पितृ पक्ष में तर्पण हेतु लखनवाड़ा तट पर है निशुल्क व्यवस्था

(संजीव प्रताप सिंह)
सिवनी (साई)। माना जाता है कि पितृ पक्ष के दौरान पुरखे पृथ्वी के बहुत करीब होते हैं। घर के दिवंगत बुजुर्गों को याद कर उनकी आत्मा की शांति के लिए पितृ पक्ष में तर्पण किया जाता है। सिवनी के लखनवाड़ा घाट पर पितृ तर्पण के लिए निशुल्क व्यवस्थाएं की गईं हैं।
बारापत्थर स्थित कपीश्वर हनुमान मंदिर के मुख्य पुजारी पंडित उपेंद्र तिवारी ने बताया कि पितृ पक्ष में यह व्यवस्था पूरी तरह निशुल्क है और कोई भी इसमें हिस्सा ले सकता है। सुबह 06 बजे से 09 बजे तक पितृ पक्ष में तर्पण कराया जाएगा।
उन्होंने बताया कि पितृ पक्ष के दौरान तर्पण श्राद्ध किया जाता है। मान्यता है कि पितृ पक्ष के दिनों में यमराज आत्मा को मुक्त कर देते हैं। जिससे वे अपने परिजनों के यहां जाकर तर्पण ग्रहण कर सकें। पितृ पक्ष में पितरों का तर्पण करने से पितृ दोष दूर होता है। ज्योतिष शास्त्र में पितृ दोष को अशुभ फल देने वाला माना गया है। अतः श्राद्ध में पितरों का तर्पण करने से पितृ दोष से आने वाली परेशानियां दूर होती हैं और पितरों का आशीर्वाद मिलता है। पितृ पक्ष के दौरान मृत परिजनों की आत्मा को शांति प्रदान करने के लिए तर्पण किया जाता है।