लॉक डाऊन मेें पुलिस पर किया हमला . . .

नमस्कार, आप सुन रहे हैं समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया की साई न्यूज की समाचार श्रृंखला में बृहस्पतिवार 08 अप्रैल 2021 का प्रादेशिक आडियो बुलेटिन, अब आप रीना सिंह से समाचार सुनिए.
——–
पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है कि कोरोना का सच पता करना हो तो श्मशान में जाकर शवों की गिनती कराई जाए। शिवराज सरकार पूरी तरह बनावटी आंकड़े पेश कर रही है। शिवराज सरकार पर हमला करते हुए गुरुवार को अल्प प्रवास पर आए पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि जब आग लगने वाली थी, तब कुआं नहीं खोदा। अब मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान कुआं खोद रहे हैं। मुख्यमंत्री के स्वास्थ्य सत्याग्रह पर कटाक्ष करते हुए उन्होंने कहा कि इन्हें नौटंकी करना हो तो वालीवुड में चले जाएं।
पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रदेश और छिंदवाड़ा की स्थिति पर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि अगर ऐसे समय में प्रदेश में नाटक, नौटंकी का माहौल चल रहा है, तो प्रशासन को क्या दोष देंगे। उदाहरण तो ऊपर से बनते हैं, सत्याग्रह कर लो, महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने बैठ जाओ जिससे कोविड चला जाएगा। सायरन बजा लो ताली बजा लो, मास्क पहन लो और खुली जीप पर घूम लो… यह सब नाटक नौटंकी चल रही है। पूर्व सीएम कमलनाथ ने सीएम शिवराज पर तंज कसते हुए कहा कि यह नाटक बंद करे अगर यही नाटक करना है, तो मुम्बई जाएं, वहीं यह नाटक करें।
कमलनाथ ने आरोप लगाया कि प्रदेश में कम टेस्टिंग की जा रही है, जबकि महाराष्ट्र में करीब 2 लाख टेस्टिंग हो रही है। श्मशान घाट के आंकड़े देखें, तो स्थिति भयावह है। सरकार बनावटी आंकड़े प्रस्तुत कर रही है। छिंदवाड़ा के सौंसर और पांढुर्णा में ही करीब 150 मौतें हुई हैं, लेकिन आज बैठक के बाद जो जानकारी प्रशासन ने मुझे दी, उसके अनुसार ये मौतें उनके आंकड़ों में शामिल नहीं।
——–
प्रदेश की राजधानी भोपाल के उपनगर यानी कोलार और शाहपुरा इलाके में तेजी से बढ़ रहे संक्रमण को देखते हुए 9 अप्रैल शाम 6 बजे से 19 अप्रैल की सुबह 6 बजे तक के लिए 7 वार्डों का कंटेनमेंट जोन बनाया जाएगा। इस संबंध में गुरुवार की दोपहर को कलेक्टर अविनाश लवानिया ने आदेश जारी कर दिये हैं। कोलार के जिन 7 वार्डों को कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है, उसमें करीब 2 लाख 50 हजार से ज्यादा आबाद बसी हुई है। इस हिसाब से ये प्रदेश की अब तक का सबसे बड़ा कंटेनमेंट जोन बनने जा रहा है, जो 9 दिनों तक के लिये पूरी तरह से बंद रहेगा।
——–
शहडोल जिले में एक बड़ी लापरवाही देखने को मिली है, जहां कुछ स्वास्थ्यकर्मी एक कोरोना संक्रमित को लेकर खुलेआम शहर के बीच घूमते नजर आए। कोरोना संक्रमित को लेकर शहर के बीच घंटों गन्ने जूस का आनंद लेते रहे हैं। इस दौरान वहां मौजूद एक शख्स ने वीडियो बना लिया है। वीडियो अब सोशल मीडिया पर वायरल है।
दरअसल, कुछ स्वास्थ्य कर्मी एंबुलेंस में एक कोरोना संक्रमित को लेकर जा रहे थे। इसी दौरान शहर के बीचोबीच संक्रमित मरीज को लेकर जूस पीने लगे। वहीं, कोरोना संक्रमित खुद को असहज महसूस करते हुए उनके जूस पीने का इंतजार करता रहा। इस दौरान लोग वहां से गुजरते रहे। संक्रमित मरीज को देख लोग भयभीत भी नजर आ रहे थे।
——–
कोरोना संक्रमण को देखते हुए शिवराज ने बड़ा फैसला लिया है। शिवराज सिंह चौहान ने सुबह में राज्य के सभी बड़े अधिकारियों के साथ बैठक की थी। उसके बाद यह फैसला लिया है कि प्रदेश में दो दिनों का लॉकडाउन लगाया जाएगा। प्रदेश के सभी शहरी क्षेत्रों में अब दो दिन लॉकडाउन रहेगा।
शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि अब प्रदेश में शनिवार और रविवार को लॉकडाउन रहेगा। यह लॉकडाउन शहरी क्षेत्रों में रहेगा। लॉकडाउन के दौरान भी वैक्सीनेशन का कार्य जारी रहेगा। सीएम हाउस में शिवराज ने इसे लेकर प्रदेश के वरीय अधिकारियों के साथ मीटिंग की थी। इसके बाद सरकार ने यह निर्णय लिया है।
——–
रीवा में सनकी एसडीओ ने बंदूक की नोंक पर अपनी ही बहू को बंधक बना लिया है। बेटी के फोन पर 3 दिन बाद छुड़ाने पहुंचे समधी पर 3 फायर कर दिए। एक गोली उनके पैर में लगी। सूचना मिलने पर आसपास थाने की पुलिस पहुंची। पुलिस जवान जैसे ही घर में घुसने लगे तो एसडीओ ने उन पर भी फायरिंग कर दी। वह रुक-रुककर फायर करता रहा। फिर पुलिस दूर जाकर महिला को छोड़ने अपील करने लगी। किसी तरह से आरोपी को बातों में उलझाया। इसी बीच मौका देखकर कुछ जवान मुख्य गेट का ताला तोड़कर घुसे और एसडीओ को काबू कर लिया। करीब 3 घंटे बाद बहू और आरोपी की पत्नी को मुक्त करा लिया गया।
डिंडौरी में तैनात एसडीओ का बेटा भोपाल में रहता है। रीवा स्थित घर में आरोपी, उसकी पत्नी और बहू रहते हैं। शहर के समान थाना स्थित नेहरू नगर के एसडीओ सुरेश मिश्रा ने अपनी बहू को तीन दिन से बंधक बना रखा था। महिला ने किसी तरह से अपने पिता 68 वर्षीय श्रीनिवास तिवारी को फोन करके पूरी घटना बताई। गुरुवार दोपहर 12 बजे वह बेटी के ससुराल पहुंचे और उन्होंने समधी से बेटी को छोड़ने की मिन्नत की, लेकिन एसडीओ ने बात नहीं मानी।कहा, मेरे घर से भाग जाओ नहीं तो गोली मार दूंगा। जब श्रीनिवास नहीं हटे तो उसने बंदूक से 3 फायर कर दिए। एक गोली गोली उनके पैर में लगी और वह गिर गए। काफी देर तक छटपटाते रहे फिर कुछ रिश्तेदारों ने उन्हें संजय गांधी अस्पताल में भर्ती कराया है।
——–
सतना के जिला न्यायालय के जज (अपर सत्र न्यायाधीश) की कोरोना से मौत ने जिला अस्पताल को संदेह के घेरे में ला खड़ा किया है। स्वास्थ्य विभाग ने उनके इलाज में हद दर्जे की लापरवाही की है। यही नहीं, जब उनकी कोरोना से मौत हो गई तो श्मशान घाट में नगर निगम ने अंतिम संस्कार के लिए लकड़ी तक देने से मना कर दिया।
बताया गया कि 108 एंबुलेंस का स्टाफ कोरोना पॉजिटिव एडीजे को गंभीर हालत में लेकर बुधवार दोपहर 3.45 बजे ट्रॉमा यूनिट में बनाए गए इंफेक्सियम डिसीज कंट्रोल वार्ड पहुंचा। वहां पर न्यायाधीश को वार्ड में शिफ्ट करने के लिए स्ट्रेचर, व्हील चेयर तक नहीं मिली। ऊपर से मौके पर मौजूद स्टाफ नर्स, वार्ड ब्यॉय ने पूछने पर भी नहीं बताया कि स्ट्रेचर और व्हील चेयर कहां है।
एंबुलेंस का स्टाफ 20 मिनट की मशक्कत के बाद व्हील चेयर पर न्यायाधीश को बैठाकर वार्ड लेकर पहुंचा तो वहां कोई डॉक्टर मौजूद नहीं था। स्टाफ नर्स बोली कि उन्हें ओपीडी लेकर जाओ वहां पर्चा कटवाओ और डॉक्टर से लिखवाकर लाओ कि कहां दाखिल करना है। तब तक न्यायाधीश के परिजन पहुंच गए। उनके अनुरोध के बाद न्यायाधीश को वार्ड में दाखिल किया गया, लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी।
बताया गया कि न्यायाधीश के परिजन गुरुवार सुबह 9 बजे नारायण तालाब स्थित मुक्तिधाम पहुंचे तो अंतिम संस्कार के लिए लकड़ी देने तक से मना कर दिया गया। आरोप है कि नगर निगम प्रशासन ने असंवेदनशील व्यवहार दिखाते हुए कहा कि हमारे पास लकड़ी नहीं है। आपको खुद लकड़ी का इंतजाम करना होगा। ऐसे में कोरोना प्रोटोकॉल का पालन कराने के लिए खड़ी कोलगवां पुलिस ने आनन-फानन में लकड़ी का इंतजाम किया। तब कहीं जाकर कोरोना से मृत जज का अंतिम संस्कार किया गया।
——–
समाचारों के बीच में हम आपको यह जानकारी भी दे दें कि मौसम के अपडेट जानने के लिए समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के चेनल पर रोजाना अपलोड होने वाले वीडियो जरूर देखें। मौसम से संबंधित अपडेट मूलतः किसानों, निर्माण कार्य करवाने वालों आदि के लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं। समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के द्वारा अब तक मौसम के जो पूर्वानुमान जारी किए गए हैं, वे 95 से 99 फीसदी तक सही साबित हुए हैं।
——–
भोपाल में नाइट कर्फ्यू के दौरान पुलिस पर हमले बढ़ते जा रहे हैं। हनुमानगंज थाना क्षेत्र में 1 सप्ताह पहले हुई वारदात के बाद अब कोहेफिजा थाना क्षेत्र के खानूगांव में पुलिस वालों को निशाना बनाया गया। गश्ती के दौरान पुलिसकर्मियों ने खानूगांव के अंदर एक जिप्सी को खड़ा देखा।
पुलिस जब वहां पहुंची, तो छह युवक मस्ती कर रहे थे। उनकी गाड़ी में राइफल भी थी। इससे पहले कि पुलिसकर्मी साथियों को मदद के लिए बुलाते आरोपियों ने उन पर हमला कर दिया। वारयलेस तोड़ते हुए पुलिसकर्मियों से मारपीट की। इसके बाद सभी आरोपी भाग गए। पुलिस ने जिप्सी तो जब्त कर ली है, लेकिन अब तक आरोपियों का सुराग नहीं लग पाया है।
कोहेफिजा टीआई अनिल वाजपेयी ने बताया कि बुधवार रात करीब डेढ बजे गश्त के दौरान डायल-100 की टीम खानूगांव के आसपास थी। गांव में उन्हें एक जिप्सी संदिग्ध हालत में खड़ी दिखाई दी। वहां पहुंचने पर उसके अंदर 6 युवक बैठे हुए थे और अंदर ही एक राइफल भी नजर आई।
पुलिसकर्मियों ने मामले की गंभीरता को देखते हुए वायरलेस से पुलिस कंट्रोल रूम को सूचना देने का प्रयास किया। इसी दौरान आरोपियों ने वायरलेस छीनकर उसे तोड़ दिया और पुलिसकर्मियों से धक्का-मुक्की करते हुए मारपीट की। जब तक पुलिसकर्मी और डायल-100 का चालक संभलता। आरोपी मौके से भाग चुके थे।
घटना के बाद मौजूद पुलिसकर्मियों ने तत्काल मोबाइल फोन से अधिकारियों को सूचना दी। इसके बाद देर रात आरोपियों की धरपकड़ का सिलसिला शुरू हुआ। इधर पुलिस को लावारिस हालत में जिप्सी तो मिल गई, लेकिन आरोपी का पता नहीं चल पाया है। पुलिस जिप्सी नंबर के आधार पर आरोपी की तलाश कर रही है, लेकिन अब तक किसी का पता नहीं चल पाया है।
——–
आप सुन रहे थे रीना सिंह से समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया की साई न्यूज में बृहस्पतिवार 08 अप्रैल 2021 का प्रादेशिक आडियो बुलेटिन। शुक्रवार 09 अप्रैल 2021 को एक बार फिर हम आडियो बुलेटिन लेकर हाजिर होंगे, अगर आपको यह आडियो बुलेटिन पसंद आ रहे हों तो आप इन्हें लाईक, शेयर और सब्सक्राईब जरूर करें, सब्सक्राईब कैसे करना है यह हर वीडियो के आखिरी में हम आपको बताते ही हैं। फिलहाल इजाजत लेते हैं, नमस्कार।
(साई फीचर्स)

———