महाराष्ट्र में फिर पैर पसारता दिख रहा कोरोना!

नमस्कार, आप सुन रहे हैं समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया की साई न्यूज की समाचार श्रृंखला में ब्रहस्पतिवार 25 फरवरी 2021 का राष्ट्रीय आडियो बुलेटिन, अब आप रीना सिंह से समाचार सुनिए.
——–
केंद्र सरकार ने इंटरनेट मीडिया और ओटीटी प्लेटफॉर्म के लिए नई गाइडलाइन्स जारी कर दी है। गाइडलाइन्स के तहत अब आपत्तिजनक पोस्ट 24 घंटे में हटाने होंगे। यह नियम तीन महीने में लागू हो जाएंगे। केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने गुरुवार को कहा कि सोशल मीडिया कंपनियों के लिए भी एक प्रॉपर मैकेनिज्म होना चाहिए। साथ ही उन्होंन कहा कि सोशल मीडिया कंपनी भारत में बिजनेस करें लेकिन डबल स्टैंडर्ड नहीं चलेगा।
रविशंकर प्रसाद ने कहा कि हमने देखा है कि लोग अब हिंसा फैलाने के लिए भी सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया को दो श्रेणियों में बांटा गया है,एक इंटरमीडरी और दूसरा सिग्निफिकेंट। भारत में वाट्सएप के 53 करोड़, फेसबुक के 40 करोड़ यूजर हैं। ट्विटर पर एक करोड़ से अधिक यूजर हैं। लेकिन जो चिंताए जाहिर की जाती है उनपर काम करना जरूरी है।
केंद्रीय मंत्री ने कहा कि ओटीटी और डिजिटल मीडिया के लिए तीन स्तरीय व्यवस्था की गयी है, हमें ओटीटी के लिए नियम बनाने की मांग को लेकर हर दिन सैकड़ों पत्र आ रहे हैं। मंत्री ने कहा कि अब सभी मीडिया के लिए एक नियम होगा।
रविशंकर प्रसाद ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से एक गाइड लाइन बनाने के लिए कहा था। संसद में इसे लेकर चिंता जताई गयी थी। आजकल अपराधी भी इसका इस्तेमाल कर रहे हैं। इसका एक प्रॉपर मेकेनिज्म होना चाहिए।
सरकारी गाइडलाइंस की अहम बातों पर अगर गौर किया जाए तो इसमें किसी भी आपत्तिजनक कंटेंट को 24 घंटे में हटाना होगा। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को अफसरों की तैनाती करनी होगी। हर महीने कितनी शिकायतों पर एक्शन लिया गया, इसकी जानकारी देनी होगी। अफवाह फैलाने वाला पहला व्यक्ति कौन है उसकी जानकारी देनी होगी। ओटीटी प्लेटफॉर्म और डिजिटल मीडिया को अपने काम की जानकारी भी साझा करनी पड़ेगी। उन्हें बताना होगा कि वो कैसे अपना कंटेंट तैयार करते हैं, को प्रमुख रूप से शामिल किया गया है।
——–
महाराष्ट्र में एक बार फिर से कोरोना के मामले तेजी से बढ़ने लगे हैं। राज्य में करीब चार महीने बाद संक्रमण के लगभग 9 हजार मामले सामने आए हैं। वाशिम जिले के एक होस्टल में 186 स्टूडेंट पॉजिटिव पाए गए हैं। पॉजिटिव पाए गए अधिकतर स्टूडेंट अमरावती और यवतमाल जिले से हैं। होस्टल में काम करने वाले तीन लोग भी संक्रमित पाए गए हैं। इस होस्टल में 327 छात्र रहते हैं।
महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई में 119 दिन बाद बुधवार को 1000 हजार से अधिक मामले पाए गए। मुंबई में 1167 कोरोना के मामले दर्ज किए गए। इसके अलावा मुंबई में कोरोना से चार लोगों की मौत की भी खबर है। मंगलवार को मुंबई में 643 नए कोरोना मामले पाए गए थे। इससे पहले 22 फरवरी को 921 मामले और 20 फरवरी को 897 मामले पाए गए थे।
——–
दिल्ली सरकार में सूत्रों ने बृहस्पतिवार को आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की सुरक्षा कम कर दी गई है। वहीं केंद्रीय गृह मंत्रालय ने आरोपों से इंकार किया है। एक सूत्र ने दावा किया, गुजरात निकाय चुनावों में आम आदमी पार्टी के प्रभावशाली प्रदर्शन के दो दिन बाद भाजपा नेतृत्व के इशारे पर यह कदम उठाया गया है। सूत्रों ने आरोप लगाया कि केजरीवाल की सुरक्षा में लगे दिल्ली पुलिस के कमांडो की संख्या छह से घटाकर दो कर दी गई है। बहरहाल, गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि ऐसा कोई निर्णय नहीं किया गया है। गुजरात के सूरत में नगर निकाय चुनावों में आप ने 27 सीटों पर जीत दर्ज की जहां शुक्रवार को पार्टी के संयोजक एक रोडशो में हिस्सा लेंगे।
——–
केंद्र सरकार ने गुरुवार को दिल्ली हाई कोर्ट से कहा कि समलैंगिक विवाह के लिए मान्यता पाना किसी का मौलिक अधिकार नहीं है। सरकार ने यह बात समलैंगिक जोड़ों की तरफ से अपनी पसंद के साथी से विवाह करने को मौलिक अधिकार के दायरे में लाने की मांग वाली एक याचिका के जबाव में कही।
केंद्र ने हलफनामे में कहा है, आईपीसी की धारा 377 को वैध करने के बावजूद याचिकाकर्ता देश के कानूनों के तहत समलैंगिक विवाह को मौलिक अधिकार की तरह लागू कराने का दावा नहीं कर सकते। अनुच्छेद 21 के तहत मौलिक अधिकारों का विस्तार कर इसमें समलैंगिक विवाहों के मौलिक अधिकार को शामिल नहीं किया जा सकता।
इसमें आगे कहा गया है, भारत में शादी केवल दो व्यक्तियों के मिलन का विषय नहीं है, बल्कि एक बायोलॉजिकल पुरुष और एक बायोलॉजिकल महिला के बीच एक अहम बंधन है। केंद्र ने आगे कहा कि पार्टनर के रूप में एक साथ रहना और समान-लिंग के लोगों के साथ यौन संबंध बनाने की तुलना पति, पत्नी और बच्चों वाले भारतीय परिवार से नहीं की जा सकती। ऐसे में देश की संसद की ओर से बनाए गए कानूनों में कोई हस्तक्षेप करना निजी कानूनों के नाजुक संतुलन के लिए भयावह साबित होगा।
केंद्र ने यह भी कहा कि भारत में शादी को एक संस्कार के रूप में माना जाता है और यह सदियों पुराने रीति-रिवाजों, सांस्कृतिक नैतिकता और सामाजिक मूल्यों को लिए हुए है। ऐसे में समलैंगिक व्यक्तियों का विवाह इन सब चीजों का भी उल्लंघन करेगा। लिहाजा, इस याचिका को खारिज कर दिया जाना चाहिए।
——–
कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर पलटवार करते हुए बृहस्पतिवार को कहा कि मछुआरों को एक स्वतंत्र मत्स्य पालन मंत्रालय चाहिए, एक मंत्रालय के भीतर केवल एक विभाग नहीं। प्रधानमंत्री ने पुडुचेरी में एक जनसभा को संबोधित करते हुए गांधी द्वारा पिछले सप्ताह दिये गए उस बयान पर हैरानी जतायी जिसमें उन्होंने कहा था कि कोई समर्पित मत्स्य मंत्रालय नहीं है।
इससे पहले केंद्रीय मंत्रियों सहित भाजपा नेता भी इस बयान को लेकर गांधी पर निशाना साध चुके हैं। प्रधानमंत्री द्वारा किये गए हमले पर पलटवार करते हुए गांधी ने ट्वीट किया, प्रिय प्रधानमंत्री, मछुआरों को एक मंत्रालय के भीतर केवल एक विभाग नहीं बल्कि एक स्वतंत्र और समर्पित मत्स्य पालन मंत्रालय की आवश्यकता है। उन्होंने कहा, हम दो हमारे दो से निश्चित तौर पर बुरा लगता है। गांधी उस कटाक्ष का उल्लेख कर रहे थे जिसका इस्तेमाल उन्होंने सरकार के खिलाफ यह आरोप लगाने के लिए किया है कि यह सरकार मोदी और उनके कॉरपोरेट दोस्तों द्वारा चलायी जा रही है।
——–
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत ने एकबार फिर अखंड भारत अर्थात अविभाजित भारत की वकालत की है। उन्होंने यह भी कहा कि पाकिस्तान जैसे देश भारत से अलग हो गए थे और आज संकट में है। यह बात उन्होंने हैदराबाद में आयोजित पुस्तक लोकार्पण समारोह में कही। उन्होंने कहा कि अखंड भारत हिंदू धर्म के माध्यम से ही संभव है। उन्होंने यह भी कहा कि यह बलपूर्वक नहीं हो सकता है।
उन्होंने कहा, ब्रह्मांड के कल्याण के लिए गौरवशाली अखंड भारत बनाने की आवश्यकता है। इसके लिए देशभक्ति को जगाने की आवश्यकता है। क्योंकि भारत को (एक बार फिर) एकजुट होने की जरूरत है, सभी विभाजित भागों भारत के जो अब खुद को भारत नहीं कहते हैं उन्हें और अधिक इसकी आवश्यकता है।
मोहन भागवत ने कहा कि अखंड भारत की कल्पना संभव है। उन्होंने कहा, श्श्कुछ लोगों ने देश के विभाजन से पहले गंभीर संदेह व्यक्त किया था कि क्या इसे विभाजित किया जाएगा, लेकिन ऐसा हुआ। अगर आप इस देश के विभाजन के छह महीने पहले पूछते, तो किसी को अनुमान नहीं होता। लोगों ने पंडित जवाहरलाल नेहरू से पूछा कि पाकिस्तान के गठन के बारे में एक नया विषय सामने आ रहा है।श्श्
——–
समाचारों के बीच में हम आपको यह जानकारी भी दे दें कि मौसम के अपडेट जानने के लिए समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के चेनल पर रोजाना अपलोड होने वाले वीडियो जरूर देखें। मौसम से संबंधित अपडेट मूलतः किसानों, निर्माण कार्य करवाने वालों आदि के लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं। समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के द्वारा अब तक मौसम के जो पूर्वानुमान जारी किए गए हैं, वे 95 से 99 फीसदी तक सही साबित हुए हैं।
——–
बृहस्पतिवार को गूगल से कहा कि भारतीय अखबारों की सामग्री का इस्तेमाल करने के लिए वह उन्हें भुगतान करे और कहा कि कंपनी विज्ञापन राजस्व में प्रकाशक की हिस्सेदारी बढ़ाकर 85 फीसदी करे। गूगल को लिखे पत्र में आईएनएस के अध्यक्ष एल. आदिमूलम ने कहा कि प्रकाशकों को काफी अपारदर्शी विज्ञापन व्यवस्था का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि उनके पास गूगल की विज्ञापन मूल्य श्रृंखला का ब्यौरा नहीं है।
आईएनएस ने बयान जारी कर कहा, सोसायटी ने कहा कि गूगल को विज्ञापन राजस्व में प्रकाशक की हिस्सेदारी बढ़ाकर 85 फीसदी करनी चाहिए और गूगल द्वारा प्रकाशकों को मुहैया कराई जाने वाली राजस्व रिपोर्ट में ज्यादा पारदर्शिता सुनिश्चित की जानी चाहिए। इसने कहा कि पिछले कुछ वर्षों से दुनिया भर के प्रकाशक विषय वस्तु के लिए उचित भुगतान और गूगल के साथ विज्ञापन राजस्व में उचित साझेदारी की मांग कर रहे हैं। इसने कहा कि हाल में गूगल ने फ्रांस, यूरोपीय संघ और ऑस्ट्रेलिया में प्रकाशकों को बेहतर भुगतान पर सहमति जताई है।
गूगल इंडिया के देश में प्रबंधक संजय गुप्ता को लिखे पत्र में आईएनएस के अध्यक्ष ने मांग की कि गूगल को अखबारों की खबरों के लिए भुगतान करना चाहिए जो खबर जुटाने के लिए काफी खर्च कर हजारों पत्रकारों की सेवा लेते हैं। आईएनएस ने फर्जी सूचना से निपटने के लिए पंजीकृत समाचार प्रकाशकों की संपादकीय विषय वस्तु को ज्यादा महत्व देने का भी मुद्दा उठाया।
——–
आप सुन रहे थे रीना सिंह से समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया की साई न्यूज में बृहस्पतिवार 25 फरवरी 2021 का राष्ट्रीय आडियो बुलेटिन। शुक्रवार 26 फरवरी 2021 को एक बार फिर हम आडियो बुलेटिन लेकर हाजिर होंगे, अगर आपको यह आडियो बुलेटिन पसंद आ रहे हों तो आप इन्हें लाईक, शेयर और सब्सक्राईब जरूर करें, सब्सक्राईब कैसे करना है यह हर वीडियो के आखिरी में हम आपको बताते ही हैं। फिलहाल इजाजत लेते हैं, नमस्कार।
(साई फीचर्स)

———