बालाघाट संसदीय क्षेत्र के सिवनी जिले के हिस्से में अमान परिवर्तन के काम का भगवान ही मालिक! : सूत्र

चौरई से छिंदवाड़ा विद्युतीकरण हो जाएगा इसी साल दीपावली तक पूरा, नैनपुर से भोमा होगा होली के पहले
(अखिलेश दुबे)


सिवनी (साई)। छिंदवाड़ा से चौरई के बीच के रेलखण्ड के विद्युतीकरण का काम बहुत ही दु्रत गति से चल रहा है। यह काम इस साल नवंबर तक एवं नैनपुर से भोमा के बीच के विद्युतीकरण के काम को अगले साल मार्च के पहले पूरा कर लिया जाएगा। चौरई से सिवनी होकर भोमा के बीच के काम का भगवान ही मालिक है।


उक्ताशय की बात रेल्वे के उच्च पदस्थ्स सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया से चर्चा के दौरान कही। सूत्रों ने बताया कि छिंदवाड़ा के कांग्रेस के सांसद नकुल नाथ के द्वारा अधिकारियों को दो टूक शब्दों में निर्देश दिए गए हैं कि किसी भी कीमत पर चौरई से छिंदवाड़ा के बीच के रेलखण्ड का काम विद्युतीकरण के साथ इस साल दीपावली के पूर्व पूरा कर लिया जाना चाहिए, सांसद के द्वारा दिए गए कड़े निर्देशों का ही फल है कि छिंदवाड़ा से चौरई के बीच पटरी बिछने के बाद विद्युतीकरण का काम बहुत तेज गति से चालू हो चुका है।


सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को आगे बताया कि इधर, मण्डला से नैनपुर होकर भोमा तक जो कि मण्डला संसदीय क्षेत्र का हिस्सा है में पटरी डालने के बाद सीआरएस हो चुका है। इस रेलखण्ड में मण्डला संसदीय क्षेत्र के सिवनी जिले के हिस्से में नैनुपर सीमा से केवलारी, पलारी, कान्हीवाड़ा होकर भोमा तक के रेलखण्ड के विद्युतीकरण का काम दीपावली तक पूरा किए जाने के स्पष्ट निर्देश मण्डला के सांसद फग्गन सिंह कुलस्ते के द्वारा दिए गए।


सूत्रों की मानें तो अधिकारियों के द्वारा जब इस काम को कम से कम एक साल की अवधि में पूरा किए जाने की बात कही गई तो फग्गन सिंह कुलस्ते के द्वारा 2022 की होली तक किसी भी कीमत पर काम पूरा करने का अल्टीमेटम दिया जाकर यह तक कह दिया गया कि अधिकारी अगर ठेकेदार से काम नहीं करा सकते हैं तो वे तबादले के लिए तैयार रहें। सांसद केे इस रूख को देखते हुए अधिकारियों ने काम को गति प्रदाय कर दी है और काम अगले साल होली के पहले पूरा होने की उम्मीद जाग गई है।


सूत्रों ने आगे बताया कि इधर, बालाघाट संसदीय क्षेत्र के सिवनी जिले के हिस्से में भोमा से सिवनी होकर चौरई की सीमा तक के काम के बारे में अधिकारियों का भी स्पष्ट कहना है कि पूरा काम भगवान भरोसे ही है। भोमा से सिवनी के बीच ही पटरी अभी तक बिछ नहीं पाई हैं, तो विद्युतीकरण की बात तो दिल्ली दूर है की कहावत को चरितार्थ करती प्रतीत हो रही है।


सूत्रों ने बताया कि अधिकारियों के बीच यह चर्चा तेजी से चल रही है कि बालाघाट के सांसद डॉ. ढाल सिंह बिसेन बहुत ही सरल हृदय हैं, और अधिकारी उन्हें जैसा समझा रहे हैं, वे उस हिसाब से ही काम कर रहे हैं। यहां तक कि कई बार तो अधिकारियों के द्वारा कही गई बातों पर एतबार करते हुए उनके द्वारा अधिकारियों के पक्ष में ही बयान दिए जाते रहे हैं। सूत्रों ने कहा कि जिस गति से सिवनी से भोमा व सिवनी से चौरई के बीच काम की गति है उसे देखते हुए अधिकारियों की यह बात कि यहां अमान परिवर्तन भगवान भरोसे ही है की बात पर बल मिलता दिखता है।

भोमा से सिवनी होकर चौरई तक के काम का नया लक्ष्य दिसंबर 2021 प्राप्त हुआ है। सिवनी से भोमा के बीच तीन किलोमीटर के हिस्से में पटरी नहीं डाली गई है। सांसद डॉ. ढाल सिंह बिसेन के द्वारा जून 2021 का लक्ष्य दिया गया था। वे भी हमसे (रेल्वे से पूछकर) ही लक्ष्य निर्धारित करते हैं। ठेकेदार के काम की गति बहुत धीमी होने के कारण काम प्रभावित हो रहा है। फिलहाल ठेकेदार को एक पत्र जारी किया है।
मनीष लावणकर,
डिप्टी एस.ई, रेल्वे,
नैनपुर
(क्रमशः जारी)