बुधवार 02 सितंबर 2020 का प्रादेशिक आडियो बुलेटिन पढिए

नमस्कार, आप सुन रहे हैं समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया में बुधवार 02 सितंबर 2020 का प्रादेशिक आडियो बुलेटिन, अब आप रीना सिंह से समाचार सुनिए.
—–
मध्य प्रदेश हाई कोर्ट की जबलपुर खंडपीठ ने मंगलवार को निजी स्कूलों के लिए एक महत्वपूर्ण आदेश दिया है। हाई कोर्ट की मुख्य पीठ ने प्राइवेट स्कूलों को निर्देश दिया है कि वे कोविड-19 के दौर से पहले वाला ट्यूशन फीस ही ले सकेंगे। हाई कोर्ट के इस फैसले के बाद इस मुद्दे को लेकर आंदोलन कर रहे छात्रों और उनके अभिभावकों को बड़ी राहत मिली है।
दरअसल, इस संबंध में कई जिलों में अभिभावकों ने प्रशासन से शिकायतें की थी कि निजी स्कूल कोरोना काल में बंद होने के बाद भी छात्रों से हर तरह की फीस मांग रहे हैं। सरकारी अधिकारियों के मुताबिक यहां तक की कुछ शिकायतें ऐसी भी थीं कि कई निजी स्कूल कोरोना काल में ऑनलाइन क्लास के लिए भी फीस की डिमांड कर रहे थे।
यहां तक की राज्य सरकार की ओर से 24 अप्रैल और 16 मई, 2020 को जारी आदेश में यह साफ कर दिया गया था कि शिक्षण संस्थान छात्रों से केवल शिक्षण शुल्क ही ले सकते हैं। जबलपुर बेंच के मुख्य न्यायाधीश अजक कुमार मित्तलव जस्टिस विजय कुमार शुक्ला की डबल बेंच कम से कम नौ याचिकाओं पर अपना फैसला सुनाया है। उप-महाधिवक्ता स्वप्निल गांगुल ने कहा कि मंगलवार को अदालत की ओर से पारित अंतरिम आदेश के अनुसार, निजी स्कूल कोरोना अवधि के दौर से पहले वाला ट्यूशन फीस ही ले सकेंगे।
—–
राजधानी भोपाल में कोरोना वायरस के चलते 23 मार्च से यात्रियों के लिए लो-फ्लोर बसें बंद पड़ी हैं, लेकिन 3 सितंबर से एक बार फिर लो- फ्लोर बसें शुरु होने जा रही हैं। इस बार भोपाल सिटी लिंक लिमिटेड (बीसीएलएल) राजधानी के लोगों के लिए बंपर ऑफर लेकर आया है। जिसके तहत अब यात्री सिर्फ ढाई रुपए में ही इन बसों में सफर कर सकेंगे। इस ऑफर का लाभ उन लोगों को मिलेगा जो एक दिन में चार ट्रिप लगाएंगे।
बता दें कि लोगों को सफर करने के लिए बीसीएलएल कॉन्टेक्ट लेस टिकटिंग की सुविधा भी यात्रियों को देगा। उन्हें उनके मोबाइल फोन पर ही टिकट मिल जाएगा। यह सुविधा चलो एप पर दी गई है। कोरोना वायरस के चलते एक बार फिर से शुरू हो रही लो-फ्लोर बसों की संख्या अभी फिलहाल 9 रखी गई है। पहले चरण में दो रूट पर 9 बसों का संचालन शुरू किया जाएगा।
—–
कोरोना काल की शुरुआत में देशभर के साथ साथ मध्य प्रदेश में लगे लॉकडाउन के चलते सभी काम कारोबार बंद होने के कारण खासकर गरीबों पर भारी आर्थिक संकट आ गया था। ऐसे में प्रदेश सरकार के आदेश पर राशन दुकानों से चावल बांटा गया था। लेकिन, अब खुलासा हुआ है कि, वो चावल घटिया क्वालिटी का था। ये खुलासा केंद्र सरकार की ओर से जारी रिपोर्ट में हुआ है।
केंद्र सरकार द्वारा प्रदेश सरकार को लिखे पत्र के जरिये बताया गया है कि, सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) के तहत सरकारी राशन दुकानों से गरीबों में बांटे गए चावल इंसानों के खाने लायक नहीं थे। वो पोल्ट्री ग्रेड चावल था, जो इंसानों को पीडीएस के तहत बांट दिया गया। केंद्र सरकार की ओर से जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि, 30 जुलाई से 2 अगस्त के बीच में 32 सैंपल चावल के लिए गए थे। इसमें कुछ सैंपल वेयरहाउस और कुछ राशन दुकानों से लिए गए थे। इन्हें दिल्ली की सीजीएएल लैब में जांच के लिए भेजा गया था।
लैब की रिपोर्ट में सामने आया कि, सभी सैंपल इंसानों के खाने योग्य नहीं थे, सप्लाई किया गया चावल वहां पोल्ट्री ग्रेड का था। केंद्र की रिपोर्ट के खुलासे के बाद प्रदेश में सियासत गरमा गई है। एमपी कांग्रेस ने प्रदेश की बीजेपी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि, राज्य सरकार ने कोरोना संक्रमण काल के दौरान गरीबों को घटिया चावल देने का काम किया है, जो कि जानवरों के खाने लायक था। कांग्रेस ने इस पूरे मामले में उच्चस्तरीय जांच की मांग कर दोषियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की मांग की है।
—–
मध्य प्रदेश के सिवनी में बने पुल के उद्धाटन से पहले ही बाढ़ में बह जाने वाले भ्रष्टाचार के मामले में अब कार्रवाई हो गई है। घटना के बाद प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के मामले में जांच के आदेश दिये थे। इसके बाद ग्रामीण सड़क विकास प्राधिकरण के जीएम जे.पी मेहरा और असिस्टेंट मैनेजर एस.के अग्रवाल को भ्रष्टाचार का दोषी मानते हुए सस्पेंड कर दिया गया है। सिवनी में प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के तहत बेनगंगा नदी पर 4 करोड़ की लागत से पुल बनाया गया था। इस पुल का काम जून 2020 में पूरा हुआ था, लेकिन कोरोना काल के चलते उद्घाटन नहीं हो सका था। इसी बीच 30 अगस्त को आई बाढ़ में पुल पानी में बह गया था।
मामले को गंभीरता से लेते हुए सीएम शिवराज ने सीएम हाउस में आयोजित एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में मीडिया बातचीत के दौरान कहा था कि, मामले में जांच के आदेश जारी कर दिये गए हैं, दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। जांच के आदेश देने के अगले ही दिन दो अधिकारियों को सस्पेंड कर दिया गया। प्राधिकरण अब बिल्डर के लेवल पर हुई अनियमितता को लेकर भी जांच में जुटा है। अगर मामले में बिल्डर भी दोषी सिद्ध हुआ तो, उसे भी ब्लैकलिस्टेड किया जाएगा।
यही नहीं, 29-30 अगस्त को आई बाढ़ के दौरान पीडब्ल्यूडी द्वारा बने साल 2012 और 2016 में करीब 10 करोड़ की लागत से बने दो पुल भी बह गए थे। सिवनी जिले के केवलारी पलारी भीमगढ़ मार्ग पर बेनगंगा पर 2012 में करीब साढे़ 5 करोड़ रुपए से बने पुल का एक हिस्सा बह गया था। हालांकि, इस पुल की परफॉर्मेंस गारंटी 27 नवंबर 2015 को खत्म हो गई थी। इसी तरह छिंदवाड़ा के साख से हलाल खुर्द मार्ग में पेंच नदी पर 2016 में 25 मीटर ऊंचे और 200 मीटर लंबा पुल भी बह गया। इस पल को जबलपुर के एक ठेकेदार ने बनाया था, लेकिन चार स्लैब का काम पूरा होने के दौरान ठेकेदार का निधन हो गया। लिहाजा इसे बाद में रायपुर की एक कंस्ट्रक्शन कंपनी ने पूरा किया। इस पुल की परफॉर्मेंस गारंटी 1 जनवरी 2019 को खत्म हो चुकी थी।
—–
समाचारों के बीच में हम आपको यह जानकारी भी दे दें कि मौसम के अपडेट जाने के लिए समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के चेनल पर रोजाना अपलोड होने वाले वीडियो जरूर देखें। मौसम से संबंधित अपडेट मूलतः किसानों, निर्माण कार्य करवाने वालों आदि के लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं। समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के द्वारा अब तक मौसम के जो पूर्वानुमान जारी किए गए हैं, वे 95 से 99 फीसदी तक सही साबित हुए हैं।
—–
प्रदेश भाजपा अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा ने पितृपक्ष से ठीक एक दिन पहले पांच महामंत्रियों की नियुक्ति कर दी। बाकी कार्यकारिणी की घोषणा को फिलहाल टाल दिया गया है। उपचुनाव में असंतोष को टालने के लिए यह कदम उठाया गया है। प्रदेश में पहली बार ऐसा हुआ कि जब पार्टी ने एक महिला नेत्री कविता पाटीदार को महामंत्री बनाया है। जातिगत, गुटीय और भौगोलिक संतुलन को तरजीह भाजपा ने महामंत्रियों की नियुक्ति में जातिगत और भौगोलिक संतुलन को तरजीह दी है।
—–
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि बाढ़ और अतिवर्षा से प्रभावित सभी परिवारों की हर संभव सहायता कर संकट से हर हाल में बाहर लेकर आएंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान, आज सीहोर जिले के शाहगंज में सोमलवाढ़ा, बमोरी, देहरी, नानभेट बाढ़ प्रभावितों से चर्चा कर रहे थे। उन्होंने कहा किसानों को आरबीसी 6 (4) के साथ प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से भी मदद की जाएगी। प्रभावित परिवारों को गेहूँ के साथ 5 लीटर केरोसीन भी दिया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने शाहगंज में बने रेस्क्यू सेंटर्स में पहुँच कर खाद्यान्न सामग्री वितरित की।
—–
कोरोना के संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 38 लाख को स्पर्श करता दिख रहा है। वर्तमान में यह आंकड़ा 37 लाख 94 हजार 314 पहुंच गया है। देश में कुल एक्टिव मरीजों की तादाद से लगभग 21 लाख 14 हजार से ज्यादा लोग स्वस्थ्य हो चुके हैं। देश में अब तक सक्रिय मरीजों की तादाद 08 लाख 06 हजार 922 एवं रिकव्हर्ड मरीजों की तादाद 29 लाख 20 हजार 122 है, एवं जिनका निधन हुआ है उनकी संख्या 66 हजार 678 है। अब तक देश में कुल 04 करोड़ 43 लाख 37 हजार 201 लोगों का कोविड परीक्षण कराया जा चुका है। इधर, मध्य प्रदेश में संक्रमित मरीजों की तादाद का आंकड़ा साढ़े 65 हजार को पार कर गया है। यहां कुल संक्रमित मरीजों की तादाद से लगभग 35 हजार 920 से ज्यादा लोग स्वस्थ्य हो चुके हैं। प्रदेश में आंकड़ा 65 हजार 490 पहुंच गया है, जिसमें एक्टिव मरीजों की तादाद 14 हजार 72, रिकव्हर्ड मरीजों की तादाद 49 हजार 992 एवं जिनका निधन हुआ है उनकी तादाद 1 हजार 426 है। प्रदेश में अब तक 14 लाख से ज्यादा लोगों का टेस्ट कराया जा चुका है।
प्रदेश में सभी 52 जिलों में मरीजों की तादाद 100 से अधिक है। प्रदेश में जिन जिलों में कोरोना के संक्रमित मरीजों की तादाद एक हजार से ज्यादा है उनमें वर्तमान में इंदौर में 13 हजार 250 कुल मरीजों में से एक्टिव मरीजों की तादाद 03 हजार 584 एवं जिनका निधन हुआ है उनकी संख्या 398 है, भोपाल में 10 हजार 695 कुल मरीज, एक्टिव मरीजों की तादाद 1 हजार 590, जिनका निधन हुआ है उनकी तादाद 290, ग्वालियर में 05 हजार 511 कुल मरीजों में एक्टिव मरीजों की तादाद 01 हजार 479 एवं जिनका निधन हुआ है उनकी संख्या 52, जबलपुर में कुल 04 हजार 234 में से एक्टिव मरीजों की संख्या एक हजार 12 एवं जिनका निधन हुआ है उनकी तादाद 82, मुरैना में कुल मरीजों की संख्या 2 हजार 100 एवं सक्रिय मरीजों की तादाद 133 एवं जिनका निधन हुआ है उनकी तादाद 13, उज्जैन में एक हजार 790 कुल में से एक्टिव मरीजों की तादाद 265 एवं जिनका निधन हुआ है उनकी संख्या 80, खरगौन में कुल मरीजों की संख्या 01 हजार 616, एक्टिव मरीजों की तादाद 299 एवं जिनका निधन हुआ है उनकी संख्या 28, नीमच में कुल मरीजों की संख्या 01 हजार 225 में से एक्टिव मरीज 205 एवं जिनका निधन हुआ है उनकी तादाद 15, बड़वानी में कुल एक हजार 142 में से एक्टिव मरीजों की तादाद 117 एवं जिनका निधन हुआ उनकी संख्या 15, सागर में एक हजार 156 कुल मरीजों में से 181 एक्टिव एवं मरने वालों की तादाद 55 एवं रतलाम में एक हजार 30 मरीजों में से एक्टिव की तादाद 214 एवं जिनका निधन हुआ है उनकी तादाद 19 है। प्रदेश में एक भी जिले में एक्टिव मरीजों की तादाद शून्य नहीं है।
—–
आप सुन रहे थे रीना सिंह से समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया में बुधवार 02 सितंबर का प्रादेशिक आडियो बुलेटिन। ब्रहस्पतिवार 03 सितंबर को एक बार फिर हम आडियो बुलेटिन लेकर हाजिर होंगे, अगर आपको यह आडियो बुलेटिन पसंद आ रहे हों तो आप इन्हें लाईक, शेयर और सब्सक्राईब जरूर करें। फिलहाल इजाजत लेते हैं, नमस्कार।
(साई फीचर्स)

———