किसानों के पक्ष में आवाज उठाते दिखे बीजेपी सांसद वरूण गांधी!

नमस्कार, ये समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया है। अब आप साई न्यूज की समाचार श्रंखला में सुनिये रविवार 05 सितंबर का राष्ट्रीय ऑडियो बुलेटिन.
——–
नरेंद्र मोदी सरकार के तीनों कृषि कानूनों का विरोध बढ़ता ही जा रहा है। एक लंबा समय बीत चुका है किसानों को धरना-प्रदर्शन करते हुए लेकिन अब तक इसका समाधान नहीं निकल पाया है। रविवार को एक बार फिर उत्तर प्रदेश के मुजफ्फर नगर में कृषि कानूनों के विरोध में किसानों की महापंचायत चल रही है। इसमें 15 राज्यों से हजारों किसान शामिल हुए। अगले वर्ष उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं। भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत लगातार कहते आ रहे हैं कि किसान इन चुनावों में भारतीय जनता पार्टी को जमकर सबक सिखाएंगे।
मुजफ्फर नगर जाटलैंड का हिस्सा तो है ही, शहर के जिस जीआईसी ग्राउंड में महापंचायत चल रही है, वह मुस्लिम बहुल्य क्षेत्र है। महापंचायत के दौरान की एक तस्वीर वायरल हो रही है। इस फोटो में बस सवार प्रदर्शनकारी किसान हैं, जिन्हें एक मुस्लिम शख्स जलपान करा रहा है। इस तस्वीर से पता चलता है कि 2013 में यहां जो भयानक दंगे हुए थे, उसके जख्म अब भर गए हैं। जाट और मुस्लिमों का भाईचारा इन दंगों की भेंट चढ़ गया था, पर अब ऐसा लगता है कि मन के घाव धीरे-धीरे भरने लगे हैं। जाटलैंड में किसानों के शक्ति प्रदर्शन के बीच यह सवाल भी उठने लगे हैं कि क्या राकेश टिकैत एक बार फिर जाट-मुस्लिम पॉलिटिक्स साधने की कोशिश कर रहे हैं।
——–
पिछले दिनों उत्तर प्रदेश में एक कार्यक्रम के दौरान छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के पिता नंद कुमार बघेल ने ब्राह्मण समाज को लेकर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। अब इस मामले में छत्तीसगढ़ पुलिस ने भूपेश बघेल के पिता नंद कुमार बघेल के विरूद्ध मामला दर्ज किया है। पिता के ऊपर केस दर्ज होने पर प्रतिक्रिया देते हुए भूपेश बघेल ने कहा कि उनकी सरकार में कोई भी कानून के ऊपर नहीं है।
दरअसल पिछले दिनों लखनऊ में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के पिता नंद कुमार बघेल ने ब्राह्मण समाज पर आपत्तिजनक टिप्पणी करते हुए कहा था कि वोट हमारा राज तुम्हारा नहीं चलेगा। हम ब्राह्मणों को गंगा से वोल्गा भेजेंगे क्योंकि वो परदेशी हैं। जिस तरह से अंग्रेज लोग आए और चले गए। उसी तरह से ये ब्राह्मण लोग या तो सुधर जाएं या गंगा से वोल्गा जाने के लिए तैयार हों। नंद कुमार बघेल के इन बयानों के विरूद्ध रायपुर पुलिस ने धारा 153-ए और धारा 505-ए के तहत मामला दर्ज कर लिया। पुलिस ने सांप्रदायिक माहौल ख़राब करने और सामाजिक सद्भाव बिगाड़ने की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है।
——–
कृषि कानूनों के विरूद्ध उत्तर प्रदेश के मुजफ्फर नगर जिले के जीआईसी मैदान पर जारी किसान महापंचायत के बीच प्रदर्शनकारी किसानों को भारतीय जनता पार्टी के सांसद वरुण गांधी का साथ मिला है। भले ही केंद्र सरकार और पार्टी कृषि कानूनों की वापसी को नकार रहे हैं, लेकिन भारतीय जनता पार्टी सांसद वरुण गांधी किसानों के पक्ष में आज आवाज उठाते दिखे। किसान महापंचायत के इतर रविवार को बीजेपी सांसद वरुण गांधी ने किसानों का दर्द समझने की अपील की है और कहा है कि वे अपने ही खून हैं और हमें उनका दर्द समझना होगा।
पीलीभीत से भारतीय जनता पार्टी सांसद वरुण गांधी ने अपने आधिकारिक ट्विटर एकाउंट से ट्वीट कर कहा, मुजफ्फरनगर में आज प्रदर्शन के लिए लाखों किसान जुटे हैं। वे हमारा ही खून हैं। हमें उनके साथ फिर से सम्मानजनक तरीके से जुड़ने की आवश्यकता है। उनका दर्द समझें, उनका नजरिया देखें और जमीन तक पहुंचने के लिए उनके साथ काम करें। वरुण ने इसके साथ ही एक वीडियो भी ट्वीट किया है, जो किसान महापंचायत का लग रहा है।
——–
किसानों का भारत बंद अब 25 सितंबर की बजाए 27 सितंबर को होगा। महापंचायत के दौरान किसान मोर्चा ने इस बात का ऐलान किया। गौरतलब है कि केंद्र द्वारा बनाए गए तीन कृषि कानूनों को वापस लेने के लिए किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं। लगभग नौ महीने से किसान दिल्ली बॉर्डर पर जुटे हुए हैं, लेकिन सरकार उनकी मांग पर ध्यान नहीं दे रही है। वहीं किसानों ने भी ठान लिया है कि वे अपनी मांग मनवाकर रहेंगे। इसके लिए किसानों ने 25 सितंबर को भारत बंद का ऐलान किया था लेकिन रविवार को इस आंदोलन की तारीख बदलकर 27 सितंबर कर दी गई है।
——–
काँग्रेस पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी दो दिन के जम्मू दौरे पर जाएंगे। वे 09 और 10 सितंबर को केंद्र शासित प्रदेश के जम्मू संभाग में रहेंगे। इस दौरान वे माता वैष्णो देवी के भवन में भी अपनी उपस्थिति दर्ज करवा सकते हैं। राहुल गांधी एक महीने में दूसरी बार जम्मू-कश्मीर जाएंगे। इससे पहले 10 अगस्त को उन्होंने कश्मीर संभाग में दो दिन बिताये थे। इस दौरान उन्होंने गांदरबल में कश्मीरी पंडितों की आस्था के केंद्र खीर भवानी मंदिर के साथ हजरत बल दरगाह पर सजदा किया था। राहुल गांधी केंद्र शासित प्रदेश में ऐसे समय में सक्रिय हुए हैं, जब वहां चुनाव को लेकर सुगबुगाहट आरंभ हो गई है।
——–
समाचारों के बीच में हम आपको यह जानकारी भी दे दें कि मौसम के अपडेट जानने के लिए समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के चैनल पर प्रतिदिन अपलोड होने वाले वीडियो अवश्य देखें। मौसम से संबंधित अपडेट मूलतः किसानों, निर्माण कार्य, यात्रा या समारोह आदि के लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं। समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के द्वारा अब तक मौसम के जो पूर्वानुमान जारी किए गए हैं, वे 95 से 99 प्रतिशत तक सही साबित हुए हैं।
——–
जलियांवाला बाग . . . इसकी एक ही कहानी है, यानी मौत की कहानी। जिसे देख, सुन और सोच हमारी रूह कांप जाए। . . . और एक ही परिणति- 28 वर्ष बाद देश को हासिल आजादी। 13 अप्रैल 1919, दिन रविवार, बैसाखी का उल्लास। अमृतसर के जलियांवाला बाग में लोगों की भीड़ और रौलेट एक्ट का विरोध। शाम होते-होते जनरल डायर आता है और सिपाहियों को फायर का ऑर्डर देता है . . . कहते हैं उस दिन लगभग एक हजार भारतीय गोलियों से भून दिए गए।
101 वर्ष बाद भी जलियांवाला बाग मौत की उन निशानियों को लिए सांस ले रहा है, लेकिन अब बहुत कुछ बदल दिया गया है। अब बाग में दाखिल होने की गली से गुजरते हुए वो खौफ महसूस नहीं होता, न दीवार छूने पर हड्डियों में सिहरन होती है। अब एंट्रेस गली में लगे बुतों के साथ लोग सेल्फी ले रहे हैं। और बुतों के चेहरों पर भी मातम के स्थान पर खुशियों की लकीरें हैं। सरकार ने जलियांवाला बाग में रेनोवेशन कराए हैं।
——–
गुजरे जमाने की मशहूर अभिनेत्री और अभिनेता दिलीप कुमार की पत्नि सायरा बानो का हिंदुजा अस्पताल में उपचार करने वाले डॉक्टर नितीन गोखले ने एक इंटरव्यू में बातचीत के दौरान उनकी वर्तमान स्वास्थ्य स्थिति के बारे में बताया और कहा कि वे अब ठीक हैं। दरअसल इंटरनेट पर कुछ रिपोटर््स हैं, जिसका श्रेय एक डॉक्टर को दिया जाता है, जिसमें कहा गया है कि सायरा बानो हिंदुजा के डॉक्टर्स को अपनी एंजियोग्राफी नहीं करने दे रही हैं (क्योंकि उनका वेंट्रिकुलर फेल हो गया है) और वे डिप्रेशन से जूझ रही हैं लेकिन यह रिपोर्ट सच साबित नहीं हुई है।
डॉ.नितीन गोखले इसे स्पष्ट करते हुए कहते हैं, सायरा बानो डिप्रेशन से नहीं जूझ रही हैं, साथ ही उन्हें बिल्कुल भी मुश्किल नहीं हो रही है, जिसका दूसरे शब्दों में मतलब है कि वे एंजियोग्राफी से परहेज नहीं कर रही हैं। डॉगोखले आगे कहते हैं, जैसा कि मैंने आपको पिछली बार बताया था कि एंजियोग्राफी बाद की तारीख में की जाएगी जब हम उनकी डायबिटीज को कंट्रोल कर लेंगे। तो उसके लिए न कहने का सवाल ही नहीं है?
——–
चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर का काँग्रेस में जाना लगभग तय है, लेकिन उन्हें कौन सी भूमिका दी जाए इसको लेकर गांधी परिवार यानी राहुल, प्रियंका और उनकी माँ सोनिया गांधी के बीच मंथन जारी है।
इन सबके बीच काँग्रेस में प्रशांत किशोर की एंट्री को लेकर पार्टी के बड़े नेताओं में नाराजगी की बात सामने आ रही है। काँग्रेस के एक सीनियर लीडर ने नाम गुप्त रखने की शर्त पर बातचीत के दौरान प्रशांत किशोर यानी पीके को फुस्स बम तक कह डाला। वहीं दूसरे वरिष्ठ नेता ने भी नाम गुप्त रखने की शर्त पर साफ कहा, पीके यदि काँग्रेस में शामिल होते हैं तो काँग्रेस की जीत हो न हो, भारतीय जनता पार्टी की जीत अवश्य होगी। उन्होंने यह भी कहा कि पार्टी के भीतर दिग्गजों की भरमार है, लेकिन लंबे समय से बड़े नेताओं की पार्टी में अनदेखी की जा रही है। उसी का खामियाजा काँग्रेस उठा रही है।
———
आप सुन रहे थे समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया की साई न्यूज की समाचार श्रंखला में शरद खरे से रविवार 05 सितंबर का राष्ट्रीय ऑडियो बुलेटिन। सोमवार 06 सितंबर को एक बार फिर हम ऑडियो बुलेटिन लेकर उपस्थित होंगे, आपको ये ऑडियो बुलेटिन यदि पसंद आ रहे हों तो आप इन्हें लाईक, शेयर और सब्सक्राईब अवश्य करें। अभी आपसे अनुमति लेते हैं, जय हिन्द।
(साई फीचर्स)