ईट राईट केंपस बना भोपाल एयरपोर्ट

नमस्कार, आप सुन रहे हैं समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया की साई न्यूज की समाचार श्रृंखला में बुधवार 04 अगस्त 2021 का प्रादेशिक आडियो बुलेटिन, अब आप रीना सिंह से समाचार सुनिए.
——–
वरिष्ठ बीजेपी नेता और पूर्व मंत्री अनूप मिश्रा ने अपनी ही सरकार को कठघरे में खड़ा किया है। उन्होंने बाढ़ से निपटने की रणनीति को लेकर सरकार के अधिकारियों पर सवाल किया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में बाढ़ के हालात सरकारी लापरवाही के कारण हुई है। अनूप मिश्रा ने कहा कि अगर हमको जानकारी थी कि इस बार भारी बारिश होगी तो फिर अधिकारियों ने पहले से क्यों ध्यान नहीं दिया।
उन्होंने यह भी साफ कहा कि सिंचाई विभाग और मौसम विभाग का आपस में कोई तालमेल नहीं था।अनूप मिश्रा ने कहा कि इस संबंध में उन्होंने मंत्री तुलसी सिलावट को पत्र लिखकर कहा था कि इन सारी गलतियों के लिए किसी न किसी की जवाबदेही तय की जानी चाहिए कि आखिर गलती किससे हुई है। कलेक्टर और कमिश्नर और पुलिस अधिकारियों ने पहले गांव को खाली नहीं कराया।
अनूप मिश्रा ने कहा कि जिस पानी को डायवर्ट किया जा सकता था, उसको डायवर्ट नहीं किया गया। उसी का परिणाम पूरा प्रदेश भुगत रहा है। उन्होंने साफ तौर पर कहा कि रोड धंस गए और बांध टूट गए हैं। अनूप मिश्रा ने कहा कि पुराने पुल खड़े और नए पुल टूट रहे हैं।
——–
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में कल 71 हजार 103 टेस्ट किये गये हैं। इनमें 28 पॉजिटिव आये हैं। प्रदेश में पॉजिटिव आने की संख्या घटकर 6 तक हो गई थी। अब बढ़ते-बढ़ते यह 28 तक पहुंच गई है। दमोह में 15 और सागर में 7 पॉजिटिव केस आये हैं। बुंदेलखण्ड में पॉजिटिव केस मिलना चिंता का विषय है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने स्मार्ट उद्यान में मीडिया के प्रतिनिधियों से चर्चा के दौरान यह बात कही।
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए सतर्कता जरूरी है। प्रदेशवासी मास्क लगाने, सोशल डिस्टेंसिंग जैसी सावधानियों का अनिवार्यतरू पालन करें। शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेशवासियों से अपील करते हुए कहा कि बहुत अधिक सावधानी की आवश्यकता है। पड़ोसी राज्य छत्तीसगढ़ में भी केस बढ़ रहे हैं। केरल की स्थिति भी सामने है। अतरू प्रदेशवासी सतर्क और सावधान रहकर तीसरी लहर को रोकने में सहयोग प्रदान करें।
——–
मध्य प्रदेश के ग्वालियर-चंबल अंचल में बाढ़ से हालात बेकाबू हो गए हैं। अभी तक 7 लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है, 25 लोग लापता हैं। जिनकी तलाश रेस्क्यू टीम कर रही हैं। श्योपुर, शिवपुरी, भिंड, मुरैना, दतिया, गुना और ग्वालियर में नदियों के किनारे बसे 1225 गांवों से 5800 लोगों को रेस्क्यू किया। दतिया में बड़ी आबादी वाले कस्बे सेंवढ़ा को बाढ़ के खतरे के कारण खाली करा लिया गया है। शिवपुरी के 100 से ज्यादा गांव खाली करवाए गए हैं। मंत्री महेन्द्र सिंह सिसोदिया का कहना है कि करीब 2 हजार लोग शिवपुरी में फंसे हुए हैं। पूरे अंचल में बाढ़ का केन्द्र शिवपुरी बना हुआ है।
इसके अलावा ग्वालियर-चंबल अंचल में 2000 से ज्यादा लोग प्रशासन से मदद की आस लगाए बैठे हैं। मंगलवार रात से ही सेना के 4 अलग-अलग दलों ने मोर्चा संभाल लिया है। मुख्यममंत्री ने भी कहा है कि संकट बहुत बड़ा है और सेना की मदद ले रहे हैं। बता दें मुख्यमंत्री आज चंबल क्षेत्र का हवाई सर्वे भी करेंगे। बुधवार को मुख्यहमंत्री शिवराज सिंह भोपाल से ग्वालियर पहुंच गए हैं। उन्होंने एयरफोर्स और प्रशासनिक अफसरों से बातचीत की। बातचीत के बाद मुख्यजमंत्री शिवराज सिंह ग्वालियर एयरपोर्ट से हेलिकॉप्टर से वह श्योपुर-शिवपुरी में एरियल सर्वे करने निकल गए हैं। प्रधानमंत्री मोदी दो बार मुख्यमंत्री से चर्चा का हालात पर बात कर चुके हैं।
——–
राजाभोज एयरपोर्ट का चयन देश में पहले ईटराइट कैम्पस के तौर पर हुआ है। इसके लिए 20 दिन पूर्व एफएसएसएआइ की तरफ से दिल्ली से ऑडिट टीम निरीक्षण करने आई थी। तीन सदस्यीय टीम ने कैंटीन में मिलने वाले खाने, नाश्ते से लेकर पानी तक की जांच की।
यहां खाना और पानी दोनों ही एफएसएसएआइ (भारतीय खाद्य संरक्षा एवं मानक प्राधिकरण) के स्टेंडर्ड पर खरे उतरे हैं। इसके अलावा कैम्पस में साफ सफाई को लेकर भी टीम ने नब्बे नंबर दिए हैं। जले हुए खाद्य तेल को बायोडीजल बनाने के लिए दिया जाता है। बार-बार खाद्य ऑयल का उपयोग नहीं किया जाता। इस सर्टिफिकेट को जारी करने से पहले देश के कई एयरपोर्ट का निरीक्षण टीम ने किया।
कई पैरामीटर पर खरा उतरने के बाद 30 जुलाई को ये सर्टिफिकेट एफएसएसएआइ के चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर अरुण सिंघल ने जारी किया है। भोपाल के मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी अरुणेश पटेल ने इसकी पुष्टि की है कि राजाभोज एयरपोर्ट देश का पहला ईटराइट चौलेंज कैम्पस बना है। इससे पहले मप्र में जेपी अस्पताल को ईट राइट कैम्पस का दर्जा मिल चुका है। यहां मरीजों को दिए जाने वाले खाने से लेकर साफ सफाई में ये कैम्पस नंबर वन रहा।
——–
कभी फर्जी पत्रकार, कभी क्राइम ब्रांच का अधिकारी और जवान बनने के आरोपियों के एक के बाद एक करतूतें सामने आ रही हैं। मंगलवार को गढ़ा पुलिस ने एक फर्जी पत्रकार पर एक और मामला दर्ज किया। इसके बाद फर्जी पत्रकारों पर दर्ज मामलों की संख्या छह हो गई है। गढ़ा पुलिस के अनुसार फर्जी पत्रकार ने एक मकान पर कब्जा कर रखा था और वृद्धा से पांच लाख रुपए की मांग कर रहा था। मांग पूरी न होने पर फर्जी मामले में फंसाने की धमकी दी थी। गढ़ा पुलिस ने बताया कि नारायण नगर में 62 वर्षीया सिया बाई पाठक का घर है। वहां फर्जी पत्रकार शैलेंद्र गौतम, उसकी मां और बहन दो साल से रह रहे हैं। वह न तो सिया बाई को किराया देता था और न मकान खाली कर रहा था।
सिया बाई ने एसडीएम कार्यालय में आवेदन दिया। इस पर सुनवाई करते हुए एसडीएम ने पांच नवम्बर 2020 को मकान खाली करने का आदेश दिया। इसके बावजूद गौतम परिवार ने मकान खाली नहीं किया। 23 जुलाई की दोपहर शैलेंद्र ने सिया बाई से पांच लाख रुपए मांगे और अभद्रता कर उसे व उसके बेटे सुशील को फर्जी मामले में फंसाने की धमकी दी। मामले की शिकायत सिया बाई ने पुलिस अधिकारियों से की थी। पुलिस ने मामले में एफआईआर की। पुलिस जांच कर रही है।
——–
समाचारों के बीच में हम आपको यह जानकारी भी दे दें कि मौसम के अपडेट जानने के लिए समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के चेनल पर रोजाना अपलोड होने वाले वीडियो जरूर देखें। मौसम से संबंधित अपडेट मूलतः किसानों, निर्माण कार्य करवाने वालों आदि के लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं। समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के द्वारा अब तक मौसम के जो पूर्वानुमान जारी किए गए हैं, वे 95 से 99 फीसदी तक सही साबित हुए हैं।
——–
सरकारी कॉलेजों में दिसंबर-2019 में भर्ती हुए असिस्टेंट लेक्चरर्स (सहायक प्राध्यापक) को सरकार ने झटका दिया है। इनके दो वर्ष की प्रोबेशन पीरियड पूरा करने के बाद ट्रांसफर होंगे। उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव ने कहा, मुख्यमंत्री द्वारा स्थानांतरण नीति तय की गई है। इसके तहत जो भी विभागों के प्रोबेशन पीरियड के अभ्यर्थी होंगे, उनके दो वर्ष के बाद ही ट्रांसफर किए जाएंगे।
मंत्री यादव ने कहा, असिस्टेंट लेक्चरर्स को भी यह अवधि पूरी करना होगी। जिन्होंने आवेदन दिए हैं, वे प्रोबेशन पीरियड पूरा कर लें। विभाग की सहानुभूति उनके साथ है।
——–
मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ की मंगलवार को दिल्ली में राहुल गांधी से मुलाकात हुई। कयास लगाए जा रहे थे कि मध्य प्रदेश में उपचुनाव को लेकर यह मुलाकात हुई है। कमलनाथ ने बाद में साफ कर दिया कि यह बैठक पंजाब सहित 5 राज्यों में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारी व संगठन के मुद्दों पर को लेकर हुई है। मध्य प्रदेश में 1 लोकसभा और 3 विधानसभा सीटों पर होने वाले चुनाव को लेकर उन्होंने कहा कि राहुल गांधी उपचुनाव के मामलों में नहीं पड़ते हैं। यह पूरी तरह से स्थानीय होता है।
कमलनाथ के इस बयान से यह भी साफ हो गया कि खंडवा सीट पर उम्मीदवार चयन को लेकर हाईकमान का दखल नहीं रहेगा। दरअसल, पूर्व पीसीसी चीफ अरुण यादव की उम्मीदवारी को लेकर कांग्रेस दो धड़ों में बंट गई है। यादव पिछले कई दिनों से खंडवा लोकसभा क्षेत्र में सक्रिय है। जबकि कमलनाथ ने कहा कि सर्वे रिपोर्ट के आधार पर ही टिकट दिया जाएगा। पिछले सप्ताह भी उप चुनाव को लेकर कमलनाथ ने बैठक बुलाई थी, इसमें अरुण यादव के शामिल नहीं होने के बाद विवाद खड़ा हो गया है। जबकि इस बैठक में प्रदेश प्रभारी मुकुल वासनिक दिल्ली से भोपाल शामिल होने आए थे।
——–
आप सुन रहे थे रीना सिंह से समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया की साई न्यूज की समाचार श्रंखला में बुधवार 04 अगस्त 2021 का प्रादेशिक आडियो बुलेटिन। ब्रहस्पतिवार 05 अगस्त 2021 को एक बार फिर हम आडियो बुलेटिन लेकर हाजिर होंगे, अगर आपको यह आडियो बुलेटिन पसंद आ रहे हों तो आप इन्हें लाईक, शेयर और सब्सक्राईब जरूर करें, फिलहाल इजाजत लेते हैं, नमस्कार।
(साई फीचर्स)

———