नए हेबिटेट में सोन चिरैया की वापसी की तैयारी

नमस्कार, आप सुन रहे हैं समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया की साई न्यूज की समाचार श्रृंखला में शुक्रवार 30 जुलाई 2021 का प्रादेशिक आडियो बुलेटिन, अब आप रीना सिंह से समाचार सुनिए.
——–
मध्य प्रदेश में कोवैक्सिन की कमी ने लोगों की परेशानी बढ़ा दी है। प्रदेश में पहला डोज लगवाने के लिए कोवैक्सिन ही उपलब्ध नहीं है। दूसरा डोज लगवाने वाले भी परेशान हो रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग का कहना है, सप्लाई को देखते हुए कोवैक्सिन का दूसरा डोज लगाया जा रहा है।
प्रदेश में लंबे समय से कोवैक्सिन का पहला डोज लगवाने के लिए लोग परेशान हो रहे हैं। राजधानी में कोवैक्सिन का पिछले एक महीने से पहला डोज नहीं लग रहा। वहीं, इंदौर में तो दूसरा डोज लगवाने के लिए भी लोगों को परेशान होना पड़ रहा है। यही स्थिति अधिकतर जगह बनी हुई है। इसे लेकर अधिकारियों का कहना है कि जुलाई में कोवैक्सिन की आपूर्ति मांग के अनुसार होना था।
दरअसल, गुजरात के अंकलेश्वर और साउथ में कोवैक्सिन का प्रोडक्शन शुरू होना था। यह प्रोडक्शन शुरू नहीं होने से आपूर्ति के अनुसार मांग नहीं हो पा रही। हैदराबाद से हो रहे वैक्सीन का प्रोडक्शन देशभर की मांग के अनुसार पर्याप्त नहीं है। यही कारण है, प्रदेश में कोवैक्सिन की पर्याप्त आपूर्ति नहीं हो पा रही।
——–
ग्वालियर में एक बार पराजय का मुंह देख चुके केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के मार्ग में शूल बोने का काम आरंभ होता दिख रहा है। ग्वालियर में पत्र राजनीति का दौर चल रहा है। पत्रों के जरिए केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया से काम कराने की मांग के साथ ही उनको घेरा भी जा रहा है। दो दिन पहले एक बार फिर ग्वालियर सांसद ने सिंधिया को पत्र लिखकर एयरपोर्ट के विस्तार और एयर कार्गाे हब पर ध्यान देने की बात लिखी है।
साथ ही कार्गाे हब से डबरा सहित ग्वालियर में रोजगार की अपार संभावनाएं पैदा होने की बात लिखी है। ग्वालियर सांसद का यह 18 दिन में दूसरा पत्र है जो उन्होंने सिंधिया को लिखा है। सिंधिया को केंद्रीय मंत्री बनने के बाद भी पहला पत्र भी ग्वालियर सांसद की ओर से ही लिखा गया था।
——–
सिवनी जिले के ग्राम पंचायतों के कामकज ठप है। जनपद पंचायत कार्यालयों में कोई हलचल दिखाई नहीं दे रही है। संयुक्त अधिकारी/कर्मचारी मोर्चा के तत्वावधान में अपनी विभिन्न मांगों को लेकर पंचायत कर्मचारी हड़ताल पर चले गए हैं। कलम बंद हड़ताल से ग्राम पंचायतों के हितग्राही अपने-अपने कार्यों के लिए परेशान है, लेकिन हड़ताल की वजह से उनकी कोई सुनने वाला नहीं है। केवलारी व घंसौर जनपद पंचायत कार्यालय के प्रदर्शनकारियों ने अर्धनग्न होकर प्रदर्शन किया।
संयुक्त मोर्चा के हड़ताल पर चले जाने से मध्यप्रदेश सरकार की विभिन्न योजनाएं जो पंचायत के माध्यम से संचालित होती हैं तथा ग्राम पंचायत अंतर्गत होने वाले विभिन्न निर्माण कार्य तथा मजदूरों का भुगतान पूर्णतः प्रभावित हो रही हैं। लोगों के पंचायत के माध्यम से होने वाले काम बंद हैं। लोग परेशान हो रहे हैं। संयुक्त मोर्चा ब्लॉक संयोजक चंद्रभान सिंह चंदेल ने बताया कि सरकार यदि संयुक्त मोर्चा की मांगों को नहीं मानती है तो आर-पार की लड़ाई होगी।
——–
लगातार हो रही बारिश में मध्य प्रदेश के एकमात्र हिल स्टेशन पचमढ़ी की खूबसूरती कई गुना बढ़ गई है। पचमढ़ी को पर्वतों की रानी भी कहा जाता है। नर्मदा और तवा नदी का जलस्तर बढ़ने से यहां के प्राकृतिक झरनों में पानी का धाराएं बह निकली हैं। रिमझिम बारिश से दिन भर कोहरा छाया रहता है। इसके साथ छाई हरियाली पर्यटकों का मन मोह लेती है। 1067 मीटर की ऊंचाई पर स्थित पचमढ़ी शहर प्राकृतिक सुंदरता के कारण सतपुड़ा की रानी कहलाता है। कोरोना संक्रमण के दौरान पिछले एक साल से यहां का पर्यटन उद्योग बुरी तरह प्रभावित हुआ था। लॉकडाउन हटने और मॉनसून की शुरुआत के साथ यहां पर्यटकों का जमघट लग रहा है।
——–
सागर शहर के शुक्रवारी क्षेत्र के पूर्व पार्षद नईम खान के बेटे इमरान खान उर्फ बादशाह की गुरुवार सुबह सरेराह गोली मारकर हत्या कर दी गई है। हत्या के बाद से इलाके में तनाव के हालात हैं। क्षेत्र में भारी पुलिस बल तैनात किया गया है। मृतक का परिवार क्षेत्र में खासा रसूख रखता है। पुलिस आरोपियों की तलाश में जुटी है। वहीं, गोली कांड में कितने लोगों की संलिप्तता है, यह भी स्पष्ट नहीं है।
एडीशनल एसपी विक्रम सिंह ने घटना की वजह के पीछे समुदाय विशेष की आपसी रंजिश की आशंका जताई है। सरेराह हुए इस गोली कांड से क्षेत्र में दहशत का माहौल है। मृतक को पेट और पैर के बीच में गोली मारी गई है, जिसके बाद जिला अस्पताल में उसे मृत घोषित कर दिया। मामले को राजनैतिक रसूख और कारोबारी विवाद से जोड़कर देखा जा रहा है। पुलिस मामले की हर पहलू से जांच कर रही है।
——–
राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने सभी विश्वविद्यालयों में कोविड सेल बनाने के निर्देश दिए है। उन्होंने समस्त कुलपतियों को विश्वविद्यालय परिसर में स्थित आवास में रहने के निर्देश भी दिए है। उन्होंने कहा है कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 को लागू करने संबंधी कार्यों को समय-सीमा में पूर्ण किया जाए। प्रभावी क्रियान्वयन के लिए निरंतर मानीटरिंग की व्यवस्था भी की जाए। राज्यपाल ने आज राजभवन में बी.आर. अम्बेडकर सामाजिक विज्ञान विश्वविद्यालय महू, मध्यप्रदेश भोज मुक्त विश्वविद्यालय भोपाल, पं. एस.एन. शुक्ल विश्वविद्यालय शहडोल और अटल बिहारी वाजपेयी हिन्दी विश्वविद्यालय भोपाल के कुलपतियों के साथ विश्वविद्यालय की गतिविधियों के संबंध में जानकारी प्राप्त करने के दौरान निर्देश दिए।
——–
समाचारों के बीच में हम आपको यह जानकारी भी दे दें कि मौसम के अपडेट जानने के लिए समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के चेनल पर रोजाना अपलोड होने वाले वीडियो जरूर देखें। मौसम से संबंधित अपडेट मूलतः किसानों, निर्माण कार्य करवाने वालों आदि के लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं। समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के द्वारा अब तक मौसम के जो पूर्वानुमान जारी किए गए हैं, वे 95 से 99 फीसदी तक सही साबित हुए हैं।
——–
प्रदेश में मंत्री, सांसदों और विधायकों के नाम पर तबादलों को लेकर किए जा रहे फर्जीवाड़े के खुलासे के बाद भोपाल क्राइम ब्रांच हरकत में आ गई है। क्राइम ब्रांच ने इस मामले में तीन टीमों को जांच में लगाया गया है। पुलिस ने पूरे मामले में गंभीरता से जांच शुरू कर दी है। तीन टीमों से दो टीमें देवास और राजगढ़ के लिए रवाना की गई हैं, जहां के सांसदों क्रमशरू महेंद्र सिंह सोलंकी और रोडमल नागर के नाम से ट्रांसफर के लिए फर्जी अनुशंसाएं भेजी गईं। इस मामले को पुलिस के आला अधिकारियों ने चुनौती की तरह लिया है।
मुख्यमंत्री कार्यालय के उच्च पदस्थ सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि मुख्यमंत्री कार्यालय से गुरूवार को शिकायत मिली। इसमें भोपाल सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर, देवास सांसद महेंद्रसिंह सोलंकी और राजगढ़ सांसद रोडमल नागर के अलावा सिलवानी जिला रायसेन के विधायक रामपाल सिंह के लेटरहेड पर कुछ लोगों के नाम देकर तबादले की अनुशंसा की गई थी। जब इन सांसदों व विधायक से संपर्क कर उनसे इन तबादलों के बारे में बात की गई तो उनकी ओर से ऐसी कोई अनुशंसा किए जाने से साफ इंकार कर दिया गया। इसके बाद मामले को लेकर शिकायती आवेदन क्राइम ब्रांच को मिला। इस मामले में एएसपी गोपाल धाकड़ का कहना है कि आरोपितों की तलाश के तीन टीमें बनाई गई हैं, जो जांच में जुटी हैं।
——–
सोन चिरैया की वापसी नए हैबिटेट में कराने की तैयारी है। वन विभाग एक हजार हेक्टेयर में सोन चिरैया का प्राकृतिक वास तैयार करेगा। 2011 में आखिरी बार दिखने वाली सोन चिरैया अब दोबारा दिखने की उम्मीद है। यह पूरा हैबिटेट फेंसिंग से कवर होगा और कूनो नेशनल पार्क से नए हैबिटेट के लिए घास भी लाई जाएगी। इस नए हैबिटेट को तिघरा, सुजवाया,पवा से आगे के क्षेत्र में तैयार किया जाएगा,इस क्षेत्र को पैच बतौर तैयार किया जाएगा,जिसमें मार्किंग भी कराई जाएगी। वन विभाग का दावा है कि इसका हैबिटेट इस तरह तैयार किया जाएगा कि सोन चिरैया अपने वास के लिए यहां मौजूदगी दर्ज कराएगी। वहीं सोन चिरैया को लेकर विभाग को मिलने वाले हर साल 75 लाख रूपए के बजट में से आधा ही खर्च हो पाता है। इस साल 35 लाख का बजट भी सरेंडर करना पडा है।
ज्ञात रहे कि सोन चिरैया अभयारण्य घाटीगांव को 1981 में अधिसूचित किया गया था। इसका क्षेत्रफल 512 वर्ग किलोमीटर था लेकिन अब डी-नोटिफिकेशन की प्रक्रिया के बाद यह घट गया है। यह एरिया सिर्फ ग्वालियर जिले का है। 2008 में घायल अवस्था में सोन चिरैया को देखा गया था। इसके बाद 2011 में सोन चिरैया को देखा गया,इसे वन विभाग ने अपने रिकार्ड में भी दर्ज किया है। 2011 से लेकर अब तक इस अभयारण्य में सोनचिरैया की उपस्थिति नहीं देखी गई।
——–
आप सुन रहे थे रीना सिंह से समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया की साई न्यूज की समाचार श्रंखला में शुक्रवार 30 जुलाई 2021 का प्रादेशिक आडियो बुलेटिन। रविवार 01 अगस्त 2021 को एक बार फिर हम आडियो बुलेटिन लेकर हाजिर होंगे, अगर आपको यह आडियो बुलेटिन पसंद आ रहे हों तो आप इन्हें लाईक, शेयर और सब्सक्राईब जरूर करें, सब्सक्राईब कैसे करना है यह हर वीडियो के आखिरी में हम आपको बताते ही हैं। फिलहाल इजाजत लेते हैं, नमस्कार।
(साई फीचर्स)

———