शनिवार 24 अक्टूबर का राष्ट्रीय आडियो बुलेटिन

नमस्कार, आप सुन रहे हैं समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया की साई न्यूज की समाचार श्रंखला में शनिवार 24 अक्टूबर का राष्ट्रीय आडियो बुलेटिन. अब आप शरद खरे से समाचार सुनिए.
—–
जम्मू और कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री, महबूबा मुफ्ती को एक स्थानीय, कश्मीरी ने जवाब दिया है। पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पी.डी.पी.) की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने कहा था कि जब तक जम्मू एवं कश्मीर का झंडा नहीं मिल जाता, वे कोई अन्य झंडा नहीं फहराएंगी। उन्होंने कहा कि उनकी लड़ाई महज, अनुच्छेद 370 की वापसी तक सीमित नहीं है, बल्कि कश्मीर मुद्दे के समाधान के लिए भी है। उन्होंने कहा, जब तक हमारा झंडा हमें वापस नहीं मिलेगा, हम कोई और झंडा नहीं फहराएंगे।
उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार को, जम्मू एवं कश्मीर के लोगों के हित में दिलचस्पी नहीं है। महबूबा मुफ्ती के बयान के विरोध में, स्थामनीय कश्मीरी नागरिक जावेद कुरैशी ने कुर्ता फाड़कर……. सीना ठोंकते हुए कहा कि हिंदुस्तान तो हमारे दिल में है। उन्होंने कहा कि अगर महबूबा मुफ्ती ऐसी बातें करेंगी, तो पाकिस्तान जाने की तैयारी कर लें।
—–
पी.डी.पी. अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने तिरंगे पर विवादित बयान देकर देश की सियासत में उबाल ला दिया है। खास तौर पर भारतीय जनता पार्टी के नेता महबूबा मुफ्ती के बयान से काफी भड़क गए हैं। भारतीय जनता पार्टी ने महबूबा मुफ्ती के बयानों को देशद्रोही बताया है।
शनिवार को भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय मंत्री, रविशंकर प्रसाद ने कहा, कि भारत के तिरंगे का जिस तरह से अपमान किया गया, उसकी हम भर्त्सना करते हैं। तिरंगा देश का झंडा है, जम्मू और काश्मीर भारत का अविभाज्य अंग है। बता दें, कि 370 अब बहाल नहीं होगी। एक देश में दो निशान और दो प्रधान अब नहीं चलेंगे कि यहां भी झंडा होगा, वहां भी झंडा होगा।
—–
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने एक कार्यक्रम से इतर, संवाददाताओं से कहा, कि राजधानी में फिलहाल विद्यालय नहीं खुल रहे हैं। सरकार ने पहले घोषणा की थी कि विद्यालय, कोविड-19 महामारी के मद्देनजर, 31 अक्टूबर तक बंद रहेंगे। देश में विश्वविद्यालय एवं विद्यालय, 16 मार्च से बंद हैं जब केंद्र ने, कोरोना वायरस का संक्रमण फैलने से रोकने के उपाय के तहत, देशभर में कक्षाओं को बंद करने की घोषणा की थी।
—–
उत्तर प्रदेश के, बागपत में तैनात, सब-इंस्पेक्टर….. इंतसार अली का सस्पेंशन, वापस ले लिया गया है। दाढ़ी बनवाने के बाद इंतसार अली ने दोबारा ड्यूटी ज्वाइन कर ली है।
दरअसल, इससे पहले, 20 अक्टूबर को इंतसार अली को सस्पेंड कर दिया गया था। बताया जा रहा था कि, दाढ़ी बढ़ाने की वजह से इंतसार अली को सस्पेंड किया गया था। मीडिया रिपोटर््स में बताया जा रहा है था कि इंतसार अली ने बिना अनुमति के ही दाढ़ी बढ़ाई थी।
इंतसार अली को, तीन बार, दाढ़ी कटाने की, चेतावनी भी दी गई थी। उनसे कहा गया था कि या तो वे दाढ़ी कटवा लें, या फिर आवश्यक अनुमति प्राप्त कर लें, लेकिन इंतसार अली ने ऐसा नहीं किया था।
इंतसार अली के सस्पेन्शन के वक्त यहां के पुलिस अधीक्षक ने कहा था, कि पुलिस मैनुअल के अनुसार, सिर्फ सिखों को ही दाढ़ी रखने की अनुमति है, जबकि अन्य पुलिसकर्मियों को, क्लीन शेव रहना होता है। 03 साल से बागपत में तैनात इंतसार अली ने उस वक्त कहा था कि उन्होंने दाढ़ी रखने की अनुमति के संबंध में आवेदन किया था, लेकिन उसपर कोई जवाब, नहीं मिला था।
—–
सरकार ने इन्कम टैक्स, फाइल करने की तारीख बढ़ा दी है। अब इंडिविजुअल द्वारा, वित्त वर्ष 2019-20 के लिए, इन्कम टैक्स, 31 दिसंबर तक फाइल किया जा सकता है। इससे पहले, 13 मई को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में वित्त मंत्री ने, इन्कम टैक्स फाइल करने की आखिरी तारीख, 30 नवंबर 2020 तक बढ़ा दी थी।
—–
बिहार विधानसभा चुनावों के दौरान, मुफ्त कोविड-19 वैक्सीन के टीके देने के, भारतीय जनता पार्टी के वादे को लेकर वह, शेष विरोधी दलों के निशाने पर आ गई है। शिवसेना ने अपने मुखपत्र…… सामना में कहा, कि बिहार को कोविड-19 वैक्सीन मिलनी चाहिए, लेकिन बाकी राज्य पाकिस्तान में नहीं है। शिवसेना ने भारतीय जनता पार्टी के चुनावी वादे में, बिहार को कोरोना वैक्सीन, फ्री देने के वादे की आलोचना करते हुए, संपादकीय में पूछा, कि क्या….. गैर बीजेपी शासित राज्यों, को रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन से, कोविड-19 की वैक्सीन के बारे में, बात करनी चाहिए।
—–
समाचारों के बीच में हम आपको यह जानकारी भी दे दें कि मौसम के अपडेट जानने के लिए समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के चैनल पर प्रतिदिन अपलोड होने वाले वीडियो अवश्य देखें। मौसम से संबंधित अपडेट मूलतः किसानों, निर्माण कार्य, यात्रा या समारोह आदि के लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं। समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के द्वारा अब तक मौसम के जो पूर्वानुमान जारी किए गए हैं, वे 95 से 99 फीसदी तक सही साबित हुए हैं।
—–
कोरोना ने दशहरा उत्सव पर बड़ा असर डाला है। मध्यप्रदेश-छत्तीसगढ़ में रावण के छोटे पुतले जलाए जाएंगे। राजस्थान, चंडीगढ़ में दशहरे के सार्वजनिक कार्यक्रम नहीं होंगे। कुछ स्थानों पर मेला समितियों ने, वर्चुअल टेलीकास्ट की अनुमति मांगी है।
भोपाल में रावण के कद को कोरोना ने, बौनाकर दिया है। यहां छोला मंदिर के 129 साल पुराने, रावण दहन उत्सव में, अबकी बार महज 35 फीट ऊंचा रावण बनाया जा रहा है। पहले यह 60 फीट ऊंचा बनता था। भीड़ भी, 5 हजार से ज्यादा नहीं जुट पाएगी जो प्रत्येक वर्ष एक लाख के पार हो जाती थी। शहर में न कोई बड़ा जुलूस निकलेगा, न किसी को ….पास…. भेजा जा रहा है। भेल में होने वाला दशहरा कार्यक्रम रद्द कर दिया गया है।
जोधपुर में भी इस बार रावण दहन का, सार्वजनिक कार्यक्रम नहीं होगा। जोधपुर में ऐसे परिवार हैं जो खुद को रावण का वंशज मानते हैं। कहते हैं कि मंदोदरी के साथ, रावण का विवाह जोधपुर में हुआ था। उस समय बारात में आए लोग यहीं पर बस गए। इन लोगों ने रावण का मंदिर बनवा दिया। यहां नियमित रूप से रावण की पूजा की जाती है।
चंडीगढ़ में रावण दहन को लेकर, आयोजन समितियां, प्रशासन से नाराज हैं। समितियों का कहना है कि प्रशासन ने कोरोना के समय, कार्यक्रम के बारे में फैसला लेने में देर कर दी। इस कारण, इस बार शहर में रावण दहन का कार्यक्रम नहीं हो पाएगा। यदि अब अनुमति, दी भी जाती है तो इतने कम समय में, तैयारी नहीं कर सकते। इसलिए समितियों ने आयोजन से खुद ही इन्कार कर दिया।
पिछले 72 वर्षों में पहली बार, रांची में, इस वर्ष रावण दहन नहीं होगा। 1948 में पहली बार, पाकिस्तान से आए रिफ्यूजी कैंप के पंजाबी परिवारों ने, यह परंपरा आरंभ की थी। इस बार कोरोना को लेकर, सरकार की गाइडलाइन को देखते हुए, पंजाबी-हिंदू बिरादरी ने, रावण दहन नहीं करने का फैसला लिया है।
रायपुर में इस बार 10 से 12 स्थानों पर ही रावण दहन होगा। पहले छत्तीसगढ़ का सबसे बड़ा रावण, डब्ल्यू.आर.एस. कॉलोनी में, 101 फीट का जलाया जाता था। इस बार प्रशासन ने, सिर्फ 10 फीट के पुतले की अनुमति दी है। आतिशबाजी पर भी रोक है। हालांकि, रायपुर के, रावण भाटा में होने वाले कार्यक्रम में, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल शामिल होंगे। भिलाई के शांतिनगर, दशहरा समिति ने कोरोना के चलते कार्यक्रम रद्द कर दिया है।
—–
ग्वालियर-पूर्व सीट से उप-चुनाव लड़ रहे भारतीय जनता पार्टी प्रत्याशी, और शिवराज कैबिनेट के मंत्री, प्रद्युम्न सिंह तोमर, एक कार्यकर्ता के कदमों में झुक गए। तोमर का यह वीडियो वायरल हो गया है। दरअसल तोमर, ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ कांग्रेस छोड़कर भारतीय जनता पार्टी प्रत्याशी में शामिल हुए थे। मंत्री भी बन गए, और अब चुनाव में उतरे हैं।
वे चुनाव प्रचार पर निकले तो एक कार्यकर्ता के घर जा पहुंचे। तोमर ने प्रचार में साथ चलने के लिए, कार्यकर्ता के हाथ जोड़े, पैर पड़े और कसम दी कि किसी और के साथ मत जाना। कांग्रेस नेता, दिग्विजय सिंह ने दावा किया है कि यह कांग्रेस का कार्यकर्ता है। उन्होंने भाजपा पर तंज कसा- यही है बिकाऊ और टिकाऊ का फर्क।
वायरल वीडियो में दिख रहा है कि, प्रद्युम्न सिंह तोमर, चुनाव प्रचार के दौरान, कार्यकर्ता को अपने साथ चलने के लिए मनाते हैं। जब कांग्रेस कार्यकर्ता, मजबूरी जताता है कि वह साथ नहीं चल सकता तो तोमर, उनके सामने घुटनों के बल बैठ जाते हैं। इसके बाद पैरों में झुक जाते हैं।
कांग्रेस कार्यकर्ता, प्रद्युम्न सिंह तोमर को रोकने की कोशिश करता है, कार्यकर्ता का बेटा भी, तोमर को ऊपर उठकर बैठने की विनती करता है, पर वे नहीं सुनते। हाथ जोड़कर बैठ रहते हैं। वीडियो में कैबिनेट मंत्री, ये कहते नजर आते हैं कि तुम्हें हमारी कसम है,,,,, अब किसी साथ मत जाना, अब हमारे साथ चलिए।
———
भारत में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 78 लाख 15 हजार 363 पहुंच गई है। इसमें से वर्तमान में सक्रिय मामलों की संख्या 06 लाख 82 हजार 481 है जबकि 70 लाख 13 हजार 569 मरीज, अब तक इस बीमारी से ठीक हो चुके हैं। इस बीमारी से हुईं मृत्यु का आंकड़ा 01 लाख 18 हजार 07 हो गया है। कोरोना संक्रमितों के सक्रिय मामलों की संख्या जिन राज्यों में 20 हजार से अधिक हो गयी है उनमें महाराष्ट्र में सर्वाधिक 01 लाख 43 हजार 922 सक्रिय मरीज हैं।
महाराष्ट्र के बाद केरल में 95 हजार 658 सक्रिय मरीज, कर्नाटक में 89 हजार 483, पश्चिम बंगाल में 36 हजार 471, तमिलनाडु में 32 हजार 960, आंध्र प्रदेश में 31 हजार 721, उत्तर प्रदेश में 28 हजार 268, दिल्ली में 26 हजार 01, छत्तीसगढ़ में 24 हजार 620, असम में 22 हजार 963 और तेलंगाना में 20 हजार 377 सक्रिय मामले हैं।
————
आप सुन रहे थे समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया की साई न्यूज में शरद खरे से शनिवार 24 अक्टूबर का राष्ट्रीय आडियो बुलेटिन। दुर्गा नवमी पर रविवार 25 अक्टूबर और दशहरा पर्व पर सोमवार 26 अक्टूबर को आडियो बुलेटिन का अवकाश रहेगा अतः मंगलवार 27 अक्टूबर को एक बार फिर हम ऑडियो बुलेटिन लेकर हाजिर होंगे, यदि आपको ये ऑडियो बुलेटिन पसंद आ रहे हों तो आप इन्हें लाईक, शेयर और सब्सक्राईब जरूर करें, सब्सक्राईब कैसे करना है यह हर वीडियो के आखिरी में हम आपको बताते हैं। अभी आपसे अनुमति लेते हैं, नमस्कार।
(साई फीचर्स)