अब घंटी अलग से मारूं क्या?

संता साइकल से जा रहा था। उसने एक लड़की को टक्कर मार दी।
लड़की चिल्लाईः अंधे हो क्या, घंटी नहीं मार सकते थे?
हड़बड़ा कर संता ने जवाब दियाः पूरी साइकल तो मार दी, अब घंटी अलग से मारूं क्या?