बुधवार 21 अक्टूबर का राष्ट्रीय ऑडियो बुलेटिन

नमस्कार, आप सुन रहे हैं समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया की साई न्यूज की समाचार श्रंखला में बुधवार 21 अक्टूबर का राष्ट्रीय ऑडियो बुलेटिन.
—–
पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के दामाद, सफदर अवान की गिरफ्तारी के कारण उत्पन्न हुए विवाद के बीच, देश में अब गृहयुद्ध जैसी स्थिति निर्मित हो गई है। पाकिस्तान की कुछ अपुष्ट मीडिया रिपोटर््स में दावा किया गया है कि पाकिस्तानी सेना और सिंध की पुलिस के बीच गोलीबारी की घटना हुई है, जिसमें 10 पुलिसकर्मियों की जान चली गई है। हालांकि, द डॉन, और अन्य प्रमुख न्यूज वेबसाइट्स ने अब तक ऐसी किसी भी घटना की जानकारी नहीं दी है।
हाल ही में इमरान सरकार के खिलाफ हुई विपक्ष की रैली के बाद, सेना ने पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के दामाद, सफदर अवान को रातों-रात, होटल के कमरे से उठा लिया था। राजनीतिक दबाव के बाद सफदर अवान, अगली शाम छूट गए थे, लेकिन सिंध प्रांत के पूर्व गवर्नर, मोहम्मद जुबैर ने खुलासा किया है कि सफदर की गिरफ्तारी के लिए पाकिस्तानी सेना ने, सिंध के पुलिस चीफ का अपहरण कर लिया था, ताकि उनसे सफदर के अरेस्ट के आदेश दिलाए जा सकें।
—–
आई.सी.एम.आर. ने आई.आई.टी. खड़गपुर द्वारा तैयार की गई कोविडरैप टेस्ट किट को हरी झंडी दे दी है। इसकी लागत 500 रुपए है। इस किट से एक घंटे में रिजल्ट मिल जाएगा। आई.आई.टी. खड़गपुर के निदेशक प्रोफेसर वी.के. तिवारी ने कहा, कि यह यकीनन चिकित्सा विज्ञान के इतिहास, खासकर वायरोलॉजी के क्षेत्र में सबसे अहम, योगदानों में से एक है। यह एक बड़े पैमाने पर पी.सी.आर. आधारित टेस्ट का स्थान लेने के लिए भी तैयार है।
—–
पाकिस्तान में कोविड-19 महामारी के नियंत्रण के लिए किये जा रहे उपायों की, निगरानी करने वाले शीर्ष निकाय ने, बुधवार को चेतावनी दी कि अगर लोग सरकार द्वारा जारी, दिशा-निर्देशों का उल्लंघन करना जारी रखेंगे तो संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए लॉकडाउन सहित, सख्त कदम उठाए जाएंगे। यह चेतावनी गत हफ्तों के मुकाबले कोविड-19 से होने वाली मौतों की दर में, 140 प्रतिशत वृद्धि के बाद दी गई है।
कोविड-19 से जुड़े मामलों को देखने के लिए गठित, राष्ट्रीय कमान एवं संचालन केंद्र (एन.सी.ओ.सी.) ने बुधवार को एक बयान में कहा, कि एन.सी.ओ.सी. पूरी स्थिति की करीब से निगरानी कर रहा है। अगर मानक परिचालन प्रक्रिया (एस.ओ.पी.) के अनुपालन में सुधार नहीं होता है, तो निकाय के पास सख्त कदमों को दोबारा लागू करने के अलावा, कोई विकल्प नहीं होगा, जिसका नतीजा सेवाओं की दोबारा बंदी होगी।
—–
सरकार ने अर्धसैनिक बलों के जवानों की सबसे निचली श्रेणी में सफाई कर्मचारी, कहार, मसालची जैसे पदनामों को हटा दिया है। नया वर्गीकरण करते हुए उनके स्थान पर, मल्टी-टास्किंग स्टाफ, और रसोई सेवा जैसे पेशेवर पदनाम दिए गए हैं। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने हाल ही में सभी अर्धसैनिक और केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों (सी.ए.पी.एफ.) को एक आदेश जारी कर उन्हें निर्देश दिया था कि इन सेवाओं में सभी जवानों की, भर्त्तियों का विज्ञापन दिया जाए, और नए नामकरण के अनुसार, पदनाम दिए जाएं।
सी.ए.पी.एफ., प्रत्येक नियुक्ति चक्र में बलों के लड़ाकू सैनिकों की खातिर, विभिन्न प्रशासनिक कार्यों के लिए सैकड़ों जवानों की नियुक्त करता है। इनमें खाना बनाने, सफाई, बागवानी, धुलाई और कुछ अन्य दैनिक कार्य से संबंधित कार्य शामिल हैं। गृह मंत्रालय द्वारा, जारी एक आदेश के अनुसार, दफ्तरी, फ़राश और सफाई कर्मचारी जैसे पदों का, विलय कर दिया गया है और अब उन्हें, कांस्टेबल एमटीएस या बहु-कार्य कर्मचारी (मल्टी टास्किंग) कहा जाएगा।
—–
निर्वाचन आयोग ने चुनाव प्रचार के दौरान सामजिक दूरी के नियमों का घोर उल्लंघन, और उसके दिशा-निर्देशों की अवहेलना करते हुए, नेताओं द्वारा जन सभाओं को बिना मास्क पहने संबोधित करने का, बुधवार को गंभीरता से संज्ञान लिया। सभी मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय और राज्य स्तर के दलों के अध्यक्षों, और महासचिवों को जारी एक परामर्श में, निर्वाचन आयोग ने कहा है कि संबद्ध उम्मीदवारों, और इस तरह के उल्लंघनों के लिये जिम्मेदार आयोजकों के खिलाफ, मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सी.ई.ओ.) तथा जिला मशीनरी (प्रशासन) से, दंडनीय प्रावधान पर अमल की उम्मीद की जाती है।
परामर्श में कहा गया है, आयोग ने जमीनी स्तर पर भीड़ को अनुशासित रखने के संदर्भ में राजनीतिक दलों, और उम्मीदवारों की ओर से बरती गई लापरवाही पर गंभीर संज्ञान लिया है, और इसलिए आयोग, इस बात को दोहराता है और उन्हें परामर्श दिया जाता है कि वे चुनाव प्रचार करने के दौरान, अत्याधिक सतर्कता और सावधानी बरतें।
—–
टी.आर.पी. स्कैम मामले में महाराष्ट्र सरकार, और रिपब्लिक टीवी के एडिटर इन चीफ, अर्णब गोस्वामी के बीच घमासान जारी है। रिपब्लिक टीवी के डिबेट शो पूछता है भारत में इसी मुद्दे पर उन्होंने महाराष्ट्र सरकार में मंत्री, और एन.सी.पी. नेता नवाब मलिक पर निशाना साधा। इसमें अर्णब गोस्वामी ने नवाब मलिक से पूछा कि, आपको कैसे पता कि मैं आत्महत्या कर लूंगा। कहीं ऐसा तो नहीं है कि आप हालात ऐसे निर्मित कर देंगे? आपकी ऐसी उम्मीद है या कोई योजना है? आपने कोई मासूम सी टिप्पणी नहीं की है।
दरअसल एन.सी.पी. प्रवक्ता नवाब मलिक का एक वीडियो वायरल हुआ है। इस वीडियो में वे कथित तौर पर कहते नजर आते हैं कि टी.आर.पी. स्कैम मामले से अर्णब गोस्वामी, इतना हताश हो जाएंगे कि अंत में उन्हें आत्महत्या करनी पड़ेगी। कथित स्टिंग में नवाब मलिक ने दावा किया कि अर्णब गोस्वामी एक फोबिया से ग्रसित हैं। उन्होंने कहा कि दुनिया जालसाजी से नहीं चलती है। वे अब टी.आर.पी. मामले में फंस चुके हैं।
—–
राष्ट्रीय महिला आयोग (एन.सी.डब्ल्यू.्) की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने, मुंबई में राज्यपाल, भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की, और राज्य में महिलाओं से जुड़े मुद्दों पर चर्चा की, जिसमें लव जिहाद के बढ़ते मामले शामिल हैं। एन.सी.डबल्यू. द्वारा जारी किए गए बयान के मुताबिक, रेखा शर्मा ने राज्यपाल से कहा कि राज्य में लव जिहाद के मामलों में वृद्धि हुई है। उन्होंने सहमति से अंतर-धार्मिक विवाहों, और लव जिहाद के बीच के अंतर को उजागर किया।
एन.सी.डबल्यू. चेयरपर्सन ने राज्य के मुख्य सचिव को कोविड अस्पतालों में सुरक्षा व्यवस्था पर अपनी चिंताओं से अवगत कराया। रेखा शर्मा ने कहा कि मरीज और चिकित्सक, अस्पतालों में यौन हमले का शिकार हो रहे हैं। अस्पतालों में सीसीटीवी कैमरे लगाये जाने चाहिए। अस्पतालों में, कोविड -19 सकारात्मक महिलाओं के छेड़छाड़ के, कम से कम 11 मामलों का उल्लेख करते हुए, रेखा शर्मा ने पूरी तरह से पृष्ठभूमि की जांच करने के बाद, शहर के अस्पतालों से, कर्मचारियों को नियुक्त करने का अनुरोध किया।
इसे मुलाक़ात को लेकर, एन.सी.डबल्यू. ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से एक ट्वीट भी किया, जिसके बाद विवाद उत्पन्न हो गया। एन.सी.डबल्यू. ने पोस्ट में लिखा, कि हमारी चेयरपर्सन रेखा शर्मा, महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मिलीं और राज्य में महिला सुरक्षा समेत, वन स्टॉप सेंटर्स को बंद करने, कोविड सेंटर्स पर महिला मरीजों के साथ छेड़छाड़, और बलात्कार और बढ़ते लव जिहाद जैसे मुद्दों पर चर्चा की। इस मामले में लव जिहाद का ज़िक्र किए जाने के बाद, लोगों ने, रेखा शर्मा को निशाने पर ले लिया।
—–
त्योहारी सीजन में घरेलू आपूर्ति बढ़ाने, और कीमतों पर अंकुश के लिए सरकार ने, प्याज आयात के नियमों में ढील दी है। इसके साथ ही कीमतों पर अंकुश लगाने के लिए, बफर स्टॉक से ज्यादा प्याज, बाजार में आपूर्ति करने का भी फैसला किया गया है। एक्सपटर््स व ट्रेडर्स का मानना है कि दक्षिण, और पश्चिमी क्षेत्रों में भारी बारिश की वजह से सप्लाई में रुकावट हुई, और खरीफ फसल की आवक प्रभावित हुई, जो कि आने वाले हफ्तों में आरंभ होने वाली है।
—–
समाचारों के बीच में हम आपको यह जानकारी भी दे दें कि मौसम के अपडेट जानने के लिए समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के चैनल पर प्रतिदिन अपलोड होने वाले वीडियो अवश्य देखें। मौसम से संबंधित अपडेट मूलतः किसानों, निर्माण कार्य, यात्रा या समारोह आदि के लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं। समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के द्वारा अब तक मौसम के जो पूर्वानुमान जारी किए गए हैं, वे 95 से 99 फीसदी तक सही साबित हुए हैं।
—–
पश्चिम बंगाल के सबसे बड़े उत्सव, दुर्गा पूजा के आरंभ होने से 24 घंटे पहले, हाईकोर्ट ने, पूजा पंडालों को राहत दी है। कोलकाता हाईकोर्ट ने, अब बड़े पंडालों में, 60 लोगों के प्रवेश की अनुमति दे दी है।
कोर्ट के बुधवार के आदेश के मुताबिक, पंडाल के अंदर जाने वाले लोगों की लिस्ट, प्रत्येक दिन सुबह 8 बजे पंडाल के बाहर लगानी होगी। ढाकी यानी ढोल बजाने वाले, नो-एंट्री जोन में, पंडालों के बाहर ही ढोल बजा सकेंगे, लेकिन उनकी संख्या भी तय होगी।
कोरोना के बीच पश्चिम बंगाल में, ब्रहस्पतिवार से दुर्गा पूजा आरंभ होगी। यहां की दुर्गा पूजा की भव्यता, पूरी दुनिया में मशहूर है। राज्य में, 37 हजार से ज्यादा पंडाल, सजाए जाते हैं। दुर्गा पूजा के दौरान, कारोबार भी काफी बढ़ जाता है।
———
भारत में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 76 लाख 69 हजार 23 पहुंच गई है। इसमें से वर्तमान में सक्रिय मामलों की संख्या 07 लाख 40 हजार 286 है जबकि 68 लाख 11 हजार 403 मरीज, अब तक इस बीमारी से ठीक हो चुके हैं। इस बीमारी से हुईं मृत्यु का आंकड़ा 01 लाख 16 हजार 52 हो गया है। कोरोना संक्रमितों के सक्रिय मामलों की संख्या जिन राज्यों में 20 हजार से अधिक हो गयी है उनमें महाराष्ट्र में सर्वाधिक 01 लाख 74 हजार 265 और कर्नाटक में 01 लाख 03 हजार 945 सक्रिय मरीज हैं।
कर्नाटक के बाद केरल में 91 हजार 924 सक्रिय मरीज, तमिलनाडु में 36 हजार 734, पश्चिम बंगाल में 35 हजार 170, आंध्र प्रदेश में 33 हजार 396, उत्तर प्रदेश में 30 हजार 416, असम में 26 हजार 775, छत्तीसगढ़ में 25 हजार 709, दिल्ली में 23 हजार 922, उड़ीसा में 20 हजार 750, तेलंगाना में 20 हजार 449 और राजस्थान में 20 हजार 254 सक्रिय मामले हैं।
————
आप सुन रहे थे समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया की साई न्यूज में, शरद खरे से, बुधवार 21 अक्टूबर का राष्ट्रीय आडियो बुलेटिन। ब्रहस्पतिवार 22 अक्टूबर को एक बार फिर हम ऑडियो बुलेटिन लेकर उपस्थित होंगे, आपको ये ऑडियो बुलेटिन यदि पसंद आ रहे हों तो आप इन्हें लाईक, शेयर और सब्सक्राईब अवश्य करें, सब्सक्राईब कैसे करना है यह प्रत्येक वीडियो के आखिरी में हम आपको बताते ही हैं। अभी आपसे अनुमति लेते हैं, नमस्कार।
(साई फीचर्स)