धर्मांतरण के लिये दबाव डालने का आरोप लगाया छतरपुर की एक महिला लाईब्रेरियन ने!

नमस्कार, आप सुन रहे हैं समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया की साई न्यूज की समाचार श्रृंखला में मंगलवार 23 फरवरी का प्रादेशिक आडियो बुलेटिन.
——–
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज भोपाल में स्मार्ट रोड उद्यान में पीपल का पौधा रोपा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि पर्यावरण बचाने और भविष्य के पर्यावरणीय संकटों को कम करने के लिये वृक्षारोपण जरूरी है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मीडिया प्रतिनिधियों से भी अनुरोध किया कि वे भी एक पौधा अवश्य लगायेँ। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रदेश की जनता से भी अनुरोध किया है कि पर्यावरण के प्रति अपनी महती भूमिका निभाते हुए प्रतिवर्ष और संभव हो तो प्रतिमाह एक पौधा लगायेँ। यह संपूर्ण मानव समाज और सृष्टि के हित में है।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस अवसर पर कोरोना से बचाव के लिये नागरिकों द्वारा फेस मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग सहित सुरक्षात्मक उपायों को अपनाने का आग्रह भी किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना फिर से पैर न पसारे, इसके लिये हम सभी को सजग रहना है। इंदौर और भोपाल में कुछ पॉजिटिव प्रकरण आने के बाद यह सावधानियाँ बहुत आवश्यक हो गयी है। शासन ने मेलों में विशेष रूप से सावधानी बरतने के निर्देश भी जारी किये हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमें प्रदेश को इस संकट में फँसने नहीं देना है, इसलिये प्रत्येक नागरिक अपने स्तर पर सजग रहे और कोरोना से बचाव के उपायों को अपनाने में पीछे न रहे। किसी तरह की लापरवाही को अंजाम न दिया जाये।
——–
मध्य प्रदेश के बस संचालक 26 और 27 फरवरी को हड़ताल पर रहेंगे। बस संचालकों का कहना है कि सीधी बस हादसे के बाद प्रशासन अपनी गलती छुपाने के लिये बस संचालकों पर टूट पड़ा है। जबकि बस संचालक प्रदेश के राजस्व का मुख्य हिस्सा है और एकमात्र ऐसा व्यवसाय है जो सरकार को एडवांस टैक्स देकर अपना धंधा करता है।
मंगलवार को राजधानी में बस संचालकों की एक बड़ी बैठक हुई। इसमें प्रशासन द्वारा की जा रही चलानी कार्रवाई का विरोध किया गया। बस संख्या लोगों का कहना है कि सरकार और अफसर प्रदेश में दुर्घटनाओं से लेकर इस व्यवसाय में हो रहे नुकसान की तरफ कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं। पिछले 06 महीने में तीन बार मुख्यमंत्री परिवहन मंत्री और परिवहन विभाग के अफसरों को ज्ञापन दिये गये हैं। जिसमें बताया गया है कि डीजल की कीमत में लगातार वृद्धि हो रही है लेकिन सरकार तीन साल से किराया वृद्धि नहीं कर रही है। जबकि डीजल की कीमत बढ़ने के साथ ही सभी ऑटो पार्ट्स टायर के अलावा अन्य खर्चे भी बढ़ जाते हैं। सरकार की इस बेरुखी के कारण बस व्यवसाय गंभीर घाटे में है और कई बस संचालक तो कर्ज में डूबने के कारण आत्महत्या तक कर चुके हैं।
संचालकों का कहना था कि सीधी बस हादसा पूरी तरह सतना और सीधी के जिला प्रशासन और पुलिस की अनदेखी का नतीजा था। यदि सतना में परीक्षा थी तो जिला कलेक्टर को मालूम होना चाहिये था कि इस मार्ग पर कितनी बस संचालित है और आसपास के जिलों का एकमात्र सेंटर सतना है इसके लिये वैकल्पिक व्यवस्था करनी चाहिये थी।
——–
भोपाल और इंदौर सहित मध्यप्रदेश के कई शहरों में कोरोना एक बार फिर फैलने लगा है। प्रशासन ने सख्ती शुरू कर दी है। एक तरफ तो मुख्यमंत्री मास्क लगाने की अपील कर रहे हैं लेकिन उन्हीं के मंत्री इससे मानने को तैयार नहीं है। विधानसभा के बजट सत्र में मंगलवार को कई विधायक और मंत्री बिना मास्क लगाये पहुँच गये।
संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री उषा ठाकुर भी बिना मास्क के विधानसभा पहुँची थीं। जब उन्हें टोका गया तो बोलीं- मैं तो हनुमान चालीसा का पाठ करती हूं। प्रतिदिन शंख बजाती हूं। काढ़ा पीती हूं। गोबर के कंडे पर हवन करती हूं। इससे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। यह मेरा कोरोना से बचाव है। गमछा गले में रखती हूं, अगर कोई पास आये तो मुंह पर रख लेती हूं। उन्होंने यह भी कहा- वेदों को 10 हजार साल पूरे हो रहे हैं। दुनिया में जिसे श्रेष्ठतम तरीके से जीना है, वह वैदिक जीवन पद्धति अपनाए। उसे कोई तकलीफ छू भी नहीं पायेगी।
बसपा विधायक रामबाई भी बिना मास्क के दिखायी दीं। उन्होंने कहा- जिसके पास हिम्मत होती है, वही कुछ कर सकता है। मास्क नहीं लगाने पर जो जुर्माना लगेगा, वह मैं दे दूंगी। मास्क लगाने से मुझे घबराहट होती है।
——–
प्रदेश की बिगड़ती कानून व्यवस्था के बीच चोरी, लूट, डकैती जैसी घटनाएं अब आम हो चुकी हैं। पुलिस प्रशासन अपराधियों के खिलाफ शिकंजा कसने में लगातार नाकामयाब है और अपराधियों के हौसले बुलंदी पर हैं। प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों से रोजाना चोरी, लूट, हत्या और बलात्कार की घटनाएं सामने आ रही हैं और पुलिस कुछ नहीं कर पा रही। ताजा मामला रीवा जिले से सामने आया है। रीवा के विश्वविद्यालय थाना क्षेत्र अंतर्गत बाईपास पर स्थित बीजेपी विधायक और पूर्व केंद्रीय मंत्री राजेंद्र शुक्ला के वेयरहाउस मे ही चोरों ने सेंध लगा दी।
राजेंद्र शुक्ला विधानसभा के बजट सत्र में शामिल होने राजधानी भोपाल में हैं। बाईपास पर स्थित विंध्या सीड्स नाम से संचालित उनके वेयरहाउस में सोमवार रात चोरों ने सेंध लगाई और तकरीबन 147 बोरी गेहूं चोरी कर ले गये। वेयरहाउस के कर्मचारियों ने मामले की शिकायत थाने में दर्ज कराई है और अब पुलिस की टीम जांच कर रही है।
बताया जा रहा है कि देर रात तकरीबन 03 बजे चोरों ने शटर तोड़कर वेयरहाउस में रखे गेहूं की बोरियां चोरी की। इसकी जानकारी वेयरहाउस के कर्मचारियों को सुबह लगी। विधायक के वेयरहाउस में चोरी की घटना सामने आने के बाद प्रशासन के पैरों तले जमीन खिसक गयी है।
——–
छतरपुर जिले में धर्मांतरण से जुड़ा एक मामला सामने आया है। जिसे लेकर एक महिला लाइब्रेरियन ने थाने में पहुँच कर शिकायती आवेदन देते हुए कार्रवाई की मांग की है। पीड़ित शिक्षका का आरोप है कि वह जिस कॉन्वेंट स्कूल में पढ़ाती है, उसकी प्राचार्य ने कई महीनों की तनख्वाह रोक रखी है। टीचर का आरोप है कि वेतन मांगने पर ईसाई धर्म अपनाने के लिये दबाव बनाया जाता है। इसे लेकर महिला शिक्षक ने पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई है।
दरअसल, पूरा मामला विश्वपर्यटक स्थल खजुराहो का है, जहाँ रहने वाली रूबी सिंह ने थाने में आवेदन दिया है। महिला का आरोप है कि मैं जिस स्कूल में पढ़ाती हूं, वहाँ से मुझे 07 महीने से सैलरी नहीं मिली है। महिला ने कहा कि जब मैं सैलरी मांगती हूं तो स्कूल की प्राचार्य भाग्या सिस्टर ईसाई धर्म अपनाने के लिये कहती हैं। वह कहती हैं कि अगर तुम ईसाई धर्म अपना कर गॉड के शरण में आ जाती हो तो तुम्हारे सारे कष्ट दूर हो जायेंगे।
महिला शिक्षक रूबी ने कहा कि खजुराहो के सेकेट हार्ड कॉन्वेंट स्कूल में बतौर लाइब्रेरियन के पद पर 2016 से कार्यरत हैं। पिछले 07 महीने से मुझे जानबूझ कर वेतन नहीं दिया जा रहा है। स्कूल की प्राचार्य जानती हैं कि मेरी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है। आर्थिक परेशानियों की वजह से मैं ज्यादा दिन तक दबाव नहीं झेल पाऊंगी। पीड़िता ने अपनी शिकायती आवेदन में लिखा है कि स्कूल की प्राचार्य मेरी आर्थिक समस्याओं का फायदा उठाकर मुझसे धर्मांतरण कराना चाहती हैं।
——–
चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग की अध्यक्षता में मंगलवार को विधानसभा स्थित उनके कक्ष में जिला क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक हुई। बैठक में भोपाल में बढ़ते कोरोना केसेस को देखते हुए कई महत्वपूर्ण निर्णय लिये गये।
बैठक में सर्व-सम्मति से तय हुआ कि महाराष्ट्र से आने वाले व्यक्तियों की थर्मल स्केनिंग की जाये। थाना स्तर पर एसडीएम की अध्यक्षता में समाजसेवी और व्यापारियों की बैठक कर जन-जागरूकता के लिये आवश्यक कदम उठाये जायें। कोरोना के बढ़ते मरीजों की संख्या को देखते हुए धरना-प्रदर्शन पर भी रोक लगाने का निर्णय बैठक में लिया गया।
——–
समाचारों के बीच में हम आपको यह जानकारी भी दे दें कि मौसम के अपडेट जानने के लिये समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के चैनल पर प्रतिदिन अपलोड होने वाले वीडियो अवश्य देखें। मौसम से संबंधित अपडेट मूलतः किसानों, निर्माण कार्य करवाने वालों आदि के लिये फायदेमंद साबित हो सकते हैं। समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के द्वारा अब तक मौसम के जो पूर्वानुमान जारी किये गये हैं, वे 95 से 99 प्रतिशत तक सही साबित हुए हैं।
——–
प्रदेश के 350 से अधिक प्रोफेसर्स (प्राध्यापक) का मन अब पढ़ाने में नहीं लग रहा है। इस कारण उन्होंने शासन से स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति की मांग की हैं। इनमें ज्यादातर वे प्रोफेसर हैं, जिनकी सेवा के एक-दो साल ही बचे हैं। यह आवेदन पिछले एक साल में आये हैं। इसमें राजधानी के भी पांच प्रोफेसर शामिल हैं। इस संबंध में प्रोफेसर्स का कहना है कि अब एक या दो साल के अंदर शासन पदोन्नति नहीं देने वाला है। साथ ही करीब दस साल से पदोन्नति नहीं दी गयी। इस कारण अब घर में रहकर पेंशन लेना ही सही है।
कॉलेजों में 2010 के बाद प्रोफेसर्स को पदोन्न ति नहीं दी गयी है। इसका कारण यह है कि आरक्षण और एकेडमिक ग्रेड पे को लेकर प्रकरण न्यायालय में लंबित है। इस कारण भी एक-दो साल में सेवानिवृत्त होने वाले प्रोफेसर्स का मन अब पढ़ाने में नहीं लग रहा है। साथ ही प्रोफेसर्स के एरियर्स के भुगतान में भी देरी हो रही है, जबकि यह ग्रांट 31 मार्च के बाद लैप्स हो जायेगा।
——–
हाथियों ने सीधी में तीन लोगों की जान ले ली। संजय टाइगर रिजर्व से लगे खैरी ग्राम पंचायत के हैकी गाँव में हाथियों का एक झुंड घुस आया था। गाँव वाले घर छोड़कर भागने लगे। हाथियों की चिंघाड़ सुनकर एक बुजुर्ग अपने दो पोतों के साथ घर के बाहर निकले, लेकिन दरवाजे पर ही झुंड मिल गया। हाथियों ने तीनों को वहीं पर पटक कर मार डाला।
ग्रामीणों के मुताबिक हाथियों के हमले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। मंगलवार की सुबह भी एक झुंड गाँव में आ गया था। सभी जान बचाकर भागने लगे। गोरे लाल यादव अपने दो पोते रामकृपाल यादव (12 वर्ष) और रामप्रसाद यादव (13 वर्ष) के साथ फंस गये। जैसे ही वे घर से निकले, सामने हाथियों का झुंड मिल गया। हाथियों ने तीनों को पटक-पटक कर मार डाला।
——–
आप सुन रहे थे समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया की साई न्यूज में शरद खरे से मंगलवार 23 फरवरी का प्रादेशिक आडियो बुलेटिन। बुधवार 24 फरवरी को एक बार फिर हम आडियो बुलेटिन लेकर उपस्थित होंगे, यदि आपको ये आडियो बुलेटिन पसंद आ रहे हों तो आप इन्हें लाईक, शेयर और सब्सक्राईब अवश्य करें, सब्सक्राईब कैसे करना है यह प्रत्येक वीडियो के अंत में हम आपको बताते ही हैं। अभी आपसे अनुमति लेते हैं, नमस्कार।
(साई फीचर्स)