिल्ली पार किया, फिर राजस्थान के अलवर होते हुए झालावाड़ पहुंच गया। यहां से उसने उज्जैन के लिए बस पकड़ी। पुलिस के मुताबिक, विकास के दो साथी उज्जैन तक उसके साथ थे जो बाद में गायब हो गए। विकास यह बताने को तैयार नहीं हुआ कि ये दोनों साथी कौन थे। बहरहाल, विकास उज्जैन में अपने परिचित के यहां रुका और अगली सुबह जल्दी वहां निकल गया।
सूत्रों ने आगे बताया कि एक तरफ उत्तर प्रदेश पुलिस विकास दुबे को जगह-जगह ढूंढ रही थी, वह मजे से उज्जैन शहर घूम रहा था। उसने बंटी नाम के एक ऑटोवाले को साथ लिया और करीब दो घंटे तक शहर घूमा। इसके बाद उसने शिप्रा नदी के राम घाट पर स्नान भी किया। विकास दुबे यहां से सीधे महाकाल मंदिर गया जहां उसने 250 रुपये की पर्ची कटाई। वह सुबह करीब पौने आठ बजे मंदिर पहुंचा था। पहले पूछताछ में उसने अपना नाम शुभम बताया, उसका आईडी भी दूसरे नाम से था। जब सख्ती की गई तो उसने असली नाम बताया। फिर कानपुर पुलिस से संपर्क किया गया। अब बंटी ऑटोवाले से पूछताछ चल रही है।
विकास दुबे का चेहरा राष्ट्रीय मीडिया पर छाया हुआ था। ऐसे में उसे खुले में घूमते आसानी से पहचाना जा सकता था। पहचान छिपाने के लिए विकास ने मास्क और गमछे का इस्तेमाल किया, साथ ही आंखों पर चश्मा भी लगाया। वह कंधे पर एक बैग टांगे रखता था। विकास ने रास्ते में चुपचाप सफर पूरा किया। किसी से कोई बातचीत नहीं ताकि कोई शक न करे। पूछताछ में विकास ने बताया कि वह मोबाइल नहीं इस्तेमाल कर रहा था, इसलिए बस स्टैंड या होटल पर खाना खाते टाइम अखबार या टीवी पर खबर देखता था।
एसटीएफ अधिकारी विकास को लेकर सड़क के रास्ते कानपुर आ रहे थे। पुलिस के मुताबिक, शहर से करीब 17 किलोमीटर पहले शुक्रवार सुबह साढ़े छह बजे अचानक एक गाड़ी पलट गई जिसमें विकास दुबे था। कई अधिकारी चोटिल हो गए। मौका देखकर विकास दुबे ने एक अधिकारी की पिस्टल छीनी और भागने लगा। पीछे आ रही गाड़ी में बैठे पुलिसवालों ने उसका पीछा किया तो विकास गोलियां चलाने लगा। चार पुलिसकर्मी घायल हुए हैं। जवाबी कार्रवाई में पुलिस ने भी फायरिंग की जिसमें विकास दुबे बुरी तरह घायल हो गया। उसे हैलट अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टर्स ने उसे मृत घोषित कर दिया। पोस्टमॉर्टम और जरूरी कानूनी कार्रवाई के बाद शुक्रवार शाम तक उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया।
—–
मध्यप्रदेश में लगातार संक्रमण बढ़ने से सरकार भी चिंतित दिख रही है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने निर्देश दिए हैं कि मध्यप्रदेश की सीमा से लगे जिलों में बगैर स्क्रीनिंग किसी को आने न दिया जाए।
मुख्यमंत्री ने यह निर्देश समीक्षा बैठक में दिए हैं। समीक्षा बैठक में पिछले दिनों से लगातार बढ़ रहे आंकड़ों पर चर्चा की गई। इस दौरान अब सप्ताह में रविवार के दिन पूरी तरह से इसमें बंद रखना तय किया गया है। गौरतलब है कि पिछले सात दिन में 2053 पाजिटिव प्रकरणों में 1.1 प्रतिशत की दर से 22 संक्रमितों की मौत हो गई। प्रदेश में अब तक संक्रमितों की संख्या 16 हजार 657 के पार निकल गई। जबकि 638 लोगों की मौत हो चुकी है।
—–
इधर, भोपाल जिला प्रशासन ने भोपाल में 31 जुलाई तक हर रविवार को कर्फ्यू लगाने का फैसला किया है। इस दौरान बाजार, दफ्तर, प्रतिष्ठान पूरी तरह से बंद रहेंगे। इमर्जेंसी सेवाएं जैसे दूध की दुकानें, मेडिकल स्टोर, अस्पताल, इमरजेंसी परिवहन, रात को बाहर से आने वाले लोगों पर यह आदेश लागू नहीं होगा। बेवजह बाहर निकलने वालों पर धारा 188 के तहत कार्रवाई की जाएगी। इसके अलावा पुराने भोपाल के इब्राहिमगंज में आठ दिनों तक (12 से 19 जुलाई तक) टोटल लॉकडाउन लगाया जा रहा है। यहां संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। लॉकडाउन के दौरान पूरे क्षेत्र को सैनेटाइज किया जाएगा।
कलेक्टर अविनाश लवानिया के मुताबिक यदि ऐसे ही कोरोना के केस बढ़ते रहे तो इब्राहिमगंज की तरफ अन्य क्षेत्रों में भी टोटल लॉकडाउन लगा दिया जाएगा। कलेक्टर ने पूरे भोपाल में सात दिनों के लॉकडाउन की वाट्सअप पर दी जा रही भ्रामक जानकारी पर साइबर सेल और पुलिस को कार्रवाई करने को कहा है।
—–
मानसून के सीजन में मध्यप्रदेश के कई जिलों को अभी भी बारिश का इंतजार है लेकिन राजधानी भोपाल में लगातार राजनीतिक बयानबाजी की बौछार हो रही है। राजधानी भोपाल में पूर्व मुख्यमंत्री एवं राज्य सभा सांसद दिग्विजय सिंह के पुत्र जयवर्धन सिंह के पोस्टर इन दिनों चर्चा का विषय बने हुए हैं। मध्यप्रदेश के पूर्व मंत्री जयवर्धन सिंह को पोस्टर में मध्यप्रदेश का भावी मुख्यमंत्री बताया गया है। इस पोस्टर को लेकर अब सियासत तेज हो गई है।
दरअसल, 9 जुलाई को कांग्रेस नेता और मध्यप्रदेश सरकार के पूर्व मंत्री जयवर्धन सिंह का जन्मदिन था। जन्मदिन के मौके पर भोपाल में पोस्टर लगाए गए थे। इस पोस्टर में लिखा है- मध्यप्रदेश के भावी मुख्यमंत्री जयरवर्धन सिंह को जन्मदिन की ढेरों शुभकामनाएं। पोस्टर में निवेदन के स्थान पर यूथ कांग्रेस प्रतिनिधि मंडल लिखा हुआ है।
पोस्टर पर सियासी संग्राम तेज हो गया है। जयवर्धन सिंह ने कहा- ये पोस्टर कांग्रेस ने नहीं भाजपा के लोगों ने लगाया है। कमल नाथ जी इस प्रदेश के मुख्य मंत्री थे और तीन महीने बाद वापिस बनेंगे। अभी सत्ता के लालच का युद्ध जो भाजपा में चल रहा है उससे ध्यान भटकाने का प्रयास है। इस षड्यंत्र के ख़िलाफ़ मैं थ्प्त् दर्ज करवा रहा हूं।
जयवर्धन सिंह ने पुलिस उप महानिरीक्षक भोपाल को एक पत्र लिखा है। उन्होंने लिखा कि- मुझे सोशल मीडिया के माध्यम से पता चला है कि भोपाल के कुछ स्थानों पर शरारती तत्वों ने मेरे नाम का उल्लेख करते हुए एक फ्लेक्स होर्डिंग लगाया और मेरी राजनीतिक छवि को धूमिक करने का प्रयास किया। यह एक आपराधिक षड्यंत्र है। इस मामले की जांच की जाए। जयवर्धन सिंह ने अपने लेटर में भाजपा नेता कृष्णा घाडगे पर आरोप लगाया है। उन्होंने कृष्णा घाडगे के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।
समाचारों के बीच में हम आपको यह जानकारी भी दे दें कि मौसम के अपडेट जाने के लिए समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के चेनल पर रोजाना अपलोड होने वाले वीडियो जरूर देखें। मौसम से संबंधित अपडेट मूलतः किसानों, निर्माण कार्य करवाने वालों आदि के लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं। समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के द्वारा अब तक मौसम के जो पूर्वानुमान जारी किए गए हैं, वे 95 से 99 फीसदी तक सही साबित हुए हैं।
—–
मध्यप्रदेश के शहडोल, रीवा, जबलपुर और इंदौर संभागों में बारिश का दौर जारी है। वहीं मौसम विभाग ने एक बार फिर 25 जिलों में बारिश की चेतावनी दी है, वहीं 8 जिलों में गरज चमक के साथ बिजली गिरने की भी आशंका है। मौसम विभाग ने इसके लिए यलो अलर्ट जारी किया है।
मध्यप्रदेश में मानसून सक्रिय है। मौसम विभाग ने ताजा रिपोर्ट जारी की है। पिछले 24 घंटों के दौरान प्रदेश के शहडोल, रीवा, जबलपुर और इंदौर संभागों के जिलों में बारिश का दौर जारी है। वहीं प्रदेश के कई जिलों में अच्छी बारिश की खबर हैं।
मध्यप्रदेश के रीवा, सागर, शहडोल, जबलपुर संभागों समेत अलीराजपुर, झाबुआ, सीहोर, भोपाल और रायसेन जिलों में बारिश का पूर्वानुमान जारी किया है। मौसम विभाग के मुताबिक अगले 25 घंटों में करीब 25 जिलों में बारिश का अनुमान है।
मौसम विभाग ने यलो अलर्ट जारी कर बिजली गिरने की भी चेतावनी जारी की है। मौसम विभाग के मुताबिक अगले 24 घंटों के दौरान प्रदेश के रीवा संभाग, अनूपपुर, शहडोल और पन्ना जिले में कहीं-कहीं गरज-चमक के साथ बिजली चमक सकती है, वहीं कहीं-कहीं बिजली भी गिर सकती है।
इधर, मौसम वैज्ञानिकों ने अगले सप्ताह के लिए भी पूर्वानुमान जारी कर कहा है कि प्रदेश करीब 25 जिलों में अच्छी बारिश पड़ेगी। 14 जुलाई से 17 जुलाई तक जो सिस्टम बन रहा है, उसमें प्रदेश को अच्छी बारिश देखने को मिलेगी। इसमें भी 15 से 17 जुलाई के दौरान अधिकांश स्थानों पर बारिश होगी।
—–
मध्यप्रदेश कैबिनेट में विभागों का बंटवारा रविवार को होगा। ग्वालियर दौरे पर पहुंचे सीएम शिवराज सिंह चौहान ने इस बात की घोषणा की है। वहीं, दूसरी तरफ सूत्रों को कहना है कि सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के बड़े विभागों के लिए अड़ने के बाद अब सियासी सामंजस्य बनने के संकेत दिए हैं। सिंधिया और पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा के बीच बातचीत हुई है जिसके बाद सहमति बनी है। सूत्रों का कहना है कि दिल्ली में सिंधिया के मानने के बाद विभागों के बंटवारे के लिए प्रदेश नेतृत्व को अधिकृत कर दिया गया है।
ग्वालियर के दौरे पर पहुंचे सीएम शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रियों के बीच विभागों के बंटवारे को कल तक के लिए टाल दिया है। ग्वालियर में जब मीडिया ने सीएम से मंत्रियों के विभागों को लेकर सवाल पूछा तो सीएम ने मजाकिया लहजे में ये कहकर कल तक के लिए एक बार फिर बात टाल दी। सीएम ने मीडिया के सवाल के जवाब में कहा कि वो मेरा काम है, ग्वालियर में कह रहा हूं कि चलो कल कर दूंगा।
2 जुलाई को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के मंत्रिमंडल में 28 मंत्रियों ने शपथ ली थी। इनमें से 9 मंत्री सिंधिया खेमे के तीन मंत्री कांग्रेस से आए हुए। जबकि बाकी बीजेपी के थे। 28 में से 20 मंत्री कैबिनेट स्तर के जबकि आठ मंत्रियों को राज्यमंत्री बनाया गया है।
—–
मप्र हाईकोर्ट की मुख्यपीठ जबलपुर, इंदौर, ग्वालियर खंडपीठों व राज्य की अधीनस्थ अदालतों में वर्तमान में चल रही सीमित मामलों की वीडियो कॉफ्रेंसिंग के जरिए सुनवाई की व्यवस्था 17 जुलाई तक जारी रहेगी। 13 जुलाई से 17 जुलाई तक पूर्ववत सीमित संख्या में कर्मचारियों व अधिकारियों को ही काम पर बुलाया जाएगा।
हाइकोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल राजेंद्र कुमार वाणी ने शनिवार को इस आशय की एडवाइजरी जारी की। एडवाइजरी के तहत होशंगाबाद, डिंडौरी, अनूपपुर, झाबुआ, उमरिया, मंडला और अलीराजपुर सहित 43 जिला अदालतों में पूर्व निर्देश के तहत सीमित संख्या में मामलों की सुनवाई की जाएगी। इंदौर जिला अदालत में 17 जुलाई तक केवल अर्जेंट मामलों की ही सुनवाई की जाएगी। कंटेनमेंट क्षेत्र के निवासी न्यायाधीशों व कर्मियों को उनके निवास क्षेत्र के मुक्त होने तक काम पर नहीं बुलाया जाएगा। आदेश में कहा गया कि ई-फाइलिंग के साथ-साथ मैनुअल फाइलिंग की व्यवस्था भी इस दौरान जारी रहेगी। इस दौरान वीडियो कॉफ्रेंसिग के जरिए केवल महत्वपूर्ण मामलों की सुनवाई की व्यवस्था चलती रहेगी।
—–
आप सुन रहे थे रीना सिंह से समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया में शनिवार 11 जुलाई का प्रादेशिक आडियो बुलेटिन। रविवार 12 जुलाई को एक बार फिर हम आडियो बुलेटिन लेकर हाजिर होंगे, अगर आपको यह आडियो बुलेटिन पसंद आ रहे हों तो आप इन्हें लाईक, शेयर और सब्सक्राईब जरूर करें। फिलहाल इजाजत लेते हैं, नमस्कार।