जगह-जगह खाली पड़े प्लाट बने डस्ट बिन

बारिश का भरा पानी बन रहा मच्छरों की नर्सरी!
(अखिलेश दुबे)
सिवनी (साई)। नगर पालिका की कथित अनदेखी के चलते शहर भर में रिक्त पड़े भूखण्डों को लोगों ने कचरा फेंकने के लिये मुफीद स्थान बना लिया है। इन खाली पड़े प्लाट्स में बारिश का भरा पानी मच्छरों के प्रजनन के लिये उपजाऊ माहौल तैयार कर रहा है तो इन प्लाट्स में सूअरों ने भी बच्चे देना आरंभ कर दिया है।
नगर के सभी 24 वार्डों में रिक्त पड़े प्लाट्स में आसपास के लोगों द्वारा कचरा, बेकार सामग्री फेंके जाने से खुले पड़े प्लाट में जहाँ गंदगी लगातार बढ़ रही है वहीं लोगों के स्वास्थ्य पर भी विपरीत असर पड़ रहा है। प्लाट में बारिश के इस मौसम में बड़ी – बड़ी झाड़ी, गाजर घास ऊग चुकी हैं। गाजर घास से निकलने वाले परागकण उड़कर लोगों के शरीर में खुजली का कारण बन रहे हैं।
नगर के टैगोर वार्ड, कबीर, विवेकानंद वार्ड, किंदवई वार्ड, अकबर, महामाया वार्ड में लगे गंदगी के ढेर कॉलोनी के निवासियों के लिये सिरदर्द बन गये हैं। कॉलोनी के बीच में एक प्लाट पर एकत्र गंदगी ने लोगों का जीना मुहाल कर दिया है। इसे देखकर सरकार का स्वच्छ भारत का सपना हवा हवाई सा नजर आता है।
कॉलोनी के निवासियों में शामिल सुरेश यादव, मनीष जंघेला, दीपक यादव, गेंदलाल शर्मा, लक्ष्मण उईके, प्रदीप शर्मा, प्रशांत उईके, मनोहर धुर्वे, जयनाथ दुबे, सोनम मिश्रा, चमरू लाल पंचेश्वर, दिनेश पंचेश्वर, हितेश, अजय माना ठाकुर, सुरेश माना ठाकुर, प्रतिभा ठाकुर, आरती ठाकुर, माया, सोनाली ठाकुर आदि ने बताया कि न तो यहाँ सफाई करने के लिये कोई कर्मचारी आते हैं और न ही सही समय पर नगर पालिका द्वारा लगायी गयी गाड़ी इन कचरों को उठाने के लिये आती है।
नागरिकों का कहना है कि यहाँ जो गाड़ी आती है वह सिर्फ घरों से निकलने वाला कचरा लोगों द्वारा गाड़ी में डाले जाने के बाद उसे बाहर ठिकाने लगाती है। वहीं खुले स्थान, खाली पड़े रिक्त प्लाट में पड़े कचरे को उठाने का कोई बंदोबस्त नहीं किया गया है। इसके चलते सभी स्थानों पर गंदगी का अंबार लगा हुआ है। लोगों का कहना है कि सड़क किनारे अगर कचरा मिलता है तो पालिका के ट्रैक्टर ट्रॉली वाले उसे उठा लेते हैं, पर खाली प्लाट्स पर किसी की नजरें नहीं जाती हैं।
उक्त संबंध में नागरिकों का आरोप है कि नगर पालिका के अधिकारियों को शिकायत करने के बाद भी समस्या जस की तस बनी हुई है। कॉलोनी वासियों ने कहा कि यहाँ के लोग नारकीय जीवन जीने को मजबूर हैं। लोगों ने बताया कि नगर पालिका की अनदेखी के कारण समस्या आ रही है। यह समस्या कई महीनों से बनी हुई है। अगर कोई कर्मचारी यहाँ आता है तो वह भी केवल खानापूर्ति करके चला जाता है।
नागरिकों ने बताया कि खाली पड़े प्लॉट में गंदगी इकठ्ठा होने से यहाँ कई बार सांप व अन्य जहरीले जीव निकल कर घरों में घुस भी चुके हैं। नागरिकों का कहना है कि यदि इन जंतुओं के काटने से कुछ हुआ तो इसका जिम्मेदार कौन होगा? बरसात का मौसम भी नियमित रूप से साफ – सफाई नहीं किये जाने के कारण कचरा गीला होकर सड़ रहा है और उससे उठने वाली दुर्गंध से लोगों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।