जागे कांग्रेस जिलाध्‍यक्ष, पूछा विधायक दिनेश राय से प्रश्‍न

कहा, छलावा न करें, विधायक निधि के एक करोड रूपए जारी होने में लगेगा वक्‍त . . .

सम्माननीय सांसद एवं सत्ताधारी दल के विधायक गण से विनम्र आग्रह,

परम पिता परमेश्वर से आपके स्वस्थ और कुशल रहने की कामना करता हूँ, हमारा ज़िला इस समय कोरोना के भीषण संक्रमण से गुज़र रहा है, ज़िला अस्पताल में मरीज़ों के लिए ऑक्सीजन वाले बेड कम पड़ने लगे हैं और इलाज ना मिल पाने की वजह से लोगों की असमय मौत हो रही है, ये वक़्त एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप का नहीं है, हम सब मिलकर कुछ ऐसा प्रयास करें कि जिससे कम से कम जान-माल का नुक़सान हो और ज़िले की चिकित्सकीय व्यवस्था बेहतर हो सके, इसके लिये कांग्रेस पार्टी और हमारे विधायक आपके साथ कंधे से कंधा मिलाकर शासन-प्रशासन का सहयोग करने को तैयार है। केंद्र और राज्य में आपकी पार्टी की ही सरकारें हैं, ऐसे में मेरे साथ ज़िले के सभी लोगों को उम्मीद है कि आप जल्द से जल्द सरकार से बात कर ऐसे कदम उठाने की कोशिश करेंगे जिससे हमारे ज़िले के बदतर होते हालात बेहतर किए जा सकें।

बीते साल इसी कोरोना महामारी से मैं अपने पिता को गंवा चुका हूँ और इस बीमारी की विभीषिका को मैंने खुद महसूस किया है , मैं इस बात को समझता हूँ कि दुख में कंधे पर हाथ रखने वाले, चाहकर भी आपके कंधों पर हाथ नहीं रख पाते और सुख-दुख में बैठने जाने की हमारी परंपरा भी इसके चलते रुक गई है, इन्हीं अनुभवों के आधार पर मैंने ये तय किया था कि इन हालात में कोई कोई भी ऐसी बात मुझे नहीं बोलना है और मैंने अभी तक इस बात की पूरी कोशिश भी की लेकिन आज जब मैंने सिवनी के विधायक की ओर से जारी विज्ञप्ति पढ़ी तो पहली नज़र में तो मुझे बहुत ख़ुशी हुई लेकिन हक़ीक़त जानने के बाद तो मुझे उनकी अकर्मण्यता और अदूरदर्शिता पर तरस आया, विधायक निधि से एक करोड़ रुपए कलेक्टर को देने की बात सिवनी की जनता के साथ एक मज़ाक़ और छलावा है क्योंकि इस राशि को जारी होने में अभी लम्बा वक़्त लगेगा, ज़िले के अस्पतालों में लोगों की जान बचाने के लिए स्वास्थ्य सुविधाओं की ज़रूरत हमें अभी है, ना कि सैकड़ों जिंदगियाँ गँवाने के बाद। क्या विधायक जी ज़िले की जनता को बतायेंगे कि एक करोड़ की राशि कब तक जारी हो जायेगी? क्या विधायक जी बताएँगे कि उनके पास विधायक निधि में अभी कितनी राशि है? क्या विधायक जी बताएँगे कि आपदा प्रबंधन समिति के सदस्य होने के नाते उन्होंने बीते एक साल में इस महामारी की तैयारी के लिये अस्पताल में क्या-क्या सुविधाएँ और जीवनरक्षक मेडिकल उपकरण जुटाने का प्रयास किया? ज़िला एवं अस्पताल प्रशासन तो अपने सीमित साधनों से जो कुछ कर सकता है वो वे कर रहे हैं, लेकिन ज़िले के जनप्रतिनिधि होनें के नाते समय रहते आपने कौन सी अतिरिक्त या विशेष सुविधायें मुहैया कराईं, कितने डाक्टरों एवं स्वास्थ्य कर्मियों की पदस्थापना ज़िला और ब्लाक स्तर के अस्पतालों में कराईं? ऑक्सीजन की लगतार सप्लाई के लिये क्या प्रयास किये गये, ( क्योंकि इन्हीं सुविधाओं के अभाव के चलते प्रशासन नें ज़िला कांग्रेस कमेटी का भवन नहीं लिया क्योंकि उनका कहना है कि भवन तो उनके पास बहुत हैं लेकिन मेडिकल स्टाफ़ एवं उपकरणों की कमी है ) और ऐसे समय पर आपने तो उस कहावत को भी झूठा साबित कर दिया जिसमें कम से कम “आग लगने पर कुँआ खोदनें “की बात कही गयी है , व्यवस्थाओं और सुविधाओं की आवश्यकता आज है और आपने अपनी विधायक निधि से एक करोड़ की देने घोषणा कर दी जिसका अभी दूर-दूर तक कहीं अता-पता नहीं है, बहुत देर से जारी होने पर भी ये राशि एक साथ मिलने का प्रावधान नहीं है, आज वक़्त ऐसी सुविधाएँ तुरंत उपलब्ध कराने का है जिससे लोगों की ज़िंदगी बचाई जा सके। मेरी आपसे प्रार्थना है कि आइये संकट की इस घड़ी में राजनैतिक नफ़ा-नुक़सान को छोड़ कर हम सब मानवता के लिये एकजुट होकर कुछ ऐसा करें जो आम नागरिकों के लिये हितकारी हो।

– राजकुमार खुराना
अध्यक्ष ज़िला कांग्रेस कमेटी सिवनी